सेक्स के दौरान या बाद में चक्कर आने के 9 संभावित कारण

ऐसा सेक्स जो आपके सिर को घुमा दे, आमतौर पर किसी चिंता का कारण नहीं होता है। अक्सर, यह सेक्स के शारीरिक तनाव या बहुत तेज़ी से पोजीशन बदलने के कारण होता है।

यदि अचानक चक्कर आना किसी अधिक गंभीर समस्या के होने का संकेत होता है – जैसे कि एक अंतर्निहित बीमारी – तो आमतौर पर इसके अन्य लक्षण भी होंगे।

तो चलिए जानते हैं आपको किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए, और सेक्स के दौरान या बाद में चक्कर आने से कैसे रोकना चाहिए।

दिमाग की पोजीशन बदलने से

दिमाग की पोजीशन या स्थिति बदलने से होने वाले सिर चकराने के हानिरहित दौरे को मेडिकल भाषा में BPV (बीपीवी) कहा जाता है। इसमें आपको खुद के या अपने सिर के घूमने की एक अचानक सनसनी अनुभव होती है।

यह आपके सिर की स्थिति को बदलने से शुरू होता है, जैसे कि जब आप लेटते हैं या बिस्तर पर बैठते हैं। इससे आपको मतली या उल्टी का अनुभव भी हो सकता है। बीपीवी के दौरे आमतौर पर एक मिनट से भी कम समय तक चलते हैं।

इसके लक्षण नियमित रूप से आ-जा सकते हैं, और कभी-कभी पुनरावृत्ति से पहले महीनों या वर्षों तक गायब हो जाते हैं। हालाँकि यह समस्या गंभीर नहीं है और अपनी गर्दन और सिर को विशेष अभ्यास कराके इसका इलाज किया जा सकता है।

लो ब्लड प्रेशर

आपका ब्लड प्रेशर पूरे दिन उतार-चढ़ाव से गुजर सकता है। यह आपके तनाव के स्तर, शरीर की स्थिति, दिन के समय और श्वास सहित कई कारकों से प्रभावित होता है।

कभी-कभी चक्कर आना लो ब्लड प्रेशर का संकेत हो सकता है। हालाँकि सिर्फ चक्कर आना आमतौर पर चिंता का कारण नहीं होता है। लेकिन यदि आप निम्न अन्य लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो डॉक्टर से मिलें:

  • धुंधली दृष्टि
  • जी मचलना
  • ध्यान लगाने में समस्या आना
  • बेहोशी

आपका डॉक्टर यह पता लगा सकता है कि आपका ब्लड प्रेशर किस कारण से गिर रहा है, और आपको अपने अगले कदम पर सलाह दे सकता है।

लो ब्लड शुगर

लो ब्लड शुगर या हाइपोग्लाइसीमिया तब होता है जब आपके रक्त में ग्लूकोज का स्तर गिर जाता है।

हालांकि लो ब्लड शुगर होना डायबिटीज वाले लोगों में अधिक आम है, लेकिन यह किसी को भी हो सकता है। इसे नॉनडायबिटिक हाइपोग्लाइसीमिया के रूप में जाना जाता है।

आपका ब्लड शुगर कम होने पर चक्कर आना या सिर चकराना आम बात है। इसमें आपको भूख, कंपकंपी, चिड़चिड़ापन और हल्का सिरदर्द भी महसूस हो सकता है।

यह कई घंटों तक बिना कुछ खाए-पिए या बहुत अधिक शराब का सेवन करने से हो सकता है। यदि आपके लक्षण गंभीर हैं या बने रहते हैं, तो डॉक्टर से मिलें।

दबाव संवेदनशीलता

गले, छाती और पेट के दबाव में वृद्धि के कारण कुछ लोगों को जोरदार यौन क्रिया के दौरान चक्कर आ सकते हैं। यह उसी प्रकार का दबाव होता है जो मल त्याग के दौरान तनाव या धक्का देने के कारण बनता है।

दबाव संवेदनशीलता और यह यौन गतिविधि को कैसे प्रभावित कर सकता है, इस पर शोध काफी सीमित हैं। हालांकि इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि लोग सेक्स से संबंधित चक्कर आने की रिपोर्ट करने में अनिच्छुक होते हैं।

कुछ पोजीशन में सेक्स और ऑर्गाज्म प्राप्त करने की कोशिश से आपको इस तरह का दबाव महसूस हो सकता हैं। ऐसे कई मामले भी सामने आए हैं जिनमें मल त्याग के दौरान पैदा होने वाले दबाव से लोगों को चक्कर आने या यहां तक कि बेहोशी होने का भी अनुभव हुआ है।

