स्त्री को जोश कब आता है और इसे बढ़ाने के तरीके व दवाएं

यौन उत्तेजना जागृत होने और एक निश्चित उत्तेजना पर केंद्रित होने की स्थिति को जोश आना कहा जाता है। इस लेख में, हम स्त्रियों के यौन जोश और इस दौरान होने वाले कुछ शारीरिक परिवर्तनों के बारे में बात करेंगे।

क्या यौन जोश और यौन इच्छा में कोई अंतर है?

जोश और इच्छा शब्द को अक्सर एक दूसरे के स्थान पर उपयोग कर लिया जाता है, लेकिन इनका मतलब थोड़ा अलग होता है।

इच्छा आमतौर पर भावनात्मक रूप से यौन संबंध रखने की इच्छा को संदर्भित करती है, जबकि जोश आपके शरीर में शारीरिक परिवर्तनों को संदर्भित करता है जो तब होता है जब आप यौन रूप से उत्तेजित होती हैं।

अमेरिका की क्लीवलैंड क्लिनिक के अनुसार, इच्छा विकार होने पर व्यक्ति में सेक्स के प्रति रुचि में कमी होना शामिल है, जबकि जोश संबंधी विकारों में व्यक्ति को सेक्स करने की इच्छा तो होती है, लेकिन उसके शरीर को मूड में लाने के लिए संघर्ष करना पड़ता है।

आपको यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि सेक्स करने की इच्छा और शारीरिक रूप से उत्तेजित होने के बीच अंतर होता है। मानसिक रूप से सेक्स की इच्छा न होने पर भी, शरीर का उत्तेजित महसूस करना संभव है।

इसलिए यदि कोई स्त्री या पुरुष यौन उत्तेजना के लक्षण दिखाता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि वे यौन संबंध रखना चाहती/चाहता है – न ही इसका मतलब यह है कि वे यौन संबंध बनाने के लिए सहमत है।

हमेशा सेक्स में एक-दूसरे की सहमति का सम्मान करें। यदि आप निश्चित नहीं हैं कि आपकी पार्टनर सेक्स करना चाहती है या नहीं, तो हमेशा पूछें!

स्त्रियों की यौन प्रतिक्रिया के चरणों में जोश कहाँ फिट होता है?

यूनाइटेड किंगडम की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (NHS) के अनुसार, शोधकर्ताओं ने यौन प्रतिक्रिया के चार चरणों की पहचान की है – यानी, आपका शरीर और दिमाग सेक्स से पहले, दौरान और बाद में जिन चरणों से गुजरता है, वह चरण।

जोश यौन प्रतिक्रिया चक्र के पहले चरण में शामिल होता है। यानी उत्तेजना के पहले चरण को जोश कहा जा सकता है।

यौन उत्तेजना के चार चरण निम्न हैं –

जोश

उत्तेजना के पहले चरण – जिसे जोश आना भी कहा जाता है, के दौरान स्त्री के शरीर में कई शारीरिक परिवर्तन और कार्य होते हैं। इनमें से अधिकांश कार्य शरीर को योनि संभोग के लिए तैयार करते हैं।

उदाहरण के लिए, जोश आने के दौरान महिला की योनि अधिक गीली हो जाती है, क्योंकि उसकी ग्रंथियां चिकनाई वाले तरल पदार्थ छोड़ने लगती हैं। उसकी रक्त वाहिकाएं फैलने लगती हैं, जिससे उसकी क्लाइटोरिस और योनि के ऊतक सूजकर फूल जाते हैं। साथ ही, उसके स्तन व निप्पल अधिक संवेदनशील हो जाते हैं।

पठार

जोश की चरम सीमा में पहुँचने के बाद स्त्री पठार चरण में पहुँच जाती। यह चरण स्त्री के स्खलित होने या ऑर्गाज्म प्राप्त करने तक बना रहता है।

इस चरण में उसकी सांस तेज हो सकती है, और वह अनैच्छिक रूप से कराहना या आवाज करना शुरू कर सकती है। उसकी योनि में कसावट बढ़ सकती है और वह अधिक चिकनाई पैदा कर सकती है।

ऑर्गाज्म

स्त्रियों में सेक्स आनंद की चरम सