सेक्स के दौरान योनि टाइट होने के कारण, लक्षण और इलाज

कुछ महिलाओं में, सेक्स के दौरान योनि की मांसपेशियां अनैच्छिक रूप से या लगातार सिकुड़ती जाती हैं, जिससे योनि काफी टाइट या छोटी महसूस हो सकती है। इसे मेडिकल भाषा में वैजिनिस्मस (vaginismus) या योनि का संकुचन कहा जाता है।

इस संकुचन के कारण सेक्स रुक सकता है, योनि में लिंग फंस सकता है या सेक्स काफी दर्दनाक हो सकता है।

यह संकुचन की प्रक्रिया निम्न स्थितियों के दौरान शुरू हो सकती है:

  • जैसे ही पुरुष योनि में लिंग डालने की कोशिश करता है
  • जब महिला योनि में तंपन (tampon) डालती है
  • या जब महिला की योनि क्षेत्र के आस-पास छुआ जाता है

वैजिनिस्मस कामोत्तेजना में हस्तक्षेप नहीं करता है, लेकिन यह योनि में लिंग के प्रवेश को रोक सकता है।

आमतौर पर योनि के शारीरिक परिक्षण और अंदर-बाहर देखने से संकुचन का कोई कारण नहीं मिलता है। और न कोई शारीरिक असामान्यताएं इस स्थिति में योगदान करती हैं।

यौन विकार पुरुष और महिला दोनों में हो सकते हैं, और आमतौर पर विभिन्न तकनीकों या दवाओं के माध्यम से इनको प्रबंधित किया जा सकता है।

सेक्स के दौरान योनि टाइट हो जाने में आपकी कोई गलती नहीं है, इसलिए आपको इसको लेकर शर्मिंदा नहीं होना चाहिए और न ही खुद को दोष देना चाहिए। हालाँकि, ये विकार आपके रिश्तों और सेक्स जीवन की गुणवत्ता में हस्तक्षेप कर सकता है।

विशेषज्ञों को ठीक से नहीं पता कि सेक्स के दौरान कितनी महिलाओं को योनि संकुचन होता है, लेकिन अक्सर इस स्थिति को असामान्य या दुर्लभ माना जाता है।

योनि संकुचन के प्रकार

योनि संकुचन को दो प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:

  • मुख्य वेजिनिस्मस: जब लिंग का योनि में प्रवेश कभी नहीं हुआ हो
  • माध्यमिक योनिस्मस: जब लिंग का योनि प्रवेश पहले हासिल किया जा चुका है, लेकिन अब संभव नहीं है, संभावित रूप से स्त्री रोग संबंधी सर्जरी, आघात, या रेडिएशन जैसे कारकों के कारण

कुछ महिलाओं में रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) के बाद वेजिनिस्मस विकसित हो जाता है। इस दौरान जब एस्ट्रोजन का स्तर गिरता है, तो योनि की चिकनाई और लचीलेपन की कमी संभोग को दर्दनाक, तनावपूर्ण या असंभव बना देती है। इसके फलस्वरूप कुछ महिलाओं में वैजिनिस्मस हो सकता है।

दर्दनाक सेक्स

दर्दनाक सेक्स को मेडिकल भाषा में डिस्पेर्यूनिया कहा जाता है। अक्सर इसका कारण योनि के संकुचन को समझ लिया जाता है।

हालांकि, डिस्पेर्यूनिया के निम्न कारण भी हो सकते हैं:

  • लिंग या योनि में अल्सर
  • श्रोणि के आसपास सूजन (पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज)
  • योनिशोथ (योनि की सूजन)
  • जननांग में चोट

योनि संकुचन के कारण

योनि संकुचन का हमेशा कोई कारण नहीं होता है। अक्सर इसे निम्न कारणों से जोड़कर देखा जाता है:

  • पिछला यौन शोषण या आघात
  • पिछला दर्दनाक संभोग
  • भावनात्मक कारक

कुछ मामलों में, इसका कोई प्रत्यक्ष कारण नहीं मिलता है, और इसे एक प्राकृतिक योनि विकार माना जाता है।

