कंडोम और अन्य बाधा विधि का इस्तेमाल करने के 11 फायदे

क्या कंडोम की प्रभावशीलता के बारे में आपके मन में कोई प्रश्न हैं? क्या आपने कभी अपनी लवमेकिंग में लव ग्लव्स (दस्ताने) को शामिल करने के बारे में विचार किया है? और क्या आप डेंटल डेम के बारे में जानते हैं, जिसके इस्तेमाल से सुरक्षित मौखिक सेक्स करना संभव होता है?

यदि हाँ, तो यह लेख आपकी पूरी सहायता करेगा। कंडोम और अन्य बाधा विधियों के बारे में विस्तार से जानने के लिए आगे पढ़ते रहें:

  1. यौन संचारित रोग से बचाते हैं
  2. गर्भावस्था को रोकने में मददगार
  3. गर्भनिरोध में अतिरिक्त सुरक्षा
  4. दुष्प्रभावों का जोखिम कम होता है
  5. प्राप्त करना आसान होता है
  6. यह सस्ते होते हैं
  7. सेक्स सुख को बड़ा सकते हैं
  8. सेक्स को लम्बे समय तक चला सकते हैं
  9. अन्य संक्रमणों के जोखिम को कम कर सकते हैं
  10. सफाई को आसान बना सकते हैं
  11. एक ही बार में गुदा और योनि सेक्स करने की सुविधा देते हैं

यह यौन संचारित रोगों को रोकने का एकमात्र कारगर तरीका हैं

महिला कंडोम (जिसे डायफ्राम कहा जाता है) और पुरुष कंडोम एकमात्र ऐसी विधि है, जिसके इस्तेमाल से यौन संचारित रोगों (एसटीआई) को फैलने से रोका जा सकता है।

इसी तरह, मौखिक सेक्स (लिंग या योनि का मुख मैथुन) के दौरान एसटीआई संचरण के जोखिम को कम करने के लिए डेंटल डेम का इस्तेमाल एकमात्र तरीका है।

और योनि, गुदा और लिंग को हैंड जॉब देने के दौरान एसटीआई संचरण से बचने के लिए दस्तानों का प्रयोग एकमात्र कारगर तरीका है।

यह गर्भावस्था को रोकने में मदद कर सकते हैं

महिला और पुरुष कंडोम, दोनों ही गर्भावस्था के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

पुरुष कंडोम

पुरुष कंडोम का ठीक से इस्तेमाल करने पर यह गर्भावस्था रोकने में 98 से 99 प्रतिशत प्रभावी हो सकते हैं।

लेकिन मनुष्य परफेक्ट नहीं होते और गलतियाँ होना आम है, इसलिए वास्तव में कंडोम 85% प्रभावी होते हैं।

तो, कंडोम का सही उपयोग कैसे किया जाता है? अमेरिका की सेक्स एक्सपर्ट रेबा कोरिन थॉमस के अनुसार, कंडोम की प्रभावशीलता बढ़ाने के तरीके निम्न हैं:

  • एक्सपायरी डेट की जाँच करें।
  • कभी भी दो कंडोम को एक साथ न पहनें।
  • किसी भी जननांग संपर्क से पहले इसे पहन लें।
  • कंडोम के सिरे में 1 से 2 सेंटीमीटर जगह छोड़ दें ताकि स्खलन के दौरान इसमें वीर्य समा सके और कंडोम फटे नहीं।
  • हमेशा कंडोम पर लुब्रीकेंट लगाकर सेक्स करें।
  • तेल से बने लुब्रीकेंट का इस्तेमाल न करें, क्योंकि यह कंडोम के लेटेक्स को घोल देते हैं, जिससे वह फट जाता है। इसकी जगह पानी आधारित लुब्रीकेंट ज्यादा बेहतर होते हैं।
  • हमेशा स्खलन के दौरान लिंग को योनि से बाहर निकाल लें।
  • हर बार एक नए कंडोम का प्रयोग करें।

थॉमस कहती हैं कि सेक्स में लुब्रीकेंट का इस्तेमाल आपकी सोच से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है।

“सेक्स में घर्षण मुख्य चीज है, जो कंडोम के टूटने या फटने का कारण बन सकती है,” वह बताती हैं। लुब्रीकेंट इस घर्षण को कम करता है।

महिला कंडोम

महिला कंडोम या डायाफ्राम 95 प्रतिशत तक प्रभावी हो सकते हैं।

लेकिन मानवीय गलती के कारण, यह केवल 79 प्रतिशत प्रभावी होते हैं।

महिला कंडोम को सही से इस्तेमाल करने का तरीका नीचे दिया जा रहा है:

