क्या लड़कियों को भी स्वप्नदोष होता है? ऐसे ही 12 सवालों के जवाब

स्वप्नदोष – आपने अक्सर इसके बारे में सुना होगा। या हो सकता है कि आपको भी यौवनावस्था में एक या दो बार यह हुआ हो।

और हाँ, लड़कियों को भी स्वप्नदोष होता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्वप्नदोष क्यों होता? लड़कियों में कैसे होता है? और क्यों यह सिर्फ यौवनावस्था के शुरुआती दौर में ही होता है?

स्वप्नदोष के बारे में जानने योग्य बहुत सी बाते हैं, जिनमें से कुछ आपको आश्चर्यचकित कर सकती हैं। अधिक जानने के लिए पढ़ना जारी रखें:

स्वप्नदोष वास्तव में होता क्या है?

सीधे शब्दों में कहें तो एक स्वप्नदोष तब होता है जब आप नींद के दौरान वीर्य स्खलन (या लड़कियाँ योनि तरल पदार्थ का स्राव) करते हैं। आपकी जानकारी के लिए हम बताना चाहेंगे कि ज्यादातर लोगों को स्वप्नदोष होता है और यह पूरी तरह से एक स्वस्थ प्रक्रिया है।

हालाँकि “स्वप्नदोष” एक गुमराह करने वाला नाम है, क्योंकि भले ही यह नींद में होने वाला स्खलन होता है, लेकिन ज्यादातर मामलों में इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है।

स्वप्नदोष आरईएम (REM) नींद के दौरान होता है, जब आपकी सांस और हृदय गति बढ़ जाती है, जिससे आपके जननांगों सहित पूरे शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है। यह बढ़ा हुआ रक्त प्रवाह आपके जननांगों को किसी भी प्रकार की उत्तेजना के प्रति अतिसंवेदनशील बना देता है।

आरईएम नींद या जिसे रैपिड आई मूवमेंट स्लीप भी कहा जाता है, स्तनधारियों और पक्षियों में होने वाली नींद का एक अनूठा चरण होता है, जिसमें आंखें विभिन्न दिशाओं में तेजी से चलती हैं। इस चरण में व्यक्ति काफी ज्यादा सपने देखता है। इस नींद में व्यक्ति सामान्य रूप से अपने हाथ-पैर नहीं हिला पाता।

जब आप आरईएम नींद में प्रवेश करते हैं, तो आपके मस्तिष्क की गतिविधि फिर से बढ़ जाती है, यानी नींद उतनी गहरी नहीं होती है। गतिविधि का स्तर वैसा ही होता है जैसा जागते समय होता है। यही कारण है कि आरईएम नींद के दौरान आपको गहन सपने आते हैं।

आप एक आरईएम नींद के स्वप्नदोष के दौरान जाग सकते हैं, या सोते हुए भी रह सकते हैं और आपको इसके बारे में तभी मालूम होता है जब आप अपनी अंडरवियर गीली पाते हैं।

क्या केवल यौवनावस्था के दौरान ही स्वप्नदोष होता है?

बिल्कुल भी नहीं।

यौवनावस्था के दौरान स्वप्नदोष होना इसलिए आम हैं, क्योंकि इस दौरान आपका शरीर कुछ बड़े हार्मोनल परिवर्तनों से गुजर रहा होता है, जो आपकी यौन परिपक्वता को प्रभावित करते हैं।

लेकिन वयस्कों को भी स्वप्नदोष हो सकता है – खासकर यदि वह यौन रूप से सक्रिय हैं।

जैसे-जैसे आप वयस्क होते जाते हैं, वैसे-वैसे स्वप्नदोष होने की सम्भावना कम होती जाती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यौवनावस्था के विपरीत, आपके शरीर का अपने हॉर्मोन स्तर पर नियंत्रण बढ़ जाता है।

क्या लड़कियों को भी स्वप्नदोष होता है?

बिल्कुल होता है!

लोगों में यह भ्रान्ति इसलिए फैली है कि केवल किशोर लड़कों को ही स्वप्नदोष होता है, क्योंकि इससे सम्बंधित अधिकतर शोध और साहित्य किशोर लड़कों पर हैं।

लड़कियों में स्वप्नदोष पर हुए शोधों की काफी कमी है, लेकिन जो शोध उपलब्ध हैं वह इस बात की पुष्टि करते हैं कि लड़कियां भी लड़कों की तरह स्वप्नदोष के आनंद का अनुभव करती हैं।

शोध से पता चलता है कि ज्यादातर लड़कियों को 21 साल की उम्र से पहले स्वप्नदोष होता है।

शोध की कमी के साथ-साथ, स्वप्नदोष के स्पष्ट भौतिक साक्ष्य की कमी भी इस भ्रान्ति में योगदान करती है कि लड़कों में इसके होने की संभावना अधिक होती है।

सरल शब्दों में कहें तो, लड़कों को स्वप्नदोष होने पर उन्हें स्खलन के गीलेपन के जरिये आसानी से पता चल जाता है कि उन्हें यह हुआ है। जबकि लड़कियों को स्वप्नदोष होने पर जरूरी नहीं कि उनकी योनि से द्रव निकले, अधिकतर मामलों में उनकी योनि में सिर्फ गीलापन होता है।

 
 
 
 

क्या हमेशा स्वप्नदोष होना सामान्य है?

