प्रजनन क्षमता बढ़ाने के 16 प्राकृतिक तरीके [शोध आधारित]

2013 के एक शोध अनुसार लगभग 15 प्रतिशत जोड़ों को प्रजनन सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बच्चा पैदा करने की राह कभी-कभी एक बड़ी चुनौती हो सकती है, लेकिन जान लें कि आप इन चुनौतियों में अकेले नहीं हैं।

सौभाग्य से, आपकी प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कुछ प्राकृतिक तरीके मौजूद हैं। शोधों द्वारा पता चला है कि अपने भोजन और जीवनशैली में बदलाव लाकर प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

प्रजनन क्षमता को बढ़ावा देने और तेजी से गर्भवती होने के 16 प्राकृतिक तरीके यहां दिए गए हैं।

1. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं

फोलेट और जिंक जैसे एंटीऑक्सिडेंट पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकते हैं। यह आपके शरीर में फ्री रेडिकल्स को निष्क्रिय कर देते हैं, जो शुक्राणु और अंडा कोशिकाओं दोनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

2012 में युवा और वयस्क पुरुषों पर हुए एक शोध में पाया गया कि प्रतिदिन 75 ग्राम एंटीऑक्सीडेंट युक्त अखरोट खाने से शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार होता है।

232 महिलाओं पर हुए एक शोध से पता चला है कि उच्च फोलेट का सेवन उनमें आरोपण (फर्टिलाइज़ेशन के बाद अंडे का गर्भाशय की दीवार से जुड़ने की प्रक्रिया) और जीवित बच्चे के जन्म की उच्च दर से जुड़ा था।

हालाँकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि कितना एंटीऑक्सिडेंट प्रजनन क्षमता को प्रभावित करेगा या नहीं करेगा, लेकिन इतना तो तय है कि यह महिला और पुरुष दोनों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

फल, सब्जियां, नट्स और अनाज जैसे खाद्य पदार्थ विटामिन सी और ई, फोलेट, बीटा कैरोटीन और ल्यूटिन जैसे लाभकारी एंटीऑक्सिडेंट से भरे होते हैं। तो इन स्वस्थ खाद्य पदार्थों को अपने भोजन में शामिल करना अच्छा विचार है।

2. सुबह का नाश्ता करें बढ़ाएं

पर्याप्त नाश्ता खाने से प्रजनन समस्याओं वाली महिलाओं को मदद मिल सकती है।

एक शोध में पाया गया कि अधिक नाश्ता खाने से पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) के हार्मोनल प्रभाव में सुधार हो सकता है, जो बांझपन का एक प्रमुख कारण है। पीसीओएस एक हार्मोनल विकार है जिसके कारण महिलाओं के अंडाशय (ओवरी) का आकार बढ़ जाता है और उनके बाहरी किनारों पर छोटे उभार (पुटिकाएँ) बन जाते हैं।

मध्यम वजन वाली महिलाएं जो पीसीओएस से ग्रसित थीं, उनके द्वारा अपनी अधिकतम कैलोरी सुबह के नाश्ते में लेने से उनके इंसुलिन के स्तर में 8 प्रतिशत और टेस्टोस्टेरोन के स्तर में 50 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

इसके अलावा, 12-सप्ताह के शोध के अंत तक, इन महिलाओं ने उन महिलाओं की तुलना में अधिक ओव्यूलेट किया, जिन्होंने एक छोटा नाश्ता और बड़ा रात का खाना खाया था। इस तरह से उनकी प्रजनन क्षमता में सुधार होता हुआ देखा गया।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अपने शाम के भोजन के आकार को कम किए बिना अपने नाश्ते का आकार बढ़ाने से आपमें वजन बढ़ने की संभावना है।

3. ट्रांस वसा से बचें

ट्रांस वसा, जिसे ट्रांस-अनसैचुरेटेड फैटी एसिड या ट्रांस फैटी एसिड भी कहा जाता है, एक प्रकार का असंतृप्त वसा होता है।