यदि आपको संदेह है कि दबाव संवेदनशीलता के कारण आपको सेक्स में चक्कर आते हैं, तो एक डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ अपॉइंटमेंट लें।

 
 
 
 

चिंता

चिंता आपके हृदय गति को तेज कर सकती है और आपकी सांस को फुला सकती है। यह कभी-कभी चक्कर आने का कारण भी बन सकती है।

चिंता लोगों में होने वाली एक आम भावना है, खासकर तब जब सेक्स की बात आती है। चिंता का अनुभव करने के लिए आपमें कोई विकार या डिप्रेशन होने की आवश्यकता नहीं है।

बहुत से लोग चिंतित महसूस करते हैं, जो:

  • एक रिलेशनशिप में हों
  • पहली बार सेक्स करने जा रहे हों
  • रिश्ते में कोई समस्या हो
  • या उनको सेक्स में पिछला कोई दर्दनाक अनुभव हुआ हो

चिंता के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • घबराहट
  • पसीना आना
  • मांसपेशियों में तनाव
  • अपनी चिंता को ट्रिगर करने वाली चीज़ों से दूर होने की तीव्र इच्छा

यदि आपको लगता है कि आपके लक्षण चिंता से संबंधित हैं, तो आपको अपने साथी या किसी अन्य विश्वसनीय व्यक्ति से इस बारे में बात करने से राहत प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

आपको एक मनोवैज्ञानिक से बात करने से भी मदद मिल सकती है। वह आपकी चिंता की जड़ की पहचान करने में मदद कर सकता है और आपको आगे क्या करना चाहिए इसकी सलाह दे सकता है।

साँस तेज चलना

यह कोई रहस्य नहीं है कि कामोत्तेजना होने पर आपकी सांसें तेज हो जाती हैं। इस दौरान यदि आपकी साँसे छोटी हो जाती हैं और तेजी से चलने लगती हैं, तो आपको साँस फूलने का खतरा हो सकता है। हालांकि सेक्स के कारण साँस फूलना आम नहीं है, लेकिन ऐसा होना संभव है, खासतौर से अस्थमा या फेफड़ों की एलर्जी के मरीजों के लिए।

साँस फूलने के दौरान, आप जितनी सांस अंदर लेते हैं, उससे अधिक सांस बाहर छोड़ते हैं, जिससे आपके शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड और ऑक्सीजन का संतुलन बिगड़ जाता है। इससे आपको चक्कर आ सकते हैं और बेहोशी हो सकती है।

ऑर्गाज्म सिरदर्द

कुछ दुर्लभ मामलों में, यौन गतिविधि और ऑर्गाज्म के परिणामस्वरूप सिरदर्द हो सकता है और बाद में चक्कर आ सकते हैं।

इसका सटीक कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि यह हृदय गति और रक्तचाप में तेजी से वृद्धि के कारण हो सकता है। हालांकि ऑर्गाज्म के पहले या बाद का सिरदर्द महिला और पुरुष दोनों को प्रभावित कर सकता है, लेकिन यह पुरुषों में होना ज्यादा आम है।

ऑर्गाज्म से पहले होने वाले सिरदर्द को एक सुस्त दर्द के रूप में वर्णित किया जाता है, जो यौन क्रिया के दौरान आता है और यौन उत्तेजना के बढ़ने के साथ बढ़ता जाता है। जबकि एक ऑर्गाज्म सिरदर्द एक तीव्र और अचानक होने वाला विस्फोटक सिरदर्द होता है, जो आपके ऑर्गाज्म प्राप्त करने के दौरान या तुरंत बाद महसूस होता है।

यह दर्द आमतौर पर सिर के पिछले हिस्से से शुरू होता है और खोपड़ी के दोनों तरफ महसूस हो सकता है। यह एक मिनट से लेकर 72 घंटे तक कितने भी समय तक बना रह सकता है।

स्तम्भन दोष की दवाएं

स्तम्भन दोष का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कई दवाओं के दुष्प्रभाव के रूप में चक्कर आने की समस्या हो सकती है।

इन दवाओं में निम्न शामिल हैं:

  • सिल्डेनाफिल (वियाग्रा)
  • टाडाफिल (सियालिस)
  • वर्डेनफिल (लेविट्रा)

ये दवाएं आपके रक्त में नाइट्रिक ऑक्साइड के स्तर को बढ़ाती हैं। हालाँकि नाइट्रिक ऑक्साइड में वृद्धि आपके लिंग में रक्त के प्रवाह को बढ़ा सकती है, लेकिन इसके परिणामस्वरूप चक्कर भी आ सकते हैं।

इन दवाओं के अन्य दुष्प्रभाव निम्न हो सकते हैं:

  • सिरदर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • सीने में जलन
  • दस्त

