क्या उम्र बढ़ने पर स्तंभन दोष होना अनिवार्य है?

स्तंभन दोष जिसे मेडिकल भाषा में इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहा जाता है, संभोग के दौरान लिंग को पर्याप्त खड़ा न कर पाने या ज्यादा देर तक खड़ा न रख पाने की असमर्थता है।

कुछ लोगों को लग सकता है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ स्तंभन दोष होने की संभावना भी बढ़ती है। लेकिन तथ्य यह है कि लिंग को खड़ा को बनाए रखने में असमर्थता हमेशा उम्र से संबंधित नहीं होती है।

उम्र बढ़ने का मतलब यह नहीं है कि आपको स्थायी रूप से स्तंभन दोष होना शुरू हो जायेगा। हालाँकि यह सच है उम्र बढ़ने से स्तंभन दोष होने का जोखिम बढ़ सकता है, लेकिन इसका इलाज करने के तरीके मौजूद हैं।

स्तंभन दोष के जोखिमों और उपचार विकल्पों के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहें –

स्तंभन दोष क्या है?

पुरुषों की कामोत्तेजना ऊपर से देखने पर सरल लग सकती है, लेकिन यह शरीर के अंदर की कई घटनाओं के सटीक और जटिल क्रम पर निर्भर करती है।

सबसे पहले दिमाग लिंग की नसों को सक्रिय करता है, ताकि लिंग को लम्बा मोटा करने करने वाले स्पंजी ऊतकों की मांसपेशियां रिलैक्स हो सकें। जब ये मांसपेशियां रिलैक्स हो जाती हैं, तो रक्त वाहिकाओं के जरिये स्पंजी ऊतक के खाली स्थानों में रक्त भरने लगता है।

बढ़ा हुआ रक्तचाप लिंग को कठोर और लम्बा-मोटा करता है। स्पंजी ऊतक के आसपास की झिल्ली लिंग में रक्त को रोके रखती है और इसे खड़ा बनाये रखती है।

इस क्रम को बाधित करने वाली कोई भी चीज संभोग के लिए लिंग को खड़ा करने या लम्बे समय तक खड़ा बनाये रखने में असमर्थता का कारण बन सकती है।

आशा रखें, आपकी उम्र चाहे फिर कुछ भी हो

स्तंभन दोष अक्सर उम्र बढ़ने से जुड़ा होता है। हालाँकि स्तंभन दोष की आवृत्ति उम्र के साथ बढ़ती है, लेकिन इसका उपचार किया जा सकता है और उम्र बढ़ने के साथ इसका होना उतना अनिवार्य नहीं है जितना आप सोचते हैं।

वास्तव में, स्तंभन दोष के कई ऐसे कारण हो सकते हैं जिनका उम्र से कोई लेना-देना नहीं होता।

स्तंभन दोष के शारीरिक और मेडिकल कारक

स्तंभन दोष के कई शारीरिक कारण हो सकते हैं। इनमें से कोई भी कारक लिंग खड़ा करने वाली शारीरिक क्रियाओं के अनुक्रम को बाधित कर सकता है:

  • मोटापा
  • डायबिटीज
  • दिल की बीमारी
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • टेस्टोस्टेरोन के स्तर में कमी
  • बड़ा हुआ प्रोस्टेट
  • नींद संबंधी विकार, जैसे स्लीप एपनिया
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • पार्किंसंस रोग

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन व्यक्ति की सेक्स इच्छा और ऊर्जा के स्तर को प्रभावित करता है, जो मस्तिष्क में उत्तेजना के आवेगों को शुरू करने के लिए आवश्यक होती हैं।

डायबिटीज उन नसों को भी नुकसान पहुंचा सकती है जो जननांग क्षेत्र में रक्त के प्रवाह में वृद्धि करने का संकेत भेजती हैं।

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार, टाइप 2 डायबिटीज वाले व्यक्ति में अन्य की तुलना में कम टेस्टोस्टेरोन होने की संभावना दोगुनी होती है।

दिल की बीमारी और धमनी की रुकावट होने से रक्त प्रभाह में रुकावट आ सकती है, जिससे लिंग खड़ा करने में बाधा उत्पन्न हो सकती है।