जाँच करने के लिए, डॉक्टर आपका एक शारीरिक परिक्षण करेगा और आपके चिकित्सा व यौन इतिहास के बारे में पूछेगा। यह इतिहास संकुचन के अंतर्निहित कारण का सुराग देने में मदद कर सकता है।

योनि संकुचन के लक्षण

योनि की मांसपेशियों में अनैच्छिक कसाव आना वेजिनिस्मस का प्राथमिक लक्षण है, लेकिन इसकी गंभीरता अलग-अलग महिलाओं में अलग-अलग हो सकती है।

सभी मामलों में, योनि का कसाव लिंग-योनि सेक्स को मुश्किल या असंभव बना देता है।

यदि आपको वेजिनिस्मस है, तो आप अपनी योनि की मांसपेशियों के संकुचन को प्रबंधित या रोक नहीं सकती हैं।

वैजिनिस्मस के अतिरिक्त लक्षण भी हो सकते हैं, जिसमें योनि में लिंग लेने का डर और इससे संबंधित यौन इच्छा में कमी शामिल है।

योनि में कुछ भी डालने पर वेजिनिस्मस वाली महिलाएं अक्सर जलन या चुभने वाले दर्द का अनुभव करती हैं।

अगर आपको वैजिनिस्मस है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपको पूरी तरह से यौन गतिविधियों का आनंद मिलना बंद हो जायेगा। जिन महिलाओं को यह समस्या होती है, वे अभी भी यौन कामोत्तेजना, इच्छा और ऑर्गाज्म को महसूस कर सकती हैं।

अभी भी कई यौन गतिविधियां जिनमें लिंग-योनि प्रवेश शामिल नहीं है, आप उनका आनंद ले सकती हैं, जैसे:

 
 
 
 

योनि संकुचन की जाँच

वैजिनिस्मस की जाँच आमतौर पर आपके लक्षणों का वर्णन करने से शुरू होती है। डॉक्टर आपसे संभवतः निम्न प्रश्न पूछेगा:

  • आपको पहली बार कब इस समस्या का अनुभव हुआ
  • यह कितनी बार होता है
  • किन कारणों से यह ट्रिगर होता है

आमतौर पर, डॉक्टर आपके यौन इतिहास के बारे में भी पूछेगा, जिसमें इस बारे में प्रश्न शामिल हो सकते हैं कि क्या आपने कभी यौन आघात या दुर्व्यवहार का अनुभव किया है।

सामान्य तौर पर, वैजिनिस्मस की जाँच और उपचार के लिए आपके पैल्विक क्षेत्र के शारीरिक परिक्षण की आवश्यकता होती है।

वैजिनिस्मस वाली महिलाओं में पैल्विक परिक्षण के प्रति घबराहट या डर होना आम बात है। यदि डॉक्टर आपके पैल्विक परिक्षण की सलाह देता है, तो आप परिक्षण को अपने लिए यथासंभव आरामदायक बनाने के तरीकों पर चर्चा कर सकती हैं।

कुछ महिलाएं परिक्षण के लिए रकाब (जाँच उपकरण) के उपयोग को नहीं चुनतीं और विभिन्न शारीरिक पोजीशन में जाँच करवाना पसंद करती हैं।

जब डॉक्टर को पहले से आपमें वैजिनिस्मस होने का संदेह होता है, तो वह आम तौर पर जितनी हो सके उतनी कोमलता से परिक्षण करता है।

परिक्षण को और अधिक सहज बनाने के लिए डॉक्टर सुझाव दे सकता है कि आप खुद अपनी योनि में उनके हाथ या चिकित्सा उपकरणों को निर्देशित करने में मदद करें। आप अपने डॉक्टर से परिक्षण के हर चरण के बारे में विस्तार से बताने के लिए भी कह सकती हैं।

परिक्षण के दौरान, डॉक्टर संक्रमण या स्कार टिश्यू के मौजूदगी की तलाश करेगा।

वैजिनिस्मस में, योनि की मांसपेशियों के सिकुड़ने का कोई शारीरिक कारण नहीं होता है। इसका मतलब है कि, अगर आपको वैजिनिस्मस है, तो डॉक्टर को आपकी योनि में लक्षणों का कोई दूसरा कारण (जैसे संक्रमण आदि) नहीं मिलेगा।

