हस्तमैथुन को स्वस्थ तरीके से कैसे करें?

लोगों के पास अक्सर हस्तमैथुन और उससे जुड़ी समस्याओं को लेकर कई सवाल होते हैं। लेकिन एक बात जो ज्यादातर लोगों को पता नहीं होती, वह यह है वास्तव में हस्तमैथुन कैसे किया जाता है।

यदि आप स्वस्थ तरीके से हस्तमैथुन करना जानते होंगे, तो आप बिना किसी समस्या के लंबे और स्वस्थ यौन जीवन का आनंद ले पाएंगे।

इसलिए, आज हमने हस्तमैथुन करने ऐसे तरीके के बारे लिखने का फैसला किया है जिसकी न केवल प्रमाणित शोधकर्ताओं ने स्थापना की है, बल्कि इसे आपतक पहुंचाने से पहले इसका हजारों लोगों पर परिक्षण किया जा चुका है।

कोई भी व्यक्ति 14 साल की उम्र के आसपास से ही हस्तमैथुन करना शुरू कर देता है। और यह “14 साल” उम्र सिर्फ बचपन की उम्र होती है, जहां व्यक्ति स्वास्थ्य, यौन समस्याओं, कमजोरी और स्वास्थ्य संबंधी सभी मुद्दों को लेकर ज्यादा चिंतित या जागरूक नहीं होता है। वह बस उस स्वर्गीय अनुभव को बार-बार जीने की इच्छा रखता है, जो पूरे शरीर में खुशी व सनसनी फैलाने वाले हॉर्मोन स्त्राव होने के कारण होता है।

इसलिए, वह मूल रूप से जहां भी और जब भी संभव हो हस्तमैथुन करना शुरू कर देता है; जैसे शौचालय या घर में अकेले होने पर।

और मनोविज्ञान के अनुसार, यदि आपने किसी काम को एक ही तरीके से 5 से अधिक बार किया है, तो संभावना है कि आप उस काम को जीवन भर उसी तरह से व उसी तरीके से करेंगे; चाहे फिर वह सोने की मुद्रा हो या हस्तमैथुन।

इसलिए, हमने जागरूकता फैलाने, आपकी बुरी आदतों को बदलने और यथासंभव स्वस्थ तरीके से हस्तमैथुन करने में मदद करने के लिए यह लेख लिखा है।

स्वास्थ्य को ध्यान में रखे बिना सिर्फ पोर्न देखकर हस्तमैथुन करने से, वास्तव में आपके “बच्चा पैदा करने के यंत्र” पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ सकता है। और चूँकि आप भी पिछले 5, 10, 15 या इससे अधिक वर्षों से यही काम कर रहे हैं, तो संभव है कि आप भी इसे गलत तरीके से कर रहे होंगे।

ऐसे कुछ स्वस्थ अभ्यास हैं, जिन्हें यदि हस्तमैथुन के ठीक पहले,दौरान और बाद में पालन किया जाये, तो न केवल आपके लिंग को स्वस्थ रखने में मदद मिलेगी बल्कि आपके यौन स्वास्थ्य और सेक्स स्टैमिना में भी सुधार होगा।

तो यह रहे कुछ आम तरीके जिनका पालन करने से आपका हस्तमैथुन स्वास्थ्यवर्धक हो सकता है –

1. गोपनीयता बनाए रखें

यदि आप हस्तमैथुन करने का सबसे अच्छा तरीका सीखना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप जहाँ भी हस्तमैथुन करने की तैयारी कर रहे हैं, वहाँ आपको अपने निजी समय का आनंद लेने के दौरान पकड़ने के लिए कोई और आसपास मौजूद न हो और संभवत: अगले 15 मिनट में न होने की संभावना हो।

