अत्यधिक छोटे लिंग (माइक्रोपेनिस) के कारण, पहचान और उपचार

अत्यधिक छोटे लिंग को मेडिकल भाषा में माइक्रोपेनिस कहा जाता है। आमतौर पर इसकी जन्म के समय ही शिशु में पहचान की जा सकती है।

एक माइक्रोपेनिस किसी भी अन्य स्वस्थ लिंग की तरह ही अपनी दिखावट और कामकाज में समान होता है।

माइक्रोपेनिस का कारण क्या है?

जन्म से पहले, एक पुरुष शिशु का लिंग कुछ हार्मोन, मुख्य रूप से एंड्रोजन द्वारा विकसित किया जाता है।

यदि उसका शरीर पर्याप्त एंड्रोजन का उत्पादन नहीं करता है या इसके उत्पादन के लिए सामान्य रूप से प्रतिक्रिया नहीं करता है, तो परिणामस्वरूप उसका लिंग माइक्रोपेनिस हो सकता है। इसे माइक्रोफैलस भी कहा जाता है।

कुछ चिकित्सीय विकार, जो हॉर्मोन उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली पीयूष ग्रंथि या हाइपोथेलेमस को प्रभावित करते हैं, भी माइक्रोपेनिस का कारण बन सकते हैं।

हालाँकि बिना किसी कारण के भी लिंग एक माइक्रोपेनिस की तरह अपने आप भी विकसित हो सकता है।

सभी मामलों में यह हमेशा स्पष्ट नहीं होता है कि क्यों कुछ लड़के एक हार्मोन विकार के साथ पैदा होते हैं, जो माइक्रोपेनिस का कारण बनता है।

जिन लड़कों के परिवार में माइक्रोपेनिस होने का इतिहास होता है, उनमें इसके होने का जोखिम बढ़ जाता है।

साथ ही, 2011 में फ्रांस में हुए एक शोध के अनुसार, भ्रूण के कीटनाशकों और अन्य रसायनों के संपर्क में आने से उनमें माइक्रोपेनिस होने की संभावना बढ़ सकती है।

यह क्या है और क्या नहीं है

यह मानते हुए कि आपको कोई अन्य स्वास्थ्य संबंधी विकार नहीं हैं, आपके अत्यधिक छोटे लिंग को एक सामान्य स्वस्थ लिंग के समान ही कार्य करना चाहिए। आमतौर पर माइक्रोपेनिस में पेशाब करने और लिंग के खड़ा की क्षमता पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है।

हालाँकि कुछ मामलों में एक माइक्रोपेनिस शुक्राणुओं की कमी से जुड़ा होता है, जिससे व्यक्ति की प्रजनन क्षमता कम हो सकती है।

 
 
 
 

माइक्रोपेनिस की पहचान कैसे की जाती है?

माइक्रोपेनिस की पहचान के लिए डॉक्टर आपके व्यक्तिगत और पारिवारिक चिकित्सा इतिहास के बारे में पूछने के अलावा, आपका एक शारीरिक परिक्षण भी करेगा। इसमें लिंग का उचित माप लेना भी शामिल है।

डॉक्टर हार्मोन विकारों की जांच के लिए आपको ब्लड टेस्ट कराने की भी सलाह दे सकता है।

सही पहचान और निदान के लिए डॉक्टर आपको एक यूरोलॉजिस्ट और एंडोक्राइनोलॉजिस्ट से मिलने की सलाह दे सकता है। एक यूरोलॉजिस्ट मूत्रमार्ग और पुरुष प्रजनन प्रणाली के स्वास्थ्य में माहिर होता है। एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट हार्मोन विकारों में माहिर होता है।

इसलिए यदि आपको अपने लिंग के बारे में कोई चिंता है, तो सबसे पहले एक यूरोलॉजिस्ट से मिलना बेहतर विकल्प होता है।

लिंग का सही माप क्या होता है?

लिंग का सही माप इसके खड़े होने पर इसकी लम्बाई मापकर किया जाता है, जिसे मेडिकल भाषा में एसपीएल (स्ट्रेच पेनिस लेंथ) कहा जाता है।

नवजात शिशुओं का एसपीएल

चूँकि नवजात शिशु का लिंग खड़ा नहीं होता है, इसलिए उसके सामान्य लिंग को ही खींचकर मापा जाता है।

एक शिशु का औसत एसपीएल 2.8 से 4.2 सेंटीमीटर (1.1 से 1.6 इंच) होता है, जबकि लिंग की लंबाई 1.9 सेमी (0.75 इंच) से कम होने पर उसे माइक्रोपेनिस कहा जाता है।