योनि संकुचन का उपचार

वैजिनिस्मस एक इलाज योग्य विकार है। उपचार में आमतौर पर शिक्षा, उपकरण, परामर्श और व्यायाम शामिल होते हैं।

सेक्स थेरेपी और कॉउंसलिंग

शिक्षा में आम तौर पर आपकी शारीरिक रचना के बारे में जानना और यौन उत्तेजना व संभोग के दौरान क्या होता है, इसके बारे में सीखना शामिल है। इसके जरिये आपको वैजिनिस्मस में शामिल मांसपेशियों के बारे में भी जानकारी मिलेगी।

इससे आपको यह समझने में मदद मिल सकती है कि आपके शरीर के अंग कैसे काम करते हैं और कैसी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

कॉउंसलिंग में आप अकेली या अपने साथी के साथ शामिल हो सकती हैं। यौन विकारों में विशेषज्ञता रखने वाले काउंसलर के साथ काम करना आपके लिए काफी मददगार हो सकता है।

विश्राम और सम्मोहन तकनीक भी आपकी मांसपेशियों को विश्राम देने में बढ़ावा दे सकती हैं और संभोग के प्रति अधिक सहज महसूस करने में मदद कर सकती हैं।

डाइलेटर उपकरण

डाइलेटर एक ट्यूब के आकार का उपकरण होता है जिसका उपयोग आपकी योनि को फैलाने के लिए किया जाता है। डाइलेटर छोटे से लेकर अलग-अलग साइज के साथ किट में आते हैं।

डॉक्टर या काउंसलर आपको किसी पेशेवर की देखरेख में डाइलेटर्स का उपयोग करना सीखने की सलाह दे सकता है।

शंकु के आकार के डाइलेटर को अपनी योनि में रखें। डाइलेटर धीरे-धीरे बड़ा होता जाता है, जिससे योनि की मांसपेशियों में खिंचाव लाने और लचीला बनाने में मदद मिलती है।

अंतरंगता बढ़ाने के लिए, अपने साथी को अपनी योनि में डायलेटर डालने में मदद करने को कहें। डाइलेटर्स के एक सेट के साथ उपचार का कोर्स पूरा करने के बाद, आप और आपका साथी फिर से लिंग-योनि संभोग करने का प्रयास कर सकते हैं।

थेरेपिस्ट की मदद

यदि आपको अपने दम पर डायलेटर्स का उपयोग करना कठिन लग रहा है, तो एक पेल्विक फ्लोर में विशेषज्ञता रखने वाले थेरेपिस्ट की मदद लें।

वह आपकी निम्न में मदद कर सकता है:

  • डाइलेटर्स का उपयोग करने के तरीके के बारे में और जानना
  • गहरी विश्राम तकनीकों के बारे में जानना

निष्कर्ष

किसी भी प्रकार का यौन विकार दो पार्टनरों के रिश्तों पर भारी पड़ सकता है। इसलिए अपनी शादी या रिश्ते को बचाने के लिए समय रहते इलाज करवा लेना महत्वपूर्ण होता है।

आपको यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि अपने यौन विकार के प्रति शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं है। अपने साथी के साथ अपनी भावनाओं और संभोग के प्रति अपने डर के बारे में बात करने से, आपको अधिक आराम महसूस करने में मदद मिल सकती है।

एक डॉक्टर या थेरेपिस्ट की मदद से आपको योनि संकुचन या वैजिनिस्मस पर काबू पाने के तरीके जानने में मदद मिल सकती है। बहुत सी महिलाएं इस समस्या से छुटकारा पा लेती हैं और एक सुखी यौन जीवन जीती हैं।

साथ ही, सेक्स के दौरान लुब्रीकेंट या कुछ सेक्स पोजीशन का उपयोग आपको और अधिक सहज महसूस करने में मदद कर सकती हैं। इसलिए प्रैक्टिकल करके देखें और पता करें कि आपके और आपके साथी के लिए क्या काम करता है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.