प्रजनन क्षमता और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए हर दिन स्वस्थ वसा का सेवन करना महत्वपूर्ण है। लेकिन, ट्रांस वसा के इंसुलिन संवेदनशीलता पर नकारात्मक प्रभावों के कारण, यह महिलाओं के ओवुलेशन (अंडा बनने की प्रक्रिया) पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

ट्रांस वसा आमतौर पर हाइड्रोजनीकृत वनस्पति तेलों में पाया जाता है और आमतौर पर कृत्रिम मक्खन, तले हुए खाद्य पदार्थ, प्रोसेस्ड फूड्स और ओवन में बेक किये हुए खाद्य पदार्थों में होता है।

शोधों से पता चला है कि पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा उच्च ट्रांस वसा और कम स्वस्थ वसा युक्त आहार खाने से उनमें बाँझपन होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

4. अगर आपको पीसीओएस है, तो कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन कम करें

पीसीओएस वाली महिलाओं के लिए कम कार्बोहाइड्रेट्स वाला भोजन (जहां 45 प्रतिशत से कम कैलोरी कार्बोहाइड्रेट्स से आती हो) का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

कई शोधों से संकेत मिलता है कि कार्बोहाइड्रेट्स सेवन को संयमित करने से पीसीओएस के कुछ पहलुओं पर लाभकारी प्रभाव मिलता है।

कम कार्बोहाइड्रेट्स वाला आहार आपमें स्वस्थ वजन बनाए रखने, इंसुलिन के स्तर को कम करने और वसा हानि को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ मासिक धर्म को नियमित बनाये रखने में भी मदद कर सकता है।

5. रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन कम से कम करें

कार्बोहाइड्रेट्स की बात करें तो आपके लिए केवल इसकी मात्रा को कम करना महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि आप कौन से प्रकार का कार्बोहाइड्रेट्स कम कर रहे हैं यह भी महत्वपूर्ण है।

रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स विशेष रूप से नुकसानदायक हो सकते हैं। शुगर युक्त खाद्य व पेय, प्रोसेस्ड अनाज, सफेद पास्ता, ब्रेड और चावल में अत्यधिक रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स पाया जाता है।

ये कार्बोहाइड्रेट्स शरीर द्वारा काफी जल्दी अवशोषित कर लिए जाते हैं, जिससे ब्लड शुगर और इंसुलिन के स्तर में तेजी से वृद्धि होती है।

इंसुलिन रासायनिक रूप से महिलाओं के अंडकोषों में पाए जाने वाले होर्मोनों के समान होता है। महिलाओं के अंडकोष के हॉर्मोन उनके अंडों को परिपक्व होने में मदद करते हैं।

शरीर में लगातार उच्च इंसुलिन का स्तर, कम अंडकोष हार्मोन के उत्पादन का कारण बन सकता है, क्योंकि शरीर को लगता है कि उसे इसकी आवश्यकता नहीं है। इससे अंडे की परिपक्वता और ओव्यूलेशन की प्रक्रिया में अवरोध आ सकता है।

तो यह देखते हुए कि पीसीओएस उच्च इंसुलिन के स्तर से जुड़ा होता है, रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स इसे और भी बदतर बना सकते हैं।

6. अधिक फाइबर खाएं

फाइबर आपके शरीर को अतिरिक्त हार्मोन से छुटकारा पाने में मदद करता है और ब्लड शुगर को संतुलित रखता है। कुछ प्रकार के फाइबर आंतों में एस्ट्रोजन को बांधकर इसकी अतिरिक्त मात्रा को हटाने में मदद कर सकते हैं। फिर यह अतिरिक्त एस्ट्रोजन शरीर से अपशिष्ट उत्पाद के रूप में बाहर निकल जाता है।