  • एक्सपायरी डेट की जाँच करें।
  • कंडोम के अंदर की अंगूठी को अंदर छोड़ दें।
  • किसी भी जननांग संपर्क से पहले इसे योनि पर पहन लें।
  • एक बार में सिर्फ एक प्रकार के कंडोम का इस्तेमाल करें। महिला और पुरुष कंडोम को एकसाथ इस्तेमाल न करें।
  • यह सुनिश्चित करें कि यह पहले मुड़ा या फटा न हो।
  • लिंग का योनि में प्रवेश करते समय इसे योनि पर पकड़कर रहें।
  • यदि कंडोम के अंदर वीर्य रह जाता है, तो कंडोम निकालने के दौरान बाहरी रिंग को मोड़े रखें।
  • हर बार नए कंडोम का इस्तेमाल करें।

थॉमस कहती हैं “महिला कंडोम का इस्तेमाल करना इतना कठिन नहीं होता, जितना अक्सर लोग समझते हैं। और यह उन लोगों के लिए एक बेहतर विकल्प है जिनको लेटेक्स से एलर्जी होती है, क्योंकि ज्यादातर महिला कंडोम पॉलीयूरेथेन से बने होते हैं।”

 
 
 
 

यह गर्भनिरोध की एक अतिरिक्त सुरक्षा के रूप में कार्य कर सकते हैं

क्या आप जानते हैं:

  • डायाफ्राम केवल 96 प्रतिशत तक प्रभावी होते हैं।
  • सरवाइकल कैप केवल 77 से 83 प्रतिशत प्रभावी हैं।
  • स्पंज केवल लगभग 76 प्रतिशत प्रभावी होते हैं।
  • पुरुष कंडोम केवल 91 प्रतिशत प्रभावी होते हैं।

जबकि गर्भनिरोधक गोलियाँ, कॉपर टी, पैच, इम्प्लांट, और शॉट का सही ढंग से उपयोग किए जाने पर यह गर्भनिरोध में 99 प्रतिशत तक प्रभावी हो सकते हैं। लेकिन मानवीय त्रुटि उन्हें कम प्रभावी बना सकती है।

इसलिए जो लोग गर्भनिरोधक के वैकल्पिक रूपों का उपयोग करते हैं और गर्भावस्था से बचना चाहते हैं, वे कंडोम को एक अतिरिक्त सुरक्षा के रूप उपयोग कर सकते हैं।

इनमें दुष्प्रभावों का जोखिम कम होता है

अमेरिका के अस्थमा एंड एलर्जी फाउंडेशन के अनुसार, लगभग 1 प्रतिशत से भी कम लोगों को लेटेक्स से एलर्जी होती है।

और सौभाग्य से जिन लोगों को लेटेक्स से एलर्जी है उनके लिए पॉलीसोप्रीन, पॉलीयुरेथेन, या पॉलीइथाइलीन जैसी सामग्रियों से बने गैर-लेटेक्स वाले कंडोम उपलब्ध हैं। यह तीनों सामग्रियां भी लेटेक्स की तरह ही गर्भावस्था और यौन संचरितों रोगों से बचाव कर सकती हैं।

इस दौरान यह भी ध्यान रखना आवश्यक है, कि बहुत से लोग जो सोचते हैं कि उन्हें लेटेक्स से एलर्जी है, वास्तव में उन्हें कंडोम पर लगे लुब्रीकेंट के प्रति संवेदनशीलता हो सकती है। इसलिए कभी-कभी सिर्फ लेटेक्स कंडोम की ब्रांड को बदलने से काम चल जाता है।

गर्भनिरोधक के अन्य रूपों की तुलना में इन्हें प्राप्त करना आसान होता है

आप किसी भी मेडिकल स्टोर, डॉक्टर के कार्यालय, किराने की दुकान, या मॉल में चले जाइये, आपको वहाँ कंडोम और दस्ताने मिल जायेंगे।

इन्हें लेने के लिए आपको किसी डॉक्टर या फार्मासिस्ट की सलाह लेने की आवश्यकता नहीं होती।

हालाँकि आमतौर पर महिला कंडोम या डेंटल डैम का मिलना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन इन दोनों को आप ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

यह गर्भनिरोध के अन्य रूपों की तुलना में सस्ते होते हैं

पुरुष कंडोम काफी सस्ते होते हैं और सरकारी अस्पताल में तो यह फ्री में मिलते हैं। कुछ अस्पतालों में महिला कंडोम भी उपलब्ध होते हैं।

जबकि मौखिक गर्भनिरोधक गोलियाँ या आईयूडी थोड़ी महँगी पड़ती हैं।

यह वास्तव में सेक्स सुख को बड़ा सकते हैं

यह एक गलत धारणा है कि कंडोम के इस्तेमाल से सेक्स का मजा किरकिरा होता है।

“यदि आपके मन में यौन संचारित रोग फैलने या गर्भधारण करने की चिंता है, तो इस चिंता के कारण सेक्स का मजा काफी ज्यादा कम हो जाता है।” आखिरकार तनाव, आनंद का परम बाधक होता है।

कंडोम इन सारे जोखिमों को ख़त्म करके, आपको सेक्स के हर पल का गहराई से आनंद लेने की सुविधा प्रदान करता है।

इसके अलावा, कई कंडोम डॉटेड या खुरदुरी लाइनिंग में उपलब्ध होते हैं, जो वास्तव में कुछ लोगों में सेक्स की सनसनी बढ़ा सकते हैं।

सेक्स को लम्बे समय तक चला सकते हैं

लंबे समय तक सेक्स बेहतर सेक्स होता है या सिर्फ लिंग-योनि का सेक्स ही एकमात्र सेक्स होता है, यह दोनों ही विचार गलत धारणाएं हैं।

(छोटा और तेज सेक्स भी काफी उत्तेजक हो सकता है! मौखिक, गुदा, फोरप्ले और एकल सेक्स, सभी को सेक्स के रूप में भी गिना जाता है!)

फिर भी, पुरुषों और उनकी पार्टनरों के लिए, जो चाहते हैं कि वह इतनी जल्दी स्खलित न हों, तो कंडोम उनकी इसमें काफी मदद कर सकते हैं।

साथ ही, कुछ कंडोम लिंग को सुन्न करने वाले घटकों के साथ आते हैं, जिन्हें एक्स्ट्रा टाइम कंडोम कहा जाता है, भी लम्बे समय तक सेक्स करने में काफी मदद कर सकते हैं।

यह अन्य संक्रमणों के जोखिम को भी कम कर सकते हैं

क्या आपको बार-बार योनि में बैक्टीरियल इन्फेक्शन (बैक्टीरियल वेजिनोसिस) होता है?

शोध बताते हैं कि लिंग-योनि सेक्स में कंडोम का इस्तेमाल करने से योनि में बैक्टीरियल इन्फेक्शन होने की सम्भावना को कम किया जा सकता है।

कैसे? कई मामलों में वीर्य योनि के पीएच स्तर को असंतुलित कर सकता है, जिससे अच्छे व संक्रमण से लड़ने वाले बैक्टीरिया का जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। कंडोम वीर्य को योनि में जाने से रोकता है, जिससे योनि के पीएच को बेहतर बनाये रखने और अच्छे बैक्टीरिया को पनपने में मदद मिलती है।

 
 
 
 

यह सफाई को आसान बना सकते हैं

कंडोम सेक्स के बाद की साफ-सफाई को काफी आसान बना देते हैं। यहां तक कि जो दंपत्ति किसी अन्य गर्भनिरोधक विधि का उपयोग कर रहे हैं या गर्भधारण के लिए तैयार हैं, वह भी समय कम होने पर कंडोम का उपयोग कर सकते हैं।

इससे महिलाओं को बार-बार योनि से वीर्य के रिसाव की चिंता नहीं होती।

यह आपको एक ही बार में गुदा और योनि सेक्स करने की सुविधा देते हैं

खुले लिंग से एक ही बार में गुदा और योनि सेक्स करना महिला के लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है। क्योंकि गुदा में मौजूद बैक्टीरिया, महिला की योनि के पीएच और मूत्रमार्ग पर कहर बरपा सकते हैं।

लेकिन दो अलग-अलग नए कंडोम से योनि और गुदा सेक्स करने से, गुदा के बैक्टीरिया के योनि में संचरित होने की सम्भावना न के बराबर होती है।

इसलिए कंडोम आपको सुरक्षित गुदा सेक्स करने में काफी सहायक हो सकता है।

निष्कर्ष

महिला और पुरुष कंडोम एकमात्र ऐसा तरीका है जो गर्भावस्था और यौन संचारित रोगों को एक साथ रोकने में मदद करता है।

और दस्ताने व डेंटल डेम एकमात्र ऐसा तरीका है जो मौखिक, हाथ, उँगलियों के जरिये की जाने वाली उत्तेजना के दौरान यौन संचारित रोगों संचरण को रोक सकता है।

तो सेक्स के दौरान कंडोम और अन्य बाधा विधियों के इतने सारे लाभों को देखते हुए, आपको इनके नियमित इस्तेमाल के बारे में सोचना चाहिए।