ऐसा क्यों? इसके दो कारण हैं।

पहला जब आपका मन हर तरह के भय से मुक्त होता है; तो इसमें हस्तमैथुन के दौरान अधिक आनंददायक सुख देने की प्रवृत्ति होती है। और यदि आपके पास हस्तमैथुन करने के लिए एक निजी या गोपनीय स्थान नहीं होगा, तो आपके मन में यह भय होगा कि कहीं कोई अभी या किसी भी समय आकर आपको हस्तमैथुन करते हुए देख न ले।

दूसरा, हस्तमैथुन करते समय पकड़े जाने से आपको कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है, जो आपके आत्मसम्मान को प्रभावित कर सकती हैं और यहां तक कि मानसिक आघात का कारण भी बन सकती हैं, जिससे आपको दोबारा हस्तमैथुन करने में डर और घबराहट महसूस हो सकती है।

और यह निश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि आपको हस्तमैथुन करने के बाद आराम करने के लिए पर्याप्त समय मिल सके, ताकि इस अंतरंग क्रिया के बाद जो डोपामाइन हॉर्मोन (हैप्पी हॉर्मोन) आपके दिमाग में निकलता है, आपका शरीर उसका पूरा आनंद ले सके और साथ ही साथ शरीर की थकान को कम ठीक होने का समय मिल सके।

हम आपको यह भी सलाह देंगे कि हस्तमैथुन करते समय कोई भी चीज जो आपको डिस्टर्ब कर सकती है, उससे बचने के उपाय करें। जैसे किसी भी फोन कॉल से बचने के लिए मोबाइल को फ्लाइट मोड में रख दें।

2. हर जरूरी चीज पहले से इकठ्ठा करके रखें

हस्तमैथुन में संलग्न होने से पहले हर जरूरी चीज जैसे लुब्रीकेंट, टिश्यू पेपर, सैनिटाइजर आदि को अपने पास इकठ्ठा करके रखें। इस क्रिया में शामिल होने से पहले सभी चीजों को अपने पास रखने से यह सुनिश्चित हो जाता है कि हस्तमैथुन करने के दौरान या बाद में प्राप्त होने वाली स्वर्गीय अनुभूति का आनंद लेने के बजाय, आपको खड़े होकर इन चीजों को लेने न जाना पड़े।

ऐसा क्यों? क्योंकि हस्तमैथुन करने के तुरंत बाद खड़े होने और इधर-उधर दौड़ने से पूरे शरीर में चक्कर और कमजोरी आ सकती है।

चूंकि आपने अभी-अभी अच्छी खासी मात्रा में वीर्य (प्रोटीन और आवश्यक विटामिन का एक संग्रह) जारी किया है, इसलिए कुछ क्षणों के लिए कमजोर महसूस करना स्पष्ट और काफी सामान्य होता है (विशेषकर उन लोगों के लिए जो एक अच्छा संतुलित आहार का सेवन नहीं करते हैं)।

इसलिए अगली बार जब भी आप हस्तमैथुन करने की सोचें तो अपने आप को सभी चीजों से पहले से ही तैयार रखें।

 
 
 
 

3. चिकनाई का उपयोग करें

सबसे बड़ी गलती जो अक्सर लड़के करते हैं, वह यह है कि जब भी उन्हें कामुक भावना का अनुभव होता है तो वह बिना किसी चिकनाई का उपयोग किए बस जाकर हस्तमैथुन कर लेते हैं।

इससे हस्तमैथुन में तो कोई बाधा नहीं आती, लेकिन यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो नियमित रूप से हस्तमैथुन करते हैं, तो आपकी यह आदत लिंग की प्राकृतिक चिकनाई वाली परत और उसको पुन: उत्पन्न करने की क्षमता को कम कर सकती है।

जब आप सेक्स के असली खेल में शामिल होते हैं तो लिंग की प्राकृतिक चिकनाई की आवश्यकता होती है। लिंग की प्राकृतिक चिकनाई वाली परत न केवल सेक्स के आनंद को बढ़ाती है, बल्कि यह भी सुनिश्चित करती है कि लिंग पर कोई बैक्टीरिया जमा न हो, जिससे किसी भी प्रकार के संक्रमण या यौन विकार के विकसित होने का न्यूनतम खतरा हो। छोटे शब्दों में कहें तो यह कई विकारों के खिलाफ सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करती है।