लिंग की लंबाई 1.9 और 2.8 सेमी के बीच होने पर, उसे औसत से छोटा लिंग माना जा सकता है, लेकिन यह माइक्रोपेनिस नहीं होता।

यौवनारंभ लड़कों का एसपीएल

यौवनावस्था के शुरुआती चरण से गुजर रहे लड़कों, उदाहरण के लिए 9 से 10 वर्ष की आयु के लड़कों का औसत एसपीएल 6.3 सेंटीमीटर (2.48 इंच) होता है। यानी 3.8 सेमी (1.5 इंच) या उससे कम के एसपीएल को माइक्रोपेनिस माना जाएगा।

3.8 सेमी से 6.3 सेमी के बीच के एसपीएल को औसत से छोटा माना जाता है, लेकिन यह माइक्रोपेनिस नहीं होता।

वयस्क पुरुषों का एसपीएल

वयस्क पुरुषों का एसपीएल खड़े लिंग पर मापा जाता है।

वयस्क पुरुषों में, लिंग की औसत लंबाई लगभग 13.24 सेमी (5.21 इंच) होती है। एक माइक्रोपेनिस लिंग की लंबाई 9.32 सेमी (3.67 इंच) या उससे कम होती है।

ग्रुपमाइक्रोपेनिस एसपीएल
नवजात शिशु1.9 सेमी (0.75 इंच) से कम
यौवनारम्भ लड़के3.8 सेमी (1.5 इंच) से कम
वयस्क पुरुष9.32 सेमी (3.67 इंच) से कम

एक लिंग को मापने का उचित तरीका यह है कि इसे धीरे से आगे की ओर खींचना और टिप से आधार तक की लंबाई को मापना।

किसी और स्थिति को माइक्रोपेनिस समझ लेना

माइक्रोपेनिस होना वास्तव में एक दुर्लभ स्थिति है, जो दुनिया भर में अनुमानित 0.6 प्रतिशत पुरुषों को प्रभावित करती है।

देखने में जो लिंग छोटा प्रतीत होता है, हो सकता है कि वह तकनीकी रूप से माइक्रोपेनिस न हो। इसके बजाय यह दफन लिंग जैसी कोई अन्य स्थिति हो।

दफन लिंग

दफन लिंग सामान्य आकार का लिंग होता है, लेकिन यह पेट, जांघ या अंडकोश की स्किन की परतों के नीचे छिप जाने के कारण छोटा दिखाई देता है। आमतौर पर यह स्थिति बचपन में होती है, लेकिन यह वयस्क पुरुषों में भी विकसित हो सकती है।

यह स्थिति एक स्किन की असामान्यता के कारण हो सकती है, जिसके साथ लड़का पैदा होता है। या यह मोटापे से ग्रस्त किसी व्यक्ति के पेट और जननांगों के आसपास वसा जमा होने के निर्माण के कारण भी हो सकती है।

जैसे-जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है, उनकी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। इससे लिंग के आधार और कामकाज पर प्रभाव पढ़ सकता है। कमजोर मांसपेशियां लिंग को कुछ हद तक पीछे धकेल सकती हैं, जिससे कुछ पुरुषों में लिंग दब जाता है।

साथ ही, लिंग खड़ा होने के बाद स्वस्थ पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां सिकुड़ जाती हैं, जिससे लिंग में उचित मात्रा में रक्त बनाये रखने में मदद मिलती है। कमजोर मांसपेशियां रक्त को बाहर निकलने देती हैं, जिससे लिंग को खड़ा बनाये रखने में मुश्किल आती है।

झिल्लीदार लिंग

एक और स्थिति जिसे माइक्रोपेनिस समझा जा सकता है, वह है झिल्लीदार लिंग, जिसे “अगोचर लिंग” भी कहा जाता है। यह स्थिति जन्म से ही बच्चे में हो सकती है, या खतना की जटिलता के रूप में विकसित हो सकती है।

झिल्लीदार लिंग में अंडकोश से लिंग की शाफ्ट को जोड़ने वाली स्किन सामान्य से ज्यादा आगे तक जुड़ी होती है। इसका परिणाम यह होता है कि लिंग सामान्य से छोटा दिखता है, क्योंकि उसका सिर्फ सिरा और कुछ हिस्सा ही दिखाई देता है।

एक सामान्य कॉस्मेटिक सर्जरी के द्वारा इस समस्या को ठीक किया जा सकता है। लेकिन आमतौर पर इसे तब तक नहीं करवाना चाहिए जबतक कि पुरुष अपनी यौवनावस्था में न पहुँच जाए।

 
 
 
 