स्वप्नदोष उग्र हार्मोन के स्तर के कारण यौवनावस्था के आसपास अधिक बार होता है, और और जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे आपका हार्मोन स्तर भी स्थिर होता जाता है, जिससे स्वप्नदोष होने की सम्भावना भी कम होती जाती है।

हालाँकि हर किसी में यह प्रक्रिया अलग-अलग गति से होती है, इसलिए स्वप्नदोष की आवृत्ति एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में काफी भिन्न हो सकती है।

हर व्यक्ति में जीवन भर विभिन्न कारणों से हार्मोनल बदलाव होते हैं और यह प्रभावित कर सकते हैं कि उनको कितनी बार स्वप्नदोष होता है।

जैसे सोने से पहले अधिक यौन उत्तेजना का अनुभव करना – उदाहरण के लिए पोर्न देखना – भी स्वप्नदोष होने में योगदान कर सकता है।

लम्बे समय तक सेक्स या हस्तमैथुन न करने से भी आपमें अत्यधिक उत्तेजना का निर्माण हो सकता है और इसके फलस्वरूप आपको स्वप्नदोष हो सकता है।

इसके अलावा, कुछ मामलों में पुरुषों को सोते समय वीर्य रिसाव की समस्या हो सकती है, जिसे वह स्वप्नदोष समझ सकते हैं। यदि आपको बार-बार रात में या दिन में अनैच्छिक वीर्य रिसाव का अनुभव होता है, तो यह एक अंतर्निहित प्रोस्टेट समस्या का संकेत हो सकता है या आपके द्वारा ली जा रही किसी दवा का दुष्प्रभाव हो सकता है।

यदि आप चिंतित हैं कि आपको बार-बार स्वप्नदोष होता है, तो पता लगाने के लिए कि कहीं किसी अंतनिर्हित समस्या के कारण तो यह नहीं हो रहा, डॉक्टर से संपर्क करें।

यदि कोई समस्या नहीं मिलती है, और आप अभी भी चिंतित हैं, तो आपको एक मनोवैज्ञानिक या थेरेपिस्ट से मिलने की आवश्यकता हो सकती है। एक थेरेपिस्ट आपको अपने स्वप्नदोषों की जड़ तक पहुंचने में मदद कर सकता है – जैसे उनका क्या मतलब है और आपको हर समय इनके होने का अनुभव क्यों होता है।

अगर मुझे स्वप्नदोष होता है तो मुझे क्या करना चाहिए?

स्वप्नदोष नींद का एक स्वस्थ और स्वाभाविक हिस्सा होता है और आमतौर पर आपको कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं होती… सिर्फ सुबह अपने जननांगों को साफ करने के अलावा!

यदि स्वप्नदोष आपके सोने या कार्य करने की क्षमता को प्रभावित कर रहा है, या आपके मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल रहा है, तो किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह लें।

क्या स्वप्नदोष हमेशा चरमसुख पर खत्म होता है?

नहीं। जैसे हर संभोग का अंत चरमसुख (ऑर्गाज्म) नहीं होता, वैसे ही हर स्वप्नदोष भी एक चरमसुख के साथ खत्म नहीं होगा। इसी तरह, चरमसुख भी हमेशा स्खलन या स्वप्नदोष के कारण नहीं होता।

स्वप्नदोष चरमसुख के साथ या उसके बिना भी हो सकता है। कुछ मामलों में आपको वीर्य रिसाव (या लड़कियों में योनि का गीलापन) अनुभव करने के लिए एक चरमसुख प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होती।

क्या सेक्स के सपने आपमें स्वप्नदोष का कारण बन सकते हैं?

ऐसा जरूरी नहीं। नींद के दौरान सेक्स के सपने हमेशा आपको स्वप्नदोष नहीं कराते हैं। और स्वप्नदोष का कारण हमेशा सेक्स के सपने नहीं होते।

आरईएम नींद के दौरान होने वाली जननांग अतिसंवेदनशीलता और आपके शरीर से बेडशीट का हल्का घर्षण मात्र स्वप्नदोष को ट्रिगर कर सकता है।

हालाँकि सोने से पहले सेक्सी विचार, नियमित यौन गतिविधि की कमी और उच्च स्तर के सेक्स हार्मोन भी अतिरिक्त भूमिका निभा सकते हैं।

मुझे स्वप्नदोष में तो चरमसुख मिलता है, लेकिन जागते हुए इसे प्राप्त करना मुश्किल होता है – क्यों?