आपका खुद भी शायद इसपर ध्यान गया होगा कि आपके लिंग में सूखापन बढ़ता जा रहा है और अक्सर इसपर सूखा वीर्य चिपका रह जाता है। इसलिए हम आपको हस्तमैथुन के दौरान लिंग पर चिकनाई का उपयोग करने की सलाह देते हैं।

नारियल का तेल सबसे अच्छा और प्राकृतिक विकल्प है जो हस्तमैथुन के आनंद को दोगुना बड़ा सकता है। साथ ही, नियमित रूप से नारियल तेल से लिंग की मालिश करना भी एक अच्छा विचार है, क्योंकि यह आसानी से स्किन द्वारा सोख लिया जाता है जिससे वह लम्बे समय तक नम बना रहता है और डेड सेल्स व सूखेपन से बचाव करता है।

4. खाली पेट हस्तमैथुन न करें

यह वास्तव में एक महत्वपूर्ण चीज है जिसका आपको ध्यान रखना चाहिए। यदि आपने कुछ नहीं खाया है, या आप सुबह से खाली पेट हैं तो हम आपको सलाह देंगे कि आप बिल्कुल भी हस्तमैथुन न करें, या अपना भोजन करें, आधे घंटे तक प्रतीक्षा करें और फिर हस्तमैथुन करें।

या फिर अगर आप टाईमटेबल वाले व्यक्ति हैं जो किसी खास समय पर हस्तमैथुन करते हैं; जैसे आपने अपने मन में निश्चय कर लिया है कि आप हर शुक्रवार की शाम को हस्तमैथुन करेंगे; तो अपने टाईमटेबल में यह भी जोड़ लें कि आपको हस्तमैथुन से आधे घंटे पहले कुछ आहार खाना है, जैसे एक गिलास दूध, एक गिलास जूस, काजू-बादाम या कुछ भी पौष्टिक जो आपके शरीर के पोषण को बढ़ाये।

इससे यह सुनिश्चित होगा कि आपके लिंग के पास सभी आवश्यक खनिज हैं और वह पूरी तरह से स्वस्थ है।

यदि खाली पेट हस्तमैथुन किया जाता है, तो संभावना है कि वीर्य पैदा करने की आपकी क्षमता कम हो जाये। क्योंकि पोषक तत्वों की कमी होने से, आपका शरीर आवश्यक मात्रा में वीर्य का उत्पादन नहीं कर पाएगा, और यदि ऐसा बार-बार होता है, तो इससे शुक्राणु पैदा करने की आपकी क्षमता में कमी आ सकती है।

इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप हस्तमैथुन करते समय खाली पेट या भूखे न हों।

यदि आप नियमित रूप से हस्तमैथुन करते हैं, तो यह भी सुनिश्चित करें कि आप एक स्वस्थ आहार का सेवन करते हैं या नहीं। जंक फूड, इंस्टेंट फूड, तले-भुने भोजन की बजाय ताजा हरी सब्जियों, फलों, दालों आदि से भरपूर भोजन करें।

 
 
 
 

5. जल्दबाजी न करें

दुर्भाग्य से ज्यादातर लोग, खासतौर से यौवनावस्था से गुजर रहे लड़के सिर्फ 3 से 5 मिनट के भीतर ही अपने हस्तमैथुन को पूरा करने के आदती हो जाते हैं।

कुछ मामलों में तो इस आदत के कारण व्यक्ति को आगे चलकर सेक्स में वीर्य जल्दी गिरने की समस्या भी हो सकती है।