माइक्रोपेनिस का उपचार

अपने लिए बेहतर उपचार विकल्पों के बारे में जानने के लिए आपको यूरोलॉजिस्ट, एंडोक्राइनोलॉजिस्ट और सर्जन से मिलने की आवश्यकता होगी।

माइक्रोपेनिस का इलाज करवा लेने से व्यक्ति को सेक्स में आत्मविश्वास बढ़ाने और संतोषजनक यौन गतिविधि की संभावनाओं में सुधार करने में सहायता मिल सकती है।

जीवन की शुरुआत में ही उपचार करा लेने से ज्यादा बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

हॉर्मोन थेरेपी

हार्मोन थेरेपी अक्सर कम उम्र में शुरू की जा सकती है। यह यौवनावस्था से पहले होने वाले लिंग के विकास को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकती है।

इसकी शुरुआती टेस्टोस्टेरोन के एक छोटे से कोर्स के साथ की जाती है, ताकि यह पता लग सके कि लिंग कैसी प्रतिक्रिया देता है। हार्मोन को एक इंजेक्शन के माध्यम से या लिंग पर लगाई जाने वाले जेल या क्रीम के माध्यम से दिया जा सकता है।

टेस्टोस्टेरोन थेरेपी यौवनावस्था के पहले लिंग के विकास को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकती है, और इस बात के कम प्रमाण हैं कि यह यौवन और वयस्कता में भी प्रभावी हो।

यदि टेस्टोस्टेरोन अप्रभावी होता है, तो अन्य प्रकार के हार्मोन उपचार का उपयोग करके देखा जा सकता है।

फलोप्लास्टी (Phalloplasty)

किशोरों और वयस्क पुरुषों में माइक्रोपेनिस को ठीक करने के लिए फलोप्लास्टी नामक सर्जरी काफी प्रभावी और प्रचलित है। यह आमतौर पर तब की जाती है जब हार्मोन उपचार अप्रभावी रहे हों। हालांकि, कम उम्र के शिशुओं में भी यह सर्जरी की जा सकती है।

किसी भी अन्य सर्जरी की तरह ही इस सर्जरी के भी अपने कुछ जोखिम होते हैं। इसके कारण मूत्रमार्ग, लिंग के कामकाज और अन्य कार्यों को प्रभावित करने वाली जटिलताएं हो सकती हैं, और इनसे निपटने के लिए अतिरिक्त प्रक्रियाएं करवाने की आवश्यकता हो सकती है। कुछ का तो यह भी तर्क होता है कि इस सर्जरी से लिंग की लम्बाई और मोटाई में इतनी वृद्धि नहीं होती, जितने कि इसमें जोखिम हैं।

फिर भी, प्लास्टिक सर्जरी में प्रगति को देखते हुए और एक अनुभवी सर्जन से सर्जरी करवाने पर, कई लड़कों और पुरुषों ने बिना किसी दुष्प्रभाव के अपने माइक्रोपेनिस को ठीक करवाया है।

इसलिए सर्जरी करवाने से पहले आपको एक अनुभवी सर्जन से मिलना और सर्जरी के सभी संभावित जोखिमों और लाभों को समझना महत्वपूर्ण है।

अपने शरीर को स्वीकार करना

मीडिया और समाज में आम तौर पर लिंग के आकार को मर्दानगी के साथ जोड़कर देखा जाता है, जो कि एक गलत धारणा है। अक्सर एक अच्छे सेक्स में लिंग की साइज ज्यादा मायने नहीं रखती, बल्कि इसके बजाय दोनों पार्टनरों के बीच अंतरंगता, आत्मविश्वास और सेक्स करने की तकनीक ज्यादा महत्वपूर्ण होती है।

आप कुछ सेक्स कॉउंसलिंग में शामिल होकर, मनोवैज्ञानिक सलाह लेकर, कुछ थेरेपी लेकर और अंतरंगता के सही तरीकों के बारे में जानकर, अपने आत्मविश्वास को बड़ा सकते हैं और माइक्रोपेनिस के साथ अच्छा सेक्स करना सीख सकते हैं।

निष्कर्ष

माइक्रोपेनिस या अत्यधिक छोटा लिंग होना जन्मजात या अनुवांशिक समस्या होती है। एक माइक्रोपेनिस के साथ रहना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, जिसके लिए आपको एक मनोवैज्ञानिक परामर्श लेना आवश्यक है, चाहे फिर आप चिकित्सा उपचार लेना चाहते हों या नहीं।

माइक्रोपेनिस के बारे में गहराई से रिसर्च करके और विभिन्न अनुभवी डॉक्टरों से सलाह लेकर, आप अपने लिए बेहतर उपचार खोज सकते हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.