2009 के एक पुराने शोध में घुलनशील फाइबर, जो कि एवोकाडो, शकरकंद, जई और फलों में पाया जाता है, को एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर को कम करने में फायदेमंद पाया गया। विशेष रूप से फलों में मौजूद घुलनशील फाइबर को एस्ट्रोजन की सांद्रता कम करने में फायदेमंद पाया गया है।

उच्च फाइबर वाले कुछ अन्य खाद्य पदार्थ निम्न हैं: साबुत अनाज, फल, सब्जियां और बीज (सेम, दालें आदि)।

महिलाओं को दैनिक रूप से 25 ग्राम फाइबर और पुरुषों को 31 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए

2009 के एक शोध में पाया गया कि प्रतिदिन 10 ग्राम अतिरिक्त अनाज फाइबर खाने से 32 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में ओवुलेशन में रुकावट के कारण होने वाले बाँझपन का जोखिम 44 प्रतिशत कम होता है।

हालाँकि अत्यधिक फाइबर का सेवन करने से परिणाम उल्टा हो सकता है। इसलिए आपको फाइबर के सेवन की मात्रा बढ़ाना चाहिए या नहीं इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

7. प्रोटीन स्रोत को बदलें

कुछ पशु प्रोटीन (जैसे मांस, मछली और अंडे) को वनस्पति प्रोटीन स्रोतों (जैसे सेम, नट्स, और बीज) से बदलने से बांझपन का खतरा कम होता है।

एक शोध से पता चला है कि जब महिलाओं में उनकी कुल कैलोरी की 5 प्रतिशत मात्रा पशु प्रोटीन स्त्रोतों के बजाय वनस्पति प्रोटीन के स्त्रोतों से आती है, तो उनमें ओवुलेटरी इनफर्टिलिटी का जोखिम 50 प्रतिशत से भी ज्यादा कम हो जाता है।

2018 के एक शोध ने निष्कर्ष निकाला कि अधिक मछली खाने से बांझपन के उपचार के बाद जीवित बच्चे को जन्म देने की संभावना उच्च होती है।

इसलिए अपने आहार में पशु प्रोटीन की जगह सब्जियों, सेम, दाल, नट्स, और मछली के प्रोटीन के साथ बदलने पर विचार करें।

8. उच्च वसा वाले दुग्ध उत्पाद चुनें

कम वसा वाले दुग्ध खाद्य पदार्थों के अधिक सेवन से बांझपन का खतरा बढ़ सकता है, जबकि उच्च वसा वाले दुग्ध खाद्य पदार्थ इसे कम कर सकते हैं।

2007 के एक बड़े शोध में रोज एक बार से अधिक और सप्ताह में एक बार से कम उच्च वसा वाले दुग्ध उत्पाद खाने के प्रभावों को देखा गया।

परिणाम में यह पाया गया कि जिन महिलाओं ने प्रतिदिन उच्च वसा वाले दुग्ध उत्पादों को एक या अधिक बार सेवन किया, उनके बांझ होने की संभावना 27 प्रतिशत कम थी।

इन संभावित लाभों को प्राप्त करने के लिए, प्रति दिन एक उच्च वसा वाले दुग्ध उत्पाद, जैसे कि एक गिलास दूध या पूर्ण वसा वाले प्राकृतिक दही का सेवन करें।

9. मल्टीविटामिन लें

यदि महिला मल्टीविटामिन लेती है, तो उसमें ओवुलेटरी बाँझपन का अनुभव होने की संभावना कम हो सकती है।

यहाँ तक कि 2008 के एक शोध में पाया गया कि जो महिलाएं सफ्ताह में 3 या अधिक मल्टीविटामिन का सेवन करती थीं, उनमें से 20 प्रतिशत महिलाएं ओवुलेटरी इनफर्टिलिटी से बच गईं।

2019 के एक अन्य शोध में पाया गया कि विटामिन में पाए जाने वाले सूक्ष्म पोषक तत्वों की प्रजनन क्षमता में आवश्यक भूमिकाएँ होती हैं।