तो ऐसा क्यों होता है? लिंग को तेजी से रगड़ने या कामोत्तेजक बिंदुओं को छूने से ऑर्गाज्म तक पहुँचने की गति तेज हो सकती है। इसके परिणाम स्वरूप वीर्य जल्दी गिर जाता है और हमें जल्द ही संतुष्टि की भावना मिल जाती है और हम सोचने लगते हैं कि हमारा हस्तमैथुन खत्म हो चुका है और अब हम अपने अन्य कार्य कर सकता हूँ। बिना यह सोचे कि हम ऐसा करके धीरे-धीरे अपने जननांगों को वीर्य जल्दी गिराने की आदत डाल रहे होते हैं।

कभी-कभार तेज गति से हस्तमैथुन करना ठीक है, लेकिन हर बार ऐसा करने से आपके अंडकोष कमजोर होते जाते हैं और उनकी वीर्य व शुक्राणु पैदा करने की क्षमता कम होती जाती है। साथ ही, हर बार ऐसा करने से आपके वीर्य स्खलन की प्रक्रिया तेज हो जाती है, और वह सेक्स के दौरान भी जल्दी स्खलित होने लगता है।

यही कारण है कि लोगों में इस तरह धारणाएँ फैली हैं कि हर हस्तमैथुन के साथ आपके शुक्राणुओं की संख्या कम होती है। लेकिन यह सच नहीं है, सही तरीके से हस्तमैथुन करने से यह शुक्राणुओं के लिए फायदेमंद होता है और ज्यादा व गुणवत्ता वाले शुक्राणु पैदा करने की अंडकोष की शक्ति को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

यदि आप इस आदत पर काबू पा सकते हैं, तो हस्तमैथुन आपकी सेक्स लाइफ के लिए अत्यधिक फायदेमंद हो सकता है।

6. एक बार में पूरा वीर्य निकालें

यह एक और ऐसी चीज है जिसके बारे में अक्सर लोग गलत धारणाएँ रखते हैं। कुछ लोगों का मानना होता है वीर्य स्खलन के दौरान आधे वीर्य को अंदर रोके रखने से उसके नुकसान को कम किया जा सकता है दोबारा हस्तमैथुन का आनंद लिया जा सकता है।

लेकिन यह सच नहीं है, और अगर आपने ऐसी मूर्खता अभी तक नहीं की हैं तो इसे आजमाएं भी नहीं। क्योंकि वीर्य के पूरे या उसके कुछ हिस्से को रिलीज करने से कोई फर्क नहीं पड़ता। आपके अंडकोष और जननांग एक निश्चित मात्रा में वीर्य और शुक्राणुओं का उत्पादन करते हैं, जिसपर हस्तमैथुन की बारंबारता और स्खलन की मात्रा से कोई प्रभाव नहीं पड़ता। बल्कि सच तो यह है कि आप जिस वीर्य को अंदर रोके रखने का प्रयास करते हैं वह मूत्राशय में चला जाता है और बाद में पेशाब के साथ बाहर निकल जाता है।

कुछ मामलों में वीर्य को जबरदस्ती रोके रखने की कोशिश के कारण व्यक्ति को सूखे स्खलन की समस्या हो सकती है।

वीर्य स्खलन ही वह प्रक्रिया जिस दौरान आपको उच्च चरमोत्कर्ष का अनुभव होता है, और इस दौरान अपने ध्यान को वीर्य को रोके रखने में प्रयास में लगाकर आपके आनंद का अनुभव भी कम हो सकता है।

इसलिए अगली बार जब भी आप हस्तमैथुन करें तो स्खलन के दौरान अपने पूरे वीर्य को बाहर निकलने दें।

तो यह थे हस्तमैथुन को सही तरीके से करने से 6 महत्वपूर्ण बिंदु। यदि आप हस्तमैथुन करते समय और उससे पहले इन सभी बातों का ध्यान रखते हैं, तो ऐसा कुछ भी नहीं है जो आपके लिंग को कमजोर कर सके या हस्तमैथुन का नुकसान हो सके।