सेक्स में अच्छा अनुभव क्यों होता है?

क्या आपको सेक्स करना पसंद है? यदि हाँ, तो आप अकेले नहीं हैं। ज्यादातर पुरुषों और महिलाओं के लिए सेक्स एक सुखद अनुभव होता है।

सेक्स करना इतना अच्छा कैसे और क्यों लगता है, इसका पूरा वैज्ञानिक विश्लेषण हमने नीचे दिया है:

विज्ञान के अनुसार इसके बहुत से कारण हैं

वैज्ञानिकों का कहना है कि शरीर में ऐसी बहुत ही चीजें होती हैं, जो सेक्स को अच्छा महसूस कराती हैं।

आनंद की ये भावनाएँ शारीरिक और भावनात्मक चरणों की एक श्रृंखला से जुड़ी होती हैं, जो आप तब अनुभव करते हैं जब आप सेक्स कर रहे होते हैं या उत्तेजित होते हैं।

तथाकथित यौन प्रतिक्रिया चक्र के चार चरण निम्न हैं:

  • उत्तेजना
  • पठार
  • ऑर्गाज्म
  • रिकवरी

ये चार चरण पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा अनुभव किए जाते हैं, और संभोग व हस्तमैथुन दोनों के दौरान हो सकते हैं। हालाँकि हर व्यक्ति में इन चरणों की अलग-अलग अवधि और तीव्रता होती है, क्योंकि हर व्यक्ति का शरीर अलग होता है।

चरण 1: उत्तेजना

चरण 1: उत्तेजना

उत्तेजना के दौरान आप या आपकी साथी निम्न चीजें अनुभव कर सकती है:

  • मांसपेशियों में तनाव बढ़ना
  • दिल की धड़कन और साँस में बढ़ोतरी होना
  • उत्साह में स्किन का लाल होना
  • महिलाओं के निप्पल का कठोर होना और स्तनों में कसावट आना
  • जननांगों में रक्त प्रवाह में बढ़ोतरी होना (जिससे पुरुषों का लिंग खड़ा होने लगता है और महिलाओं की क्लाइटोरिस व योनि की भीतरी लेयर (लेबिया मिनोरा) का फूल जाती है)
  • पुरुषों के अंडकोष में सूजन और कसाव आना
  • महिलाओं की योनि में नमी बढ़ना
  • पुरुषों के लिंग से प्राकृतिक लुब्रीकेंट निकलना

चरण 2: पठार

चरण 2: पठार

इस चरण में आपको और आपकी पार्टनर को निम्न चीजें अनुभव हो सकती हैं:

  • चरण 1 के शारीरिक परिवर्तनों में और ज्यादा बढ़ोतरी होना (तेज साँस, तेज दिल की धड़कन, मांसपेशियों में तनाव और रक्तचाप)
  • योनि की सूजन में बढ़ोतरी होना और योनि की दीवारों का रंग गहरा बैंगनी रंग का हो जाना
  • महिला की क्लाइटोरिस में संवेदनशीलता बढ़ जाना (कभी-कभी यह संवेदनशीलता इतनी ज्यादा होती है कि क्लाइटोरिस को स्पर्श करने से दर्द हो सकता है) और क्लाइटोरिस का पीछे की तरह खिसक जाना ताकि यह सीधे लिंग द्वारा उत्तेजित न हो
  • पुरुष के अंडकोष का ऊपर लिंग की ओर खिंच जाना
  • मांसपेशियों में ऐंठन होना खासतौर से पैरों, चेहरे और हाथों में

चरण 3: ऑर्गाज्म

चरण 3: ऑर्गाज्म

इस चरण में आप या आपकी पार्टनर निम्न चीजें अनुभव कर सकती हैं:

  • मांसपेशियों में तेजी से कम्पन्न होना
  • ब्लड प्रेशर, दिल की धड़कन और साँसों की तीव्रता अपने उच्चतम स्तर पर होना और दोनों पार्टनर द्वारा तेजी से अपने शरीर में ऑक्सीजन लेना
  • मांसपेशियों में तेज ऐंठन, खासतौर से पैरों की
  • यौन तनाव का अचानक और तेजी से रिहाई होना
  • महिलाओं में योनि की मांसपेशियों में कम्पन्न होना और साथ ही गर्भाशय में लयबद्ध कम्पन्न होना
  • पुरुषों में लिंग के आधार पर मांसपेशियों का लयबद्ध तरीके से कम्पन्न होना, जिसके परिणामस्वरूप वीर्य स्खलन होता है
  • परम उत्तेजना के कारण शरीर का लाल पढ़ना

महिलाएं लगातार उत्तेजना के साथ एक बार में कई बार ऑर्गाज्म प्राप्त कर सकती हैं। लेकिन पुरुषों को एक बार स्खलित होने के बाद दोबारा उत्तेजित होने में थोड़ा समय लगता है। इस समय को रिफ्रैक्टरी पीरियड कहा जाता है और यह अलग-अलग पुरुषों में 1 से 24 घंटों तक का हो सकता है व उम्र बढ़ने के साथ-साथ बढ़ता जाता है।

