लिंग पूरा खड़ा करने में कितना रक्त लगता है?

उत्तेजना के दौरान लिंग को खड़ा करने के लिए उसमें रक्त भरता है।

लेकिन आप सोच रहे होंगे कि यह कैसे होता है, और क्या आपके लिंग को पूरा खड़ा करने के लिए एक विशिष्ट मात्रा में रक्त की आवश्यकता होती है।

कुछ मामलों में, लिंग में रक्त का प्रवाह कम होने से वह छोटा रह सकता है। लेकिन आपके लिंग को खड़ा करने के लिए शरीर के कई अन्य अंग, जैसे आपका तंत्रिका तंत्र और हार्मोन भी अपनी भूमिका निभाते हैं।

लिंग खड़ा करने के लिए रक्त कितनी भूमिका अदा करता है, इसके बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहें। हम यह भी जानेंगे कि यदि आप हस्तमैथुन या सेक्स करते समय अपने लिंग के खड़ेपन से असंतुष्ट हैं या आपको लगता है कि यह पूरा खड़ा नहीं हुआ है, तो आपको क्या करना चाहिए।

लिंग को खड़ा करने के लिए कितने रक्त की जरूरत होती है?

लिंग को कठोर और पूरा खड़ा करने के लिए आवश्यक रक्त की वास्तविक मात्रा अलग-अलग लोगों में भिन्न होती है। लेकिन औसतन मात्रा लगभग 130 मिलीलीटर है। यह किसी भी वयस्क पुरुष के शरीर में संचारित होने वाले 4,500 से 5,600 मिलीलीटर रक्त का एक छोटा भाग है।

चूंकि लिंग खड़ा करने के लिए अपेक्षाकृत कम मात्रा में रक्त की आवश्यकता होती है, इसलिए शरीर इसके लिए अलग से रक्त का निर्माण नहीं करता। बल्कि शरीर के अन्य भागों से लिंग में रक्त की पूर्ति करता है। जिसका मतलब है कि थोड़ा रक्त शरीर में एक जगह से दूसरी जगह सप्लाई किया जा सकता है।

लिंग खड़ा करने में रक्त की क्या भूमिका है?

यहाँ हम आपको विस्तार से बताएँगे कि लिंग खड़ा होने के दौरान लिंग में शारीरिक रूप से क्या होता है और इस प्रक्रिया में रक्त की क्या भूमिका होती है:

लिंग की शाफ्ट के अंदर कोरपोरा कावेर्नोसा (corpora cavernosa) नामक दो स्पंजी ऊतकों से बने कमरे होते हैं। इन ऊतकों में रक्त वाहिकाएं होती हैं। जब आपका लिंग ढीला होता है, तब यह वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं, जिससे कॉर्पोरा कैवर्नोसा में सिर्फ ऊतकों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी रक्त पहुँचता है।

जब आप उत्तेजित हो जाते हैं, तो लिंग की रक्त वाहिकाएं रिलैक्स हो जाती हैं, जिससे वह फैलने लगती हैं और उनमें अधिक रक्त भरने लगता है। इससे कोरपोरा कावेर्नोसा के ऊतकों में भी रक्त भरने लगता है, जिससे आपका लिंग बड़ा और कठोर हो जाता है।

लिंग को खड़ा करने की प्रक्रिया में, दिमाग, तंत्रिका तंत्र, रक्त वाहिकाएं और कुछ हार्मोन अपनी-अपनी भूमिका निभाते हैं। यह कैसे काम करते हैं, इसकी पूरी जानकारी नीचे दी गई है:

  • उत्तेजना बढ़ाने वाले उत्तेजक जैसे किसी दृश्य की कल्पना या कामुक विचार करने पर, दिमाग तंत्रिकाओं के माध्यम से कोरपोरा कावेर्नोसा की मांसपेशियों को रिलैक्स होने का संकेत भेजता है।
  • लिंग या उसके आसपास के क्षेत्र को उत्तेजित करने पर भी समान प्रतिक्रिया ट्रिगर होती है, जिसमें तंत्रिकाएं कोरपोरा कावेर्नोसा के ऊतकों को यौन सम्भोग के लिए तैयार होने का संकेत देती हैं।
  • यौन उत्तेजना के दौरान, शरीर नाइट्रिक ऑक्साइड नामक एक रसायन छोड़ता है। यह रक्त वाहिकाओं को फैलाने में मदद करता है और साइक्लिक ग्वानोसिन मोनोफॉस्फेट (सीजीएमपी) के उत्पादन को ट्रिगर करने के लिए गनीलेट साइक्लेज नामक एंजाइम को सक्रिय करता है। यह रसायन स्पंजी ऊतकों को रिलैक्स करता है और इनमें अधिक रक्त भरने के लिए इन्हे फैलने में मदद करता है।
  • स्खलन के बाद, कोरपोरा कावेर्नोसा में भरा अतिरिक्त रक्त, लिंग की नसों के माध्यम से बाहर निकलना शुरू हो जाता है।
  • स्खलन के बाद लिंग से रक्त बाहर निकलने लगता है, जिससे वह बैठ जाता है और अपनी सामान्य स्थिति में आने लगता है।

क्या होगा यदि स्खलन के बाद लिंग से रक्त वापस नहीं निकलता?