जो महिलाएं गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, उनके लिए फोलेट युक्त मल्टीविटामिन विशेष रूप से फायदेमंद हो सकता है।

तो मल्टीविटामिन के सेवन के बारे में विचार करें और अपने डॉक्टर से बात करें कि क्या यह आपको गर्भधारण करने में मदद कर सकते हैं।

10. सक्रिय रहें

नियमित व्यायाम करने से आपके स्वास्थ्य के लिए कई लाभ होते हैं, जिसमें प्रजनन क्षमता में वृद्धि भी शामिल है।

2017 के एक शोध के अनुसार हल्की शारीरिक गतिविधि बढ़ाने से महिलाओं और पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, विशेषकर मोटापे से ग्रस्त लोगों के लिए।

आपको यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आप सिर्फ माध्यम गति वाले व्यायाम ही करें, नहीं तो परिणाम उल्टे हो सकते हैं। 2016 के एक शोध के अनुसार अत्यधिक उच्च तीव्रता वाला व्यायाम वास्तव में कुछ महिलाओं में प्रजनन क्षमता में कमी ला सकता है।

अत्यधिक तीव्र गति वाला व्यायाम शरीर में ऊर्जा संतुलन को बदल सकता है, और आपके प्रजनन तंत्र को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। इसलिए यदि आप अपने व्यायाम की गतिविधि को बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, तो इसे धीरे-धीरे बढ़ाएं न कि एकदम से।

11. आराम करने के लिए समय निकालें

यदि आप गर्भ धारण करने की कोशिश कर रही हैं, तो आपको अपने तनाव के स्तर पर भी ध्यान देना आवश्यक हो सकता है।

जैसे-जैसे आपका तनाव का स्तर बढ़ता है, आपके गर्भवती होने की संभावना कम होती जाती है। यह संभवतः तनाव के कारण होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों के कारण होता है।

तनाव और प्रजनन क्षमता के बीच संबंधों पर हुए शोधों के परिणाम मिश्रित हैं, लेकिन इस बात के प्रमाण भी हैं कि तनाव प्रजनन क्षमता को दबा सकता है

आराम करने और नियमित मेडिटेशन व योग के जरिये तनाव के स्तर को काबू में लाया जा सकता है। इसके अलावा आप मनोवैज्ञानिक सहायता और काउन्सलिंग भी ले सकती हैं।

12. कैफीन का सेवन कम करें

कैफीन और प्रजनन क्षमता के बीच संबंध निर्णायक नहीं है।

1997 के एक पुराने शोध से पता चलता है कि जो महिलाएं रोजाना 500 मिलीग्राम से अधिक कैफीन का सेवन करती हैं, उन्हें गर्भवती होने में 9 महीने तक का समय लगता है।

हालांकि, अन्य शोधों में कैफीन के सेवन और बांझपन के बढ़ते जोखिम के बीच कोई मजबूत संबंध नहीं पाया गया।

तो सुरक्षित रहने के लिए प्रति दिन अपने कैफीन का सेवन एक या दो कप कॉफी या चाय तक सीमित करने पर विचार करें।

13. स्वस्थ वजन बनाये रखें

जब पुरुषों और महिलाओं के लिए प्रजनन क्षमता की बात आती है तो वजन सबसे प्रभावशाली कारकों में से एक है। वास्तव में, कम वजन या अधिक वजन होना बांझपन में वृद्धि के साथ जुड़ा हुआ है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके शरीर में जमा वसा की मात्रा मासिक धर्म के कार्य को प्रभावित करती है। मोटापा विशेष रूप से ओव्यूलेशन की कमी और मासिक धर्म की अनियमितता के साथ जुड़ा हुआ है, और यह अंडा विकास की प्रक्रिया में भी हस्तक्षेप कर सकता है।