महिलाओं में रिफ्रैक्टरी पीरियड सिर्फ कुछ सेकंड्स का हो सकता है।

चरण 4: रिकवरी

चरण 4: रिकवरी

इस चरण के दौरान:

  • शरीर अपनी सामान्य स्थिति में आ जाता है
  • शरीर के सूजे हुए और खड़े भाग अपने सामान्य आकार और रंग में वापिस आ जाते हैं
  • दोनों पार्टनरों में खुशी, अंतरंगता और थकान की भावना में बढ़ोतरी होती है
 
 
 
 

सेक्स में आपके दिमाग को अच्छा अनुभव क्यों होता है

दिमाग का खुद का एक आनंद का केंद्र होता है। जब आप अपनी पार्टनर के साथ शारीरिक रूप से करीब होते हैं, तो आपके दिमाग में ऑक्सीटोसिन नामक हॉर्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जिससे आप खुश और सुरक्षित महसूस करते हैं।

वैज्ञानिक बताते हैं कि हमारे दिमाग के कुछ हिस्से आनंद से जुड़े होते हैं, जो सेक्स या नशीली दवाओं के सेवन के बाद अधिक सक्रिय हो जाते हैं।

जब हम सेक्स करते हैं, तो हमारे शरीर द्वारा महसूस किए गए भौतिक संकेत हमारी तंत्रिकाओं के माध्यम से दिमाग को संकेत भेजते हैं, इसके फलस्वरूप दिमाग अपनी प्रतिक्रिया के रूप में कुछ रसायनों को छोड़ता है, जो हमें और भी अधिक आनंद का अनुभव कराते हैं।

कुछ शोध बताते हैं कि सेक्स और यौन उत्तेजना की लयबद्ध प्रकृति, आनंद का एक शारीरिक-मनोवैज्ञानिक लूप बनाती है। उदाहरण के लिए, जैसे-जैसे सेक्स के ऑर्गाज्म चरण के दौरान शारीरिक सुख बढ़ता है, वैसे ही मनोवैज्ञानिक आनंद भी बढ़ता है – और अधिक मनोवैज्ञानिक आनंद शारीरिक सुख को और ज्यादा बढ़ाता है, इसे ही शारीरिक-मनोवैज्ञानिक लूप कहा जाता है।

शोध से यह भी पता चलता है कि सेक्स की लय महिलाओं और पुरुषों को अपने लिए उपयुक्त यौन साथी चुनने में मदद कर सकती है। उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति उस अन्य व्यक्ति की ओर सबसे अधिक आकर्षित होगा जिसकी लय उसे सबसे अधिक आनंद देती है, क्योंकि एक अच्छी लय यौन फिटनेस का एक संकेत होती है।

बेहतर सेक्स कैसे करें

बेहतर सेक्स करने का सबसे अच्छा तरीका होता है, अपने शरीर और दिमाग की बातों को सुनना सीखें। यानी यह जानना कि सेक्स के दौरान आपको सबसे ज्यादा खुशी कौन और क्या देता है।

  • ऐसा सेक्स पार्टनर चुनें जिसके साथ आपको खुशी और संतुष्टि महसूस हो। अपनी सेक्स पार्टनर के साथ सहज महसूस करना आपको अच्छा सेक्स करने में मदद कर सकता है।
  • ऐसी सेक्स पोजीशन चुनें जो आपको सबसे ज्यादा खुशी देती हैं। अपने शरीर को खुद एक्स्प्लोर करने के लिए समय निकालें और जानें कि आप किन संवेदनाओं के प्रति सबसे अधिक आनंद लेते हैं। हस्तमैथुन आपकी यौन पसंदों के बारे में अधिक जानने का एक सुरक्षित, स्वस्थ और सामान्य तरीका है।
  • अपनी पार्टनर से बात करें कि उसे क्या पसंद है। सेक्स के बारे में बात करते समय अपनी पार्टनर के साथ संचार को पूरी तरह से खुला रखें।
  • अपनी पार्टनर की पसंद की चीजों को आजमाकर देखें और उसे अपनी पसंद की चीजों को आजमाने के लिए कहें। सेक्स तब अधिक सुखद होता है, जब इसमें शामिल दोनों पार्टनरों को इस अनुभव का आनंद मिल रहा हो। इसलिए जिन चीजों को आप दोनों सबसे ज्यादा एन्जॉय करते हैं, उन्हें सबसे अधिक आजमाएं।

अपने सेक्स को सुरक्षित बनायें

सुरक्षित सेक्स ही सबसे अधिक सुख प्रदान करने वाला सेक्स होता है। अच्छा यौन स्वास्थ्य – स्वस्थ संबंधों, नियोजित गर्भधारण और यौन संचारित संक्रमणों की रोकथाम को उच्च प्राथमिकता देता है।

सुनिश्चित करें कि आप सेक्स करने से पहले एक दूसरे की बातों से सहमत हों। यौन स्वास्थ्य के बारे में खुलकर बात करना उतना ही महत्वपूर्ण है – जितना कि यौन सुख के बारे में है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.