स्खलन के बाद लिंग से रक्त बाहर न निकलने की स्थिति को मेडिकल भाषा में प्रियपिज्म (priapism) कहा जाता है। लिंग में जमा यह अतिरिक्त रक्त कोरपोरा कावेर्नोसा के ऊतकों को नुकसान पहुँचा सकता है।

सिकल सेल एनीमिया जैसे रक्त विकार से ग्रसित लोगों में प्रियपिज्म होना अधिक आम है, दवाओं या अन्य कारकों के कारण भी यह हो सकता है, जैसे कोकीन का उपयोग या ल्यूकेमिया जैसी स्थितियां।

 
 
 
 

क्या लिंग खड़ा करने में हार्मोन शामिल होते हैं?

रक्त के अलावा, टेस्टोस्टेरोन और ऑक्सीटोसिन हार्मोन भी लिंग खड़ा करने और बनाए रखने में अपनी भूमिका निभा सकते हैं।

2016 में जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में प्रकाशित एक रिव्यु के अनुसार, टेस्टोस्टेरोन लिंग की रक्त वाहिकाओं को रिलैक्स करने में मदद करके उनमें रक्त भरने की प्रक्रिया में मदद कर सकता है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन और टेस्टोस्टेरोन की कमी से ग्रसित कुछ लोगों को टेस्टोस्टेरोन थेरेपी से लाभ मिल सकता है, लेकिन टेस्टोस्टेरोन का स्तर सामान्य से कम होना भी लिंग को पूरा खड़ा करने के लिए पर्याप्त है। हालाँकि टेस्टोस्टेरोन यौन इच्छा को भी बढ़ाता है, और इसका स्तर कम होने पर कामेच्छा में गिरावट आ सकती।

ऑक्सीटोसिन को भी कामोत्तेजना में एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में जाना जाता है। लेकिन 2016 के रिव्यु में शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया है कि यौन उत्तेजना में ऑक्सीटोसिन के उपयोग का और अधिक अध्ययन करना आवश्यकता है।

किन कारणों से लिंग के रक्त संचार में कमी आ सकती है?

कई कारक लिंग में रक्त के प्रवाह या लिंग के खड़े होने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं, जैसे:

  • रक्त संचार संबंधी समस्याएं: जैसे हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और हाई कोलेस्ट्रॉल लिंग और शरीर के अन्य भागों में रक्त के प्रवाह को कम कर सकते हैं।
  • तंत्रिका तंत्र का विकार: मल्टीपल स्केलेरोसिस, अल्जाइमर रोग और पार्किंसंस रोग जैसे तंत्रिका संबंधी विकार, यौन उत्तेजना प्रक्रिया शुरू करने के लिए दिमाग द्वारा भेजे जाने वाले जरूरी संकेतों में हस्तक्षेप कर सकते हैं।
  • ऊतकों में क्षति: मूत्राशय या प्रोस्टेट में की जाने वाली रेडिएशन थेरेपी कभी-कभी ऊतकों, तंत्रिकाओं और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है।

लिंग में रक्त संचार को बढ़ावा देने वाले सुझाव क्या हैं?

एक स्वस्थ जीवन शैली जो अच्छे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है, अच्छे रक्त संचार में मददगार होती है। यह यौन अंगों के कामकाज को बेहतर बनाने का सबसे अच्छा तरीका है।

रक्त संचार बेहतर करने और लिंग को पूरा खड़ा करने में मदद करने के लिए निम्न सुझावों का पालन करें:

  • धूम्रपान छोड़ने या कम करने के बारे में सोचें: सिगरेट या बीड़ी के धुएं में मौजूद रसायन, आपकी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और रक्त संचार को काफी नुकसान पहुँचाते हैं।
  • नियमित रूप से एरोबिक एक्सरसाइज करें: एरोबिक एक्सरसाइज वह होती हैं जिनके करने से दिल की धड़कनें तेज होती हैं, जैसे साइकिलिंग, दौड़ने वाले खेल, स्विमिंग और वेट लिफ्टिंग। हफ्ते में कम से कम 4 दिन के लिए रोज 40 मिनट तक कोई भी एरोबिक एक्सरसाइज करने से रक्त संचार बेहतर होता है, ऊर्जा बढ़ती है और समग्र फिटनेस और आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • संतुलित आहार का सेवन करें: अपने आहार में ज्यादा से ज्यादा सब्जियों, फलों, साबुत अनाज और लीन प्रोटीन के स्रोतों को शामिल करें।
  • डिप्रेशन और चिंता जैसे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को नियंत्रित करें: ये न केवल आपके यौन स्वास्थ्य, बल्कि आपके संपूर्ण स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल सकते हैं।