यदि आप स्तम्भन दोष की दवा लेते हैं और इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें। वह आपको एक अलग दवा लिख ​सकता है या ऐसी चिकित्सा की सलाह सकता है जिसके दुष्प्रभाव होने की संभावना कम हो।

दिल की बीमारी

यदि आपको कोई दिल की बीमारी या स्थिति है, तो सेक्स में चक्कर आने या अन्य असामान्य लक्षणों पर विशेष ध्यान दें। यदि आपको चक्कर आने के साथ-साथ निम्न लक्षण अनुभव होते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें:

  • साँस फूलना
  • पैरों, टखनों या तलवों में सूजन होना
  • दृष्टि में बदलाव
  • सीने में दर्द
  • कमजोरी
  • थकान

यदि आप इस तरह के लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, लेकिन आपको कोई दिल की बीमारी नहीं है, तो भी जल्द से जल्द एक डॉक्टर से मिलें।

 
 
 
 

यदि महिला गर्भवती है, और उसे सेक्स में चक्कर आ रहे हैं?

गर्भावस्था में चक्कर आना आम है – खासकर गर्भावस्था के प्रारंभिक दिनों में।

महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान बदलते हार्मोन के स्तर के कारण उनकी रक्त वाहिकाएं फैल जाती हैं, जिससे भ्रूण में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है। इससे उनके ब्लड प्रेशर में कमी आती है, जो उनमें चक्कर आने का कारण बन सकती है।

चक्कर आना लो ब्लड शुगर से भी जुड़ा हो सकता है। जैसे-जैसे महिलाओं का शरीर गर्भावस्था के अनुकूल होता है, उनका ब्लड शुगर लेवल तेजी से गिरता और बढ़ता है। दिन भर में थोड़ा-थोड़ा भोजन करने से ब्लड शुगर को संतुलित रखने में मदद मिल सकती है।

गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में महिलाओं में निम्न लक्षण भी हो सकते हैं:

  • स्तनों में सूजन और संवेदनशीलता
  • जी मचलना
  • थकान
  • सिरदर्द
  • कब्ज

गर्भावस्था के दौरान अतिरिक्त वजन भी महिला को चक्कर या हल्का सिरदर्द महसूस करा सकता है, खासकर जब वह अपनी पीठ के बल लेटती या बैठती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बढ़ता हुआ भ्रूण उनके वेना कावा नस पर दबाव डालता है, जो उनके निचले शरीर से हृदय तक रक्त पहुंचाती है।

चक्कर आने से राहत कैसे पाएं और भविष्य में इसे होने से कैसे रोकें

यहाँ कुछ चीजें हैं जो आप अपने चक्कर को दूर करने और भविष्य में ऐसा होने से रोकने के लिए कर सकते हैं:

  • पानी पियें: डिहाइड्रेशन या पानी की कमी से बचने के लिए सेक्स से पहले और बाद में पानी पिएं। डिहाइड्रेशन आपकी रक्त वाहिकाओं को संकुचित कर सकता है और आपके रक्तचाप में परिवर्तन का कारण बन सकता है।
  • धीमी, गहरी सांसें लें: तेजी से साँस लेने से शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की तेजी से कमी आती है। इससे मस्तिष्क को रक्त पहुँचाने वाली वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप सिर में हल्कापन महसूस होता है।
  • सेक्स में एकदम से उठने से बचें: जब आप खड़े होते हैं, तो गुरुत्वाकर्षण के कारण आपके पैरों और पेट में रक्त जमा हो जाता है। यह अस्थायी रूप से आपके दिल और मस्तिष्क में बहने वाले रक्त की मात्रा को कम कर देता है, जिससे चक्कर आते हैं।
  • नियमित थोड़ा-थोड़ा भोजन करें: अपने ब्लड शुगर को संतुलित रखने में मदद करने के लिए, एक बार में भरपेट भोजन करने के वजाय दिन भर में थोड़ा-थोड़ा भोजन करें।

डॉक्टर से कब मिलें

यदि सेक्स के बाद चक्कर आना एक बार की घटना है – और अन्य लक्षणों के साथ नहीं होती है – तो यह आमतौर पर किसी गंभीर बात का संकेत नहीं है। लेकिन अगर यह नियमित रूप से हो रहा है या आपके दैनिक जीवन को प्रभावित कर रहा है, तो डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से संपर्क करें।

यदि आपको निम्न लक्षण अनुभव हों तब भी आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए:

  • आँखों में धुंधलापन
  • जी मचलना
  • मांसपेशियों में दर्द
  • थकान
  • चीजों को समझने में उलझन
  • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी
  • बेहोशी

डॉक्टर आपके लक्षणों के कारण का पता लगाने और एक उपयुक्त उपचार योजना प्रदान करने में मदद कर सकता है।