अंडकोष में दर्द क्यों होता है और इसका इलाज कैसे करें

अंडकोष में दर्द तंत्रिका क्षति, यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई), गैंग्रीन, सूजन, हर्निया, गुर्दे की पथरी, बढ़ी हुई नसों, अंडकोष में तरल पदार्थ जमने, या वृषण मरोड़ के नाम से जानी जाने वाली गंभीर स्थिति के कारण हो सकता है।

अंडकोष अंडे के आकार के प्रजनन अंग होते हैं जो लिंग के निचले हिस्से में स्थित होते हैं। इस क्षेत्र में मामूली चोट लगने के कारण अंडकोष में दर्द हो सकता है, लेकिन आपको अन्य लक्षणों का मूल्यांकन करने की भी आवश्यकता है।

अंडकोश में दर्द वृषण मरोड़ या यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) जैसी गंभीर स्थितियों का परिणाम भी हो सकता है। इसलिए इस दर्द को नजरअंदाज करने से अंडकोष को स्थाई क्षति पहुँच सकती है।

अंडकोष की समस्याएं होने पर अक्सर अंडकोष में दर्द विकसित होने से पहले पेट या कमर में दर्द विकसित होता है। इसलिए आपके डॉक्टर द्वारा अस्पष्टीकृत पेट या कमर दर्द का भी मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

अंडकोष में दर्द के सामान्य कारण क्या हैं?

आघात या चोट लगने से अंडकोष में दर्द हो सकता है, लेकिन यह अक्सर किसी अन्य चिकित्सीय समस्या का परिणाम होता है जिसका उपचार कराया जाना आवश्यक है। इन चिकित्सीय समस्याओं में निम्न शामिल हैं:

  • डायबिटिक न्यूरोपैथी के कारण अंडकोश की नसों को नुकसान पहुँचना। डायबिटिक न्यूरोपैथी एक प्रकार की तंत्रिका क्षति है जो डायबिटीज होने पर हो सकती है। शुगर का उच्च स्तर पूरे शरीर में नसों को घायल कर सकता है, जिसमें अंडकोष की नसें भी शामिल हैं।
  • एपिडीडिमाइटिस, या अंडकोष की सूजन, जो क्लैमाइडिया नामक यौन संचारित संक्रमण से होता है।
  • गैंग्रीन, या ऊतकों की मृत्यु, जो अंडकोष में आघात लगने या अनुपचारित वृषण मरोड़ के कारण हो सकता है।
  • हाइड्रोसील, या जलवृषण, जिसमें अंडकोष के ऊतकों में पानी भर जाता है और वह सूज जाते हैं। यह अंडकोष में चोट या इन्फ्लेमेशन के कारण हो सकता है।
  • वंक्षण हर्निया, एक ऐसी स्थिति जिसमें कोमल ऊतक, जो अक्सर आंतों में पाए जाते हैं, अंडकोष में एक कमजोर बिंदु के माध्यम से उभर आते हैं। यह परिणामी उभार दर्दनाक हो सकता है।
  • गुर्दे की पथरी।
  • बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण के कारण अंडकोष में सूजन और दर्द।
  • अधिवृषण नलिका, जहाँ शुक्राणु भंडारित होते हैं, में तरल पदार्थ जमा होना।
  • अंडकोष सामान्य रूप से थैली में उतरने के बजाय पेट में रहना, जिसे अवरोही अंडकोष कहा जाता है।
  • अंडकोष में बढ़ी हुई नसों का समूह होना, जिसे वृषण-शिरापस्फीति (varicocele) कहा जाता है।

कुछ मामलों में, अंडकोष में दर्द वृषण मरोड़ (टेस्टिकुलर टोरसन) नामक एक गंभीर चिकित्सा स्थिति के कारण हो सकता है। इस स्थिति में अंडकोष मुड़ जाता है, जिससे उसमें रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है। इससे ऊतकों को नुकसान हो सकता है।

वृषण मरोड़ एक आपातकालीन चिकित्सा स्थिति है जिसमें अंडकोष को नुकसान से बचाने के लिए जल्द से जल्द से इलाज किया जाना चाहिए। यह स्थिति 10 से 20 वर्ष की आयु के पुरुषों में अधिक बार होती है।

वृषण कैंसर के कारण अंडकोष में दर्द होना काफी दुर्लभ है। वृषण कैंसर के कारण आमतौर पर अंडकोष पर एक गांठ का बन जाती है, जो अक्सर दर्द रहित होती है।

 
 
 
 

आपको डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

यदि आपको अंडकोष में दर्द के साथ-साथ निम्न लक्षण अनुभव हो रहे हैं तो डॉक्टर से संपर्क करें:

  • आप अपने अंडकोष पर एक गांठ महसूस करते हैं
  • आपको बुखार है
  • आपका अंडकोष लाल है और स्पर्श करने पर गर्म या कोमल महसूस होता है
  • आप हाल ही में किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आए हैं जिसे कण्ठमाला रोग है। कण्ठमाला एक संक्रामक वायरल रोग है जिसके कारण चेहरे की कंठ लार ग्रंथियों में सूजन आ जाती है, और इसके कारण वयस्क पुरुषों में बाँझपन का खतरा होता है।

यदि आपको अंडकोष में दर्द के साथ-साथ निम्न लक्षण अनुभव हो रहे हैं तो तुरंत आपातकालीन चिकित्सा डॉक्टर से संपर्क करें:

  • दर्द अचानक से उठता है और काफी गंभीर होता है
  • आपका जी मचलता है और उल्टी का मन करता है
  • आपके अंडकोष में चोट लगी है जो काफी दर्दनाक है या एक घंटे में इसमें सूजन आ जाती है

अंडकोष में दर्द का इलाज कैसे किया जा सकता है?

ऐसा अंडकोष दर्द जिसे चिकित्सीय देखभाल की आवश्यकता नहीं है, निम्नलिखित उपायों का उपयोग करके घर पर इलाज किया जा सकता है:

  • अंडकोष को सहारा देने के लिए एथलेटिक सपोर्टर या एल-गार्ड पहनें। आप इसे ऑनलाइन खरीद सकते हैं।
  • अंडकोष में सूजन को कम करने के लिए बर्फ का प्रयोग करें।
  • गर्म पानी से स्नान करें।
  • लेटते समय अपने अंडकोष के नीचे एक लुढ़का हुआ तौलिया रखकर उसे सहारा दें।
  • दर्द कम करने के लिए एसिटामिनोफेन या इबुप्रोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाओं का उपयोग करें।

अधिक गंभीर दर्द में, आपको अपने डॉक्टर से उपचार लेने की आवश्यकता होगी। डॉक्टर आपके दर्द का कारण निर्धारित करने के लिए आपके पेट, कमर और अंडकोष का शारीरिक परिक्षण करेगा और आपसे आपकी वर्तमान स्वास्थ्य स्थितियों और अन्य लक्षणों के बारे में भी पूछेगा।

आपकी स्थिति का सटीक निदान करने के लिए, डॉक्टर आपके अतिरिक्त परिक्षण भी करवा सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • एक अल्ट्रासाउंड, जो अंडकोष और उसकी थैली का स्पष्ट चित्र बताएगा
  • वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण की जाँच के लिए मूत्र परिक्षण या वीर्य परिक्षण
  • प्रोस्टेट के स्त्राव का परिक्षण, जिसके लिए आपको एक गुदा परिक्षण से गुजरने की आवश्यकता होगी

एक बार जब डॉक्टर आपके दर्द के कारण का पता लेता है, तो उस अनुसार वह आपको उपचार प्रदान करेगा। उपचार में निम्न शामिल हो सकते हैं:

  • संक्रमण का इलाज करने के लिए एंटीबायोटिक दवाएं
  • वृषण मरोड़ होने की स्थिति में उसे ठीक करने के लिए एक सर्जरी
  • एक अवांछित अंडकोष में संभावित सुधार करने के लिए सर्जरी
  • अंडकोष में द्रव संचय को कम करने के लिए सर्जरी
  • दर्द निवारक दवाएं

अंडकोष दर्द की संभावित जटिलताएं क्या हैं?

एक डॉक्टर अंडकोष में दर्द के अधिकांश मामलों का सफलतापूर्वक इलाज कर सकता है।

क्लैमाइडिया जैसे संक्रमण या वृषण मरोड़ जैसी गंभीर स्थिति का इलाज न कराने पर आपके अंडकोष और उसकी थैली को स्थायी नुकसान पहुँच सकता है।

यह नुकसान आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है।

वृषण मरोड़ जिसके परिणामस्वरूप गैंग्रीन होता है, एक जानलेवा संक्रमण पैदा कर सकता है जो आपके पूरे शरीर में फैल सकता है।

अंडकोष में दर्द से कैसे बचा जा सकता है?

अंडकोष में दर्द के सभी मामलों को रोका नहीं जा सकता है, लेकिन इस दर्द के अंतर्निहित कारणों को कम करने के लिए आप निम्न कदम उठा सकते हैं:

  • अंडकोष को चोट से बचाने के लिए एल-गार्ड पहनना
  • सुरक्षित यौन संबंध का अभ्यास करना, जैसे कंडोम का इस्तेमाल
  • प्रति माह एक बार अपने अंडकोष की जांच करना ताकि परिवर्तनों या गांठों का शुरुआत में ही पता लग सके
  • पेशाब करते समय अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करना, ताकि मूत्रमार्ग संक्रमण से बचा जा सके

यदि आप इन चरणों का नियमित अभ्यास करते हैं और फिर भी अंडकोष दर्द का अनुभव कर रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से जाँच कराकर उचित उपचार लें।

Scroll to Top