स्पर्म कैसे बनते हैं?

एक पुरुष की प्रजनन प्रणाली विशेष रूप से वीर्य और स्पर्म के उत्पादन, भंडारण और परिवहन के लिए बानी है।

महिला जननांग के विपरीत, पुरुषों के प्रजनन अंग पेल्विक के आंतरिक और बाहरी दोनों तरफ होते हैं। इनमें निम्न शामिल हैं:

  • वृषण (अंडकोष)
  • नलिका सिस्टम: एपिडिमिस और वास डेफरेंस
  • सहायक ग्रंथियां: वीर्य पुटिका और प्रोस्टेट ग्रंथि
  • लिंग

स्पर्म कहाँ बनते हैं?

स्पर्म का निर्माण अंडकोषों में होता है। यौवनावस्था के बाद, एक आदमी हर दिन लाखों शुक्राणु कोशिकाओं का उत्पादन करता है। प्रत्येक स्पर्म की लंबाई लगभग 0.002 इंच (0.05 मिलीमीटर) होती है।

स्पर्म कैसे बनते हैं?

अंडकोष में छोटी नलियों की एक प्रणाली होती है। इन नालिओं, जिन्हें सेमिनिफेरस ट्यूबल भी कहा जाता है, में जर्म कोशिकाएं होती हैं।

यह जर्म कोशिकाएं कुछ हॉर्मोन, जिनमें टेस्टोस्टेरोन भी शामिल है, की मदद से स्पर्म में बदलती हैं। जर्म कोशिकाएं तब तक विभाजित होती और बदलती रहती हैं, जब तक कि वे एक सिर और छोटी पूंछ वाले टैडपोल के समान नहीं हो जातीं।

पूंछ स्पर्म को अंडकोष के पीछे मौजूद एक ट्यूब में धकेलती है, जिसे एपिडीडिमिस कहा जाता है। लगभग पांच सप्ताह तक, एपिडीडिमिस के माध्यम से यात्रा करते हुए, स्पर्म अपने विकास को पूरा करते हैं।

एपिडीडिमिस से बाहर निकलने के बाद, स्पर्म वास डेफरेंस में चले जाते हैं।

जब पुरुष यौन क्रिया के लिए उत्तेजित होता है, तो वास डेफरेंस में मौजूद स्पर्म वीर्य द्रव, जो वीर्य पुटिकाओं और प्रोस्टेट ग्रंथि द्वारा निर्मित एक सफेद तरल पदार्थ होता है, के साथ मिलकर वीर्य का निर्माण करते हैं।

उत्तेजना के परिणामस्वरूप, वीर्य, जिसमें औसतन 50 करोड़ शुक्राणु होते हैं, मूत्रमार्ग के माध्यम से लिंग से बाहर धकेल दिए जाते हैं।

नया स्पर्म बनने में कितना समय लगता है?

एक जर्म सेल से अंडे को फर्टिलाइज करने में सक्षम एक परिपक्व शुक्राणु कोशिका बनने की प्रक्रिया में लगभग 2.5 महीने लगते हैं।

निष्कर्ष

स्पर्म अंडकोष में उत्पन्न होते हैं और एपिडीडिमिस के माध्यम से वास डिफेरेंस में यात्रा करते समय परिपक्वता तक विकसित होते हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.