लिंग सिकुड़ने के कारण और इलाज

आपके लिंग की लंबाई कई कारणों से एक इंच तक कम हो सकती है।

आम तौर पर, लिंग के आकार में परिवर्तन एक इंच से कम होता है, हालाँकि यह इससे ज्यादा भी हो सकता है।

थोड़ा छोटा लिंग आपके सक्रिय और संतोषजनक यौन जीवन की क्षमता को प्रभावित नहीं करेगा।

लिंग के सिकुड़ने के कारणों और इसके लक्षण को प्रबंधित करने के तरीकों के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहें।

कारण

आपके लिंग की लंबाई कम होने के कुछ सामान्य कारण निम्न हो सकते हैं:

  • उम्र बढ़ना
  • मोटापा
  • प्रोस्टेट की सर्जरी
  • लिंग में अत्यधिक टेढ़ापन आना, जिसे पेरोनी रोग के नाम ऐसे जाना जाता है

उम्र बढ़ना

जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपके लिंग और अंडकोष में थोड़ा छोटापन आ सकता है।

इसका एक कारण यह है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ आपकी धमनियों में वसा जमने लगता है, जिससे लिंग में रक्त संचार कम हो सकता है। इससे आपके लिंग के अंदर मौजूद इरेक्टाइल टिश्यू की स्पंजी नलियों की कोशिकाएँ मुरझाने लगती हैं। उत्तेजना के दौरान इरेक्टाइल टिश्यू में रक्त भरने के कारण ही आपका लिंग खड़ा होता है।

समय के साथ, सेक्स या खेल गतिविधियों के दौरान आपके लिंग पर बार-बार लगने वाली छोटी-छोटी चोटों के कारण, लिंग में स्कार टिश्यू बन सकते हैं। यह स्कार टिश्यू आपके लिंग के स्पंजी इरेक्टाइल टिश्यू को घेरने वाली म्यान पर बनते हैं। इससे लिंग के समग्र आकार में कमी आ सकती है और खड़े लिंग का आकार भी सीमित हो सकता है।

मोटापा

यदि आपका मोटापा बढ़ जाता है, खासतौर से आपके पेट के निचले हिस्से के आसपास, तो आपका लिंग अपनी सामान्य साइज से छोटा दिखाई दे सकता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि वसा की मोटी परत आपके लिंग की शाफ्ट को ढंकने लगती है।

इस स्थिति में जब आप अपने लिंग को ऊपर से देखते हैं, तो ऐसा लग सकता है कि यह छोटा हो गया है।

जिन पुरुषों को अत्यधिक मोटापा होता है, उनके सम्पूर्ण लिंग पर चर्बी जमा हो सकती है।

प्रोस्टेट सर्जरी

2008 में हुए एक शोध के अनुसार, प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी करवाने वाले लगभग 70% पुरुषों ने अपने लिंग में थोड़ा-बहुत छोटापन अनुभव किया। प्रोस्टेट कैंसर को हटाने की प्रक्रिया को रेडिकल प्रोस्टेटेक्टॉमी कहा जाता है।

विशेषज्ञ निश्चित नहीं हैं कि क्यों प्रोस्टेटक्टोमी के बाद लिंग छोटा हो जाता है। लेकिन इसका एक संभावित कारण व्यक्ति के लिंग को उनके शरीर में आगे तक खींचने वाली मांसपेशियों का असामान्य संकुचन हो सकता है।

इस सर्जरी के बाद लिंग खड़ा होने में भी कठिनाई होने लगती है, जिससे लिंग के ऊतकों में ऑक्सीजन की कमी आने लगती है और स्पंजी इरेक्टाइल टिश्यू सिकुड़ने लगते हैं। इसके फलस्वरूप इरेक्टाइल टिश्यू के आसपास कम खिंचाव वाले स्कार टिश्यू बनने लगते हैं और लिंग खड़ा होने पर पहले के मुकाबले छोटा दिखाई देता है।