2018 के एक शोध में पाया गया है कि स्वस्थ आहार का सेवन करने से इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लक्षणों में कमी लाई जा सकती है।

2018 के एक अन्य शोध में यह भी पाया गया कि हफ्ते में चार दिन रोज 40 मिनट के व्यायाम ने 6 महीने के भीतर इरेक्टाइल डिसफंक्शन को कम कर दिया, विशेष रूप से हृदय रोग, मोटापे या गतिहीन जीवन शैली के कारण इरेक्टाइल डिसफंक्शन का अनुभव करने वाले व्यक्तियों में।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

कभी-कभार सेक्स के दौरान लिंग पूरा खड़ा न होना या ढीला रह जाना सामान्य है। ऐसा अक्सर तब होता है, जब आप:

  • थके हुए
  • विचलित
  • तनावयुक्त
  • नशे में

होते हैं।

यदि आप बार-बार लिंग ढीला रह जाने, खड़ा न होने या सेक्स में असंतुष्टि का अनुभव करते हैं, और यदि अपनी जीवनशैली में स्वस्थ बदलाव लाने के बावजूद कोई सुधार नहीं आ रहा है, तो आपको एक डॉक्टर या यूरोलोजिस्ट से मिलना चाहिए।

अन्य संकेत जिनके दिखाई देने पर आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए, वह निम्न हैं:

  • आपकी सेक्स इच्छा में काफी ज्यादा कमी आना: ये हार्मोनल बदलाव या तनाव, डिप्रेशन, खराब नींद, या फिर रिश्ते में खटास के कारण हो सकता है।
  • शीघ्रपतन: खासतौर से तब जब यदि आप अपेक्षा से बहुत पहले स्खलित हो रहे हैं।
  • लिंग खड़ा होने या स्खलन के दौरान दर्द होना: ये ऊतक क्षति या संक्रमण के कारण हो सकता है।
  • पेशाब करते समय दर्द होना: यह एक संक्रमण या अन्य स्थितियों का संकेत हो सकता है, जो आपके मूत्राशय को प्रभावित कर सकती हैं।

लिंग के ढीलेपन के उपचार विकल्प क्या-क्या हैं?

उत्तेजना के दौरान लिंग पूरा खड़ा न होने या ढीला रह जाने के सबसे आम उपचार पीडीई 5 अवरोधक (PDE5 inhibitors) जैसी दवाएं हैं। इन दवाओं में टाडालाफिल (सियालिस) और सिल्डेनाफिल (वियाग्रा) सबसे ज्यादा प्रचलित और कारगर हैं।

ये दवाएं साइक्लिक ग्वानोसिन मोनोफॉस्फेट (सीजीएमपी) की रक्षा करने का काम करती हैं, जिससे लिंग में रक्त के प्रवाह को प्रोत्साहन मिलता है और यौन क्रिया के दौरान कोरपोरा कावेर्नोसा में अधिक रक्त भरने और लम्बे समय तक भरे रहने की क्षमता बढ़ती है।

लिंग को पूरा खड़ा करने का एक अन्य संभावित उपचार है वैक्यूम पंप (या पेनिस पंप)। इसमें एक ट्यूब होती जिसके एक सिरे को लिंग पर पहनना होता है और दूसरा सिरा एक हवा खींचने वाले पंप से जुड़ा होता है। पंप ट्यूब से हवा को बाहर निकालता है, जिससे लिंग पर एक वैक्यूम बनता है और उसमें रक्त के प्रवाह बढ़ता है। पंप को निकालते के बाद लिंग के आधार पर एक रबड़ की रिंग पहनना होती है, जिससे लिंग से रक्त जल्दी बाहर नहीं निकल पाता और वह लम्बे समय तक कठोर बना रहता है।

लिंग के इंजेक्शन या इम्प्लांट सर्जरी भी इरेक्टाइल डिसफंक्शन के गंभीर मामलों या जो मधुमेह जैसी किसी अन्य स्थिति के कारण होते हैं, उनका इलाज करने में मदद कर सकते हैं।

निष्कर्ष

लिंग को खड़ा करने के लिए उसके भीतर मौजूद ऊतकों में अच्छा रक्त प्रभाह होना आवश्यक है। और लिंग पूरा खड़ा और कठोर करने के लिए केवल 130 मिलीलीटर रक्त की आवश्यकता होती है।

लेकिन लिंग में उचित रक्त प्रवाह के लिए सही वातावरण बनाने में दिमाग, तंत्रिका तंत्र और साथ ही कुछ हार्मोन और रसायन शामिल होते हैं। यौन क्रिया को स्वस्थ बनाये रखने के लिए कई कारक अपनी भूमिका निभाते हैं, और इनमें से किसी के भी ठीक से काम न करने से लिंग में ढीलापन आ सकता है।

यदि आप अपने लिंग के खड़ेपन या कठोरपन में कोई सार्थक बदलाव देखते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। यह होना एक आम समस्या है और अक्सर कारक के आधार पर इसके कई उपचार विकल्प उपलब्ध हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.