चरमसुख या ऑर्गाज्म प्राप्त करने में कठिनाई का अनुभव करना असामान्य नहीं है। चरमसुख प्राप्त करने की क्षमता हर किसी के लिए अलग होती है, और बहुत से लोगों को इसे प्राप्त करने में कठिनाई होती है।

यह कई चीजों का परिणाम हो सकता है, जिनमें से कई आपको सोते समय उस तरह प्रभावित नहीं करतीं जिस तरह जागते हुए करती हैं, जैसे:

  • पुराना दर्द और अन्य शारीरिक समस्याएं
  • मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति
  • कोई पिछले यौन आघात
  • एक रोमांटिक या यौन संबंध स्थापित करने में कठिनाई
  • यौन दमन
  • पर्याप्त रूप से उत्तेजित न होना
  • शरीर की छवि और आत्मविश्वास में कमी
  • संकोच
  • डिप्रेशन या तनाव

सोते समय, आपका शरीर और दिमाग आरामदायक स्थिति में होता है, इसलिए यह कारक ज्यादा प्रभाव नहीं डालते।

इसके अलावा, हर व्यक्ति की अपनी सेक्सुअल फेंटसी होती हैं जो उन्हें यौन रूप से अत्यधिक उत्तेजित करती हैं। सोते समय सपनों में इन फेंटसी को सपनों के जरिये पूरा करना आसान होता है, लेकिन असल जिंदगी में नहीं।

रोमांचक खबर यह है कि यदि आप अपनी नींद में चरमसुख प्राप्त करने में सक्षम हैं, तो आपमें कोई वास्तविक सेक्सुअल कमी नहीं है और आप जागते हुए अपने मन को केंद्रित करके और जो है उसी में सुख ढूँढ़कर चरमसुख प्राप्त करना आसान बना सकते हैं।

अपने सेक्स करने के तरीकों और माहौल में बदलाव लाकर अतिरिक्त मदद मिल सकती है। इसलिए सेक्स में नई-नई चीजों को आजमाकर देखें और पता लगाएं आपको किसमें अधिक चरमसुख मिलता है।

मुझे कभी स्वप्नदोष नहीं हुआ। क्या यह आम बात है?

बिल्कुल। हर किसी को स्वप्नदोष होना जरूरी नहीं है। कुछ लोगों को यह बिलकुल भी न हों, कुछ को कम हों और कुछ को बहुत अधिक बार हो सकता है।

ज्यादातर लोग ऐसे होते हैं जिन्हें यौवनावस्था के दौरान स्वप्नदोष होता था, लेकिन अब वयस्क होने पर नहीं होता। स्वप्नदोष एक व्यक्तिगत अनुभव है, जो सभी में अलग-अलग होता है।

 
 
 
 

क्या आप खुद से अपने आप स्वप्नदोष करा सकते हैं?

शायद हाँ। शोध से पता चलता है कि पेट के बल उल्टा सोने से आपमें यौन या कामुक सपने देखने की सम्भावना ज्यादा होती है।

हालांकि ऐसा क्यों होता है, यह स्पष्ट नहीं है। लेकिन अगर आप इस सिद्धांत का परीक्षण करना चाहते हैं, तो अपने पेट के बल बिस्तर पर लेटकर सोएं।

क्या आप स्वप्नदोष रोक सकते हैं?

न, अधिकतर मामलों में नहीं। हालाँकि कुछ विशेषज्ञों का सुझाव है कि आप अपने स्वप्नदोष को नियंत्रित करने में सक्षम हो सकते हैं।

शोध के अनुसार, आप अपने सपनों की कथा को प्रभावित करने में सक्षम हो सकते हैं। इसे ल्यूसिड ड्रीमिंग कहा जाता है, जिसमें आपको पता होता है कि आप सपना देख रहे हैं। इसलिए आप इसे अपनी इच्छानुसार नियंत्रित कर सकते हैं, और स्वप्नदोष होने की स्थितियों से बच सकते हैं।

और ल्यूसिड ड्रीमिंग करने की तकनीकें मौजूद हैं, जो आपकी मदद कर सकती हैं।

बस ध्यान रखें कि इन तकनीकों को आजमाने का यह मतलब नहीं है कि आप वास्तव में अपने सपनों को सफलतापूर्वक नियंत्रित कर लेंगे। इसलिए इस बात की गारंटी देने का कोई तरीका नहीं है कि आप वास्तव में अपना स्वप्नदोष रोक सकते हैं।

निष्कर्ष

यह याद रखने वाली एक महत्वपूर्ण बात है कि स्वप्नदोष पूरी तरह से प्राकृतिक होता है। हर किसी को स्वप्नदोष होना जरूरी नहीं है, इसलिए यदि आपको यह नहीं होता तो भी यह न समझें कि आपमें कोई कमी या समस्या है।

बस यह जान लें कि अन्य सभी चरमसुख की तरह ही सोते हुए प्राप्त होने वाला चरमसुख पूरी तरह से व्यक्तिगत होता है, और हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकता है। अपनी इच्छनुसार सोते समय एक, दो, तीन या अधिक चरमसुख प्राप्त करने का कोई वास्तविक सही या गलत तरीका मौजूद नहीं है।