यदि आप प्रोस्टेट सर्जरी के बाद लिंग के छोटेपन का अनुभव कर रहे हैं, तो आपके बैठे लिंग के छोटेपन की सीमा 1/2 से 3/4 इंच तक हो सकती है। हालाँकि कुछ लोगों को औसत से ज्यादा का छोटापन महसूस हो सकता है।

पेरोनी रोग

पेरोनी रोग में, लिंग में अत्यधिक टेढ़ापन विकसित हो जाता है, जो संभोग को दर्दनाक या असंभव बना देता है।

पेरोनी रोग आपके लिंग की लंबाई और मोटाई को भी कम कर सकता है।

पेरोनी रोग का कारण बनने वाले स्कार टिश्यू को हटाने के लिए की जाने वाली सर्जरी भी लिंग के आकार को कम कर सकती है।

 
 
 
 

डॉक्टर से कब मिलें?

यदि आप रेडिकल प्रोस्टेटक्टोमी करवाने जा रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से लिंग के छोटा होने की संभावनाओं पर चर्चा करें, ताकि वह आपकी किसी भी चिंता के बारे में आश्वासन दे सके।

यदि आपके लिंग में सूजन और दर्द के साथ टेढ़ापन विकसित होना शुरू हो गया है, तो यह पेरोनी रोग का शुरुआती लक्षण हो सकता है। ऐसा होने पर एक यूरोलॉजिस्ट (मूत्र रोग विशेषज्ञ) से मिलें।

उपचार

उम्र बढ़ने के साथ लिंग के आकार और कामकाज को ठीक बनाये रखा जा सकता है, यदि आप:

  • शारीरिक रूप से सक्रिय रहते हैं
  • पौष्टिक आहार का सेवन करते हैं
  • धूम्रपान नहीं करते
  • अत्यधिक शराब के सेवन से बचते हैं

यदि प्रोस्टेट सर्जरी के बाद आपका लिंग छोटा हो गया है, तो आपको धैर्य रखना चाहिए और प्रतीक्षा करनी चाहिए। कई मामलों में, 6 से 12 महीनों के भीतर लिंग दोबारा अपनी नार्मल साइज में आ जाता है।

प्रोस्टेट सर्जरी के बाद, आपका डॉक्टर पेनाइल रिहैबिलिटेशन नामक उपचार का सुझाव दे सकता है। इस उपचार में आपको अपने जननांगों के कामकाज को ठीक बनाये रखने के लिए दवाएं लेना होता है, जैसे सिल्डेनाफिल (वियाग्रा) याटा डालाफिल (सियालिस), और अपने लिंग में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए लिंग वर्धक यंत्र का उपयोग करना होता है।

अधिकांश पुरुषों को सर्जरी के बाद लिंग खड़ा करने में परेशानी होती है, जिससे लिंग के ऊतकों को ऑक्सीजन युक्त रक्त नहीं मिल पाता। दवाओं और लिंगवर्धक यंत्र के जरिये इन संवेदनशील ऊतकों को ताजा रक्त से पोषित करने से, ऊतक हानि को रोका जा सकता है।

पेरोनी रोग में उपचार, दवा, सर्जरी, अल्ट्रासाउंड और अन्य चरणों के जरिये लिंग की सतह के नीचे के स्कार टिश्यू को कम करने या हटाने पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।

पेरोनी रोग के कारण आई लिंग की सिकुड़न को ठीक नहीं किया जा सकता। हालाँकि लिंग का टेढ़ापन ठीक करना संभव है, जिससे आपके लिंग का कामकाज दोबारा सामान्य हो जाता है।

निष्कर्ष

यदि आप प्रोस्टेट सर्जरी के बाद लिंग छोटा होने का अनुभव करते हैं, तो जान लें कि यह समय के साथ ठीक हो सकता है।

अधिकांश पुरुषों के लिए, लिंग का सिकुड़ना उनके सुखद यौन अनुभव करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करेगा।

यदि सिकुड़न पेरोनी की बीमारी के कारण होती है, तो उचित उपचार लेने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.