 
 
 
 

स्तंभन दोष के अन्य कारण

जरूरी नहीं कि स्तंभन दोष किसी पुरानी बीमारी या उम्र से सम्बंधित हो।

निम्न कुछ सामान्य कारणों से भी स्तंभन दोष हो सकता है;

  • अत्यधिक शराब का सेवन
  • तंबाकू इस्तेमाल
  • प्रिस्क्रिप्शन दवाएं
  • चिंता या तनाव
  • डिप्रेशन

शराब मस्तिष्क के भीतर और पूरे शरीर में तंत्रिका संचार को धीमा कर देती है, जो उत्तेजना संकेतों और शारीरिक समन्वय को प्रभावित कर सकती है।

तंबाकू न केवल रक्त प्रवाह को रोकता है, बल्कि गंभीर बीमारियों को जन्म दे सकता है, जो यौन क्रिया को और खराब कर सकती हैं।

दवाएं भी लोगों को अलग तरह से प्रभावित कर सकती हैं। दो व्यक्तियों में एक दवा के होने वाले दुष्प्रभाव अलग-अलग हो सकते हैं।

सामान्य प्रकार की दवाएं जिनके दुष्प्रभाव के रूप में स्तंभन दोष हो सकता है, उनमें निम्न शामिल हैं:

  • राइनाइटिस, सामान्य सर्दी-जुकाम, इंफ्लुएंजा और अन्य एलर्जी की दवाएं (antihistamines)
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर
  • हाई ब्लड प्रेशर की दवाएं
  • हॉर्मोन थेरेपी
  • डिप्रेशन की दवाएं

मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक तनाव भी यौन उत्तेजना को रोक सकते हैं।

उदाहरण के लिए यदि आप अपने व्यापर की कल की बिक्री को लेकर परेशान हैं या जीवनसाथी से वाद-विवाद होने से नाराज़ या आहत हैं, तो आपकी यौन इच्छा की भावनाओं में हस्तक्षेप हो सकता है।

इसके अलावा, लिंग खड़ा न होना या खड़ा बनाए रख पाना – चाहे फिर वो एक बार ही क्यों न हुआ हो – आपमें चिंता का कारण बन सकता है और शायद आपकी यौन क्षमताओं और आत्मसम्मान के बारे में संदेह पैदा कर सकता है।

जीवनशैली में बदलाव और अन्य उपचार

अच्छी खबर यह है कि आप स्तंभन दोष के अधिकांश शारीरिक और भावनात्मक कारणों का प्रबंधन कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, आप निम्न चीजे कर सकते हैं:

  • वजन कम करना
  • धूम्रपान छोड़ना
  • अपने रिश्ते को बेहतर बनाने की कोशिश करना या अपने यौन साथी के साथ बेहतर संवाद करना
  • तनाव के प्रति स्वस्थ प्रतिक्रियाओं का अभ्यास करना

आपके लिए कौन सा तरीका कारगर होगा, यह जानने के लिए इन सभी को आजमाकर देखें और जो कारगर हो उसे नियमित अपनाएं।

साथ ही, अपने स्तंभन दोष के सही कारण का पता लगाने के लिए डॉक्टर से बात करना न भूलें।

निष्कर्ष

उम्र बढ़ने के साथ शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से घटने के कारण स्तंभन दोष का जोखिम भी बढ़ जाता है। लेकिन फिर भी, लिंग खड़ा होने की प्रक्रिया में टेस्टोस्टेरोन और उम्र एकमात्र कारक नहीं होते।

स्तंभन दोष के अधिकांश कारक सीधे उम्र से संबंधित नहीं होते हैं, बल्कि यह अन्य किसी अंतर्निहित चिकित्सा समस्या के कारण भी हो सकता है।

आपका डॉक्टर ब्लड टेस्ट और शारीरिक व मनोवैज्ञानिक परीक्षणों के जरिये स्तंभन दोष के कारण का पता लगाने में मदद कर सकता है। इसके एक से अधिक अंतर्निहित कारण भी हो सकते हैं।

एक बार कारक की ठीक से पहचान हो जाने के बाद, स्तंभन दोष का इलाज काफी आसान हो जाता है।