तो अपने गर्भवती होने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए, अपना वजन कम करने का प्रयास करें। यदि आपका वजन सामान्य से कम है तो उसे बढ़ाएं।

14. आयरन की मात्रा को बढ़ाएं

गर्भधारण के लिए शरीर में आयरन भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और ओवुलेटरी इनफर्टिलिटी का खतरा कम कर सकता है। आप डॉक्टर की सलाह से आयरन सप्लीमेंट्स ले सकती हैं या नॉन-हीम आयरन, जो कि पौधे-आधारित खाद्य पदार्थों में होता है, का सेवन कर सकती हैं।

हाल ही में 2019 के एक शोध ने निष्कर्ष निकाला कि हीम आयरन (जो मांस आदि पशु स्रोतों में होता है) का प्रजनन क्षमता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा और आयरन सप्लीमेंट्स का केवल उन महिलाओं को कुछ लाभ मिला जिनमें पहले से ही आयरन की कमी थी।

इसलिए यह पुष्टि करने के लिए अधिक प्रमाणों की आवश्यकता है कि क्या सभी महिलाओं को आयरन के सप्लीमेंट लेना चाहिए, खासकर अगर उनमें आयरन का स्तर पहले से ही स्वस्थ हो। इसलिए डॉक्टर की मदद से अपने आयरन के स्तर की जाँच करवाना एक अच्छा कदम है।

आपके शरीर के लिए नॉन- हीम आयरन स्त्रोतों से आयरन को अवशोषित करना अधिक कठिन होता है, इसलिए अवशोषण बढ़ाने के लिए इन्हें विटामिन सी से भरपूर उच्च खाद्य पदार्थों या पेय के साथ लेने का प्रयास करें।

15. अत्यधिक शराब के सेवन से बचें

शराब का सेवन प्रजनन क्षमता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं है कि कितनी शराब के सेवन से यह प्रभाव पैदा हो सकता है।

2016 के एक शोध में पाया गया कि प्रति सप्ताह 14 से अधिक पैक पीने से प्रजनन क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पढ़ सकता है।

हालांकि, सीमित शराब के सेवन के प्रमाण मिले-जुले हैं। एक पुराने शोध में सीमित मात्रा में शराब के सेवन और बांझपन के बीच कोई संबंध नहीं पाया गया, जबकि अन्य शोधों से पता चलता है कि शराब का सीमित सेवन भी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

अंत में, यह तो तय है कि अत्यधिक शराब के सेवन से बचने से आपको मदद मिल सकती है।

16. प्राकृतिक सप्लीमेंट

कुछ प्राकृतिक सप्लीमेंट और बढ़ी हुई प्रजनन क्षमता के बीच संबंध पाया गया है, विशेष रूप से पशु अध्ययनों में। कोई भी प्राकृतिक सप्लीमेंट लेने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें क्योंकि मनुष्यों में इनकी प्रभावशीलता का अच्छी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है।

कुछ प्राकृतिक सप्लीमेंट निम्न हैं:

  • माका: माका मध्य पेरू में उगाए जाने वाले एक पौधे से आता है। कुछ पशुओं पर हुए शोधों में पाया गया कि इससे प्रजनन क्षमता में सुधार होता है, लेकिन मानव शोधों के परिणाम मिश्रित हैं। कुछ शोध इसे शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करते हुए पाते हैं, जबकि अन्य शोध कोई प्रभाव नहीं पाते हैं।
  • बी पॉलेन (मधुमक्खी के छत्ते का पराग): बी पॉलेन को बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, प्रजनन क्षमता और समग्र पोषण से जोड़कर देखा गया है। एक पशु शोध में पाया गया कि बी पॉलेन का सेवन बेहतर शुक्राणु गुणवत्ता और पुरुष प्रजनन क्षमता से जुड़ा था। हालांकि, मानव अध्ययन अभी भी आवश्यक हैं।
  • बी प्रोपोलिस (मधुमक्खी का छत्ता): एंडोमेट्रियोसिस (गर्भाशय के बाहर एंडोमेट्रियल ऊतक की उपस्थिति और श्रोणि दर्द के कारण होने वाली स्थिति) वाली महिलाओं के एक शोध में पाया गया कि दिन में दो बार बी प्रोपोलिस लेने से 9 महीने के बाद महिलाओं के गर्भवती होने की सम्भावना 40 प्रतिशत बढ़ गई। हालाँकि अभी और शोधों की आवश्यकता है।
  • रॉयल जेली (रानी मधुमक्खी का खाना): रॉयल जेली, जो मजदूर मधुमक्खियों द्वारा रानी मधुमक्खी के खाने के लिए बनाई जाती है, अमीनो एसिड, लिपिड, शुगर, विटामिन, फैटी एसिड, आयरन और कैल्शियम से भरी होती है। चूहों पर हुए शोध में पाया गया कि यह उनके प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है।

निष्कर्ष

शरीर व प्रजनन प्रणाली को स्वस्थ बनाये रखने के लिए और आपको गर्भवती होने में मदद करने के लिए अच्छा पोषण महत्वपूर्ण है।

इसलिए पौष्टिक आहार खाने और जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव लाने से आपकी प्रजनन क्षमता बढ़ाने और शरीर को गर्भावस्था के लिए तैयार करने में मदद मिल सकती है।

यदि आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप आज से ही स्वस्थ पोषण और जीवन शैली के स्वस्थ विकल्प चुनना शुरू कर दें। साथ ही, तनाव और चिंता को अपने ऊपर हावी न होने दें।

स्वाभाविक रूप से प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए कुछ त्वरित सुझाव

  • एक एंटीऑक्सीडेंट सप्लीमेंट लेने या एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ खाने से प्रजनन क्षमता में सुधार हो सकता है, खासकर बांझपन वाले पुरुषों में।
  • कुछ शोधों से पता चलता है कि नाश्ते में अधिक कैलोरी और शाम के भोजन में कम कैलोरी खाने से प्रजनन क्षमता में सुधार हो सकता है।
  • प्रजनन क्षमता को बूस्ट करने के लिए ट्रांस फैट वाले खाद्य पदार्थों से परहेज करें। इसके बजाय स्वस्थ वसा से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं, जैसे कि एक्स्ट्रा वर्जिन जैतून का तेल।
  • रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स में उच्च आहार खाने से इंसुलिन का स्तर बढ़ सकता है, जिससे बांझपन का खतरा बढ़ सकता है और गर्भवती होने में कठिनाई हो सकती है।
  • प्रोटीन के पशु स्रोतों (मांस अदि) के बजाय वनस्पति स्रोतों (दालें, सेम आदि) को खाने से महिलाओं में प्रजनन क्षमता में सुधार हो सकता है।
  • उच्च वसा वाले दुग्ध उत्पादों के सेवन से प्रजनन क्षमता में सुधार और गर्भवती होने की संभावना बढ़ सकती है।
  • यदि आपको अपने आहार से आवश्यक सभी पोषक तत्व नहीं मिल रहे हैं, तो मल्टीविटामिन सप्लीमेंट लेने से प्रजनन क्षमता बढ़ाने में मदद मिल सकती है।
  • एक गतिहीन जीवन शैली बांझपन से जुड़ी हुई है, और नियमित व्यायाम प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है। हालांकि, बहुत अधिक तीव्र व्यायाम करने से विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।
  • उच्च तनाव और चिंता का स्तर आपके गर्भधारण की संभावना को कम कर सकता है। इसलिए अपने तनाव के स्तर को प्रबंधित करने से आपके गर्भवती होने की संभावना बढ़ सकती है।
  • कम वजन या अधिक वजन होने से भी आपके गर्भवती होने की संभावना कम हो सकती है।