हस्तमैथुन और टेस्टोस्टेरोन के बीच क्या संबंध है?

हस्तमैथुन वासना को शांत करने और अपनी यौन प्राथमिकताओं की खोज करने का एक प्राकृतिक तरीका है – लेकिन आप सोच रहे होंगे कि क्या यह आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित कर सकता है।

इस प्रश्न का छोटा उत्तर है – नहीं। हस्तमैथुन और स्खलन का टेस्टोस्टेरोन के स्तर पर कोई दीर्घकालिक या नकारात्मक प्रभाव पड़ता नहीं दिखा है।

लेकिन इसका लंबा उत्तर इतना सरल नहीं है। हस्तमैथुन, चाहे फिर वह अकेले किया जाये या साथी के साथ, टेस्टोस्टेरोन के स्तर पर कई तरह के प्रभाव डाल सकता है, हालांकि अधिकतर मामलों में यह प्रभाव अल्पकालिक होता है।

शोध क्या कहते हैं?

टेस्टोस्टेरोन आपकी सेक्स ड्राइव से जुड़ा होता है, जिसे आपकी कामेच्छा के रूप में जाना जाता है। यह पुरुष और महिला दोनों पर लागू होता है। हालाँकि, टेस्टोस्टेरोन को पुरुष सेक्स ड्राइव पर अधिक प्रभाव डालने के लिए जाना जाता है।

हस्तमैथुन और सेक्स के दौरान टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से बढ़ता है, और फिर स्खलन या ऑर्गाज्म के बाद वापिस अपने सामान्य स्तर पर आ जाता है।

1972 के एक छोटे से शोध के अनुसार, नियमित हस्तमैथुन का टेस्टोस्टेरोन के स्तर पर कोई ध्यान देने योग्य सीधा प्रभाव नहीं पड़ता है।

2001 में 10 वयस्क पुरुषों पर हुए एक शोध में पाया गया कि 3 सप्ताह तक हस्तमैथुन से परहेज करने से टेस्टोस्टेरोन के सामान्य स्तर में हल्की वृद्धि हो सकती है।

हार्मोन रिसेप्टर्स पर हस्तमैथुन के प्रभावों पर हुए शोधों के परस्पर विरोधी परिणामों के कारण, एक निश्चित निर्णय पर पहुँचना मुश्किल है।

चूहों पर हुए 2007 के एक शोध में पाया गया कि बार-बार हस्तमैथुन करने से मस्तिष्क में एण्ड्रोजन रिसेप्टर्स कम हो जाते हैं। एण्ड्रोजन रिसेप्टर्स शरीर को टेस्टोस्टेरोन का उपयोग करने में मदद करते हैं। इस बीच, चूहों पर हुए 2007 के एक अन्य शोध से पता चला है कि बार-बार हस्तमैथुन करने से एस्ट्रोजन रिसेप्टर के घनत्व में वृद्धि होती है।

वास्तविक दुनिया में मनुष्यों पर इन निष्कर्षों के प्रभाव स्पष्ट नहीं हैं।

क्या हस्तमैथुन से मेरी बॉडी बिल्डिंग पर असर पड़ेगा?

टेस्टोस्टेरोन को मांसपेशियों के निर्माण में मदद करने के लिए जाना जाता है क्योंकि यह प्रोटीन को बनाने में उनकी सहायता करता है।

चूँकि हस्तमैथुन टेस्टोस्टेरोन के स्तर को केवल मामूली रूप से और अल्पकालिक समय के लिए प्रभावित करता है, इसलिए यदि आप एक स्वस्थ मांसपेशी-निर्माण आहार का पालन करते हैं तो नियमित हस्तमैथुन आपको मांसपेशियों के निर्माण से नहीं रोकेगा।

कसरत से पहले हस्तमैथुन या यौन गतिविधि से परहेज करने से आपको तेजी से मांसपेशियों का निर्माण करने में मदद मिल सकती है या नहीं, यह साबित करने के लिए बहुत कम या कोई नैदानिक ​शोध उपलब्ध नहीं हैं।

टेस्टोस्टेरोन में कमी के संकेत क्या हैं?

टेस्टोस्टेरोन में कमी के कुछ सामान्य लक्षण निम्न हैं:

हालाँकि, इनमें से कुछ लक्षण आपके जीवनशैली विकल्पों के कारण हो सकते हैं। धूम्रपान करने और अत्यधिक मात्रा में शराब पीने से भी आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्रभावित हो सकता है।

कुछ स्वास्थ्य समस्याएं भी आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित कर सकती हैं, जैसे:

  • डायबिटीज
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • थाइरोइड की समस्या
 
 
 
 

हस्‍तमैथुन के फायदे और जोखिम क्‍या हैं?

हस्तमैथुन यौन आनंद को अनुभव करने का एक सुरक्षित तरीका है, चाहे फिर आप इसे अकेले करें या साथी के साथ। इसके कई अन्य सिद्ध किये जा चुके लाभ भी हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • तनाव को कम करता है
  • यौन वासना से मुक्त करता है
  • मूड को बेहतर बनाता है
  • आपको रिलैक्स करने या चिंताओं को कम करने में मदद करता है
  • अच्छी नींद लाने में मदद करता है
  • अपनी यौन प्राथमिकताओं को समझने में मदद करता है
  • मांशपेशियों की ऐंठन को कम करता है

हस्तमैथुन का आपके यौन प्रदर्शन या टेस्टोस्टेरोन के स्तर से सम्बंधित किसी अन्य कामकाज पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता।

केवल हस्तमैथुन से आपके चेहरे और पीठ पर बालों के झड़ने, स्तंभन दोष होने, या मुँहासे फूटने की समस्या नहीं होगी। ये प्रभाव आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर के बजाय जीवन शैली विकल्पों, स्वच्छता और व्यक्तिगत संबंधों से अधिक मजबूती से जुड़े हैं।

हालांकि, हस्तमैथुन आपमें कुछ मनोवैज्ञानिक प्रभाव पैदा कर सकता है, जो आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर को भी प्रभावित कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, कुछ लोग सामाजिक या पारस्परिक धारणाओं के कारण हस्तमैथुन करते समय खुद को दोषी महसूस करते हैं। यह विशेष रूप से तब होता है जब आपको विश्वास होता है कि हस्तमैथुन एक अनैतिक या अधार्मिक कार्य है।

यह अपराध बोध, आपमें चिंता और डिप्रेशन का कारण बन सकता है। जिसके फलस्वरूप आपके टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम हो सकता है।

आप हस्तमैथुन करते समय खुद को असहज भी महसूस कर सकते हैं, खासकर यदि आप अत्यधिक मात्रा में हस्तमैथुन करते हैं। यह आपके रिश्तों में समस्याओं का कारण बन सकता है, और यदि आपको इसके कारण चिंता या तनाव होता है तो आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर भी गिर सकता है।

अपनी साथी के साथ खुलकर बात करें ताकि आप दोनों अपने रिश्ते में हस्तमैथुन की भूमिका के बारे में सहजता और सहमति हासिल कर सकें।

कुछ मामलों में, अपनी साथी के साथ हस्तमैथुन के बारे में बात करने से स्वस्थ यौन आदतों को विकसित करने में मदद मिल सकती है। यह आपको अपनी साथी के साथ संतोषजनक यौन संबंध स्थापित करके, टेस्टोस्टेरोन के स्वस्थ स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकता है।

निष्कर्ष

सिर्फ हस्तमैथुन का आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ता है।

हस्तमैथुन के दौरान हार्मोन के स्तर पर अल्पकालिक प्रभाव पैदा हो सकता है, लेकिन इसके कारण आपके यौन स्वास्थ्य या समग्र कल्याण पर कोई दीर्घकालिक प्रभाव नहीं पड़ेगा।

हालाँकि, व्यक्तिगत और भावनात्मक समस्याएं टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित कर सकती हैं। इसलिए यदि आप तनाव या डिप्रेशन से गुजर रहे हैं और खुद में कम टेस्टोस्टेरोन के लक्षण देखते हैं, तो एक मनोवैज्ञानिक से मिलने पर विचार करें।

अपनी साथी या किसी अन्य करीबी दोस्त के साथ अपने व्यक्तिगत या यौन जीवन के बारे में खुले तौर पर संवाद करने से आपको उन मुद्दों को हल करने में मदद मिल सकती है जो आपके टेस्टोस्टेरोन के स्तर में गिरावट का कारण बन सकते हैं।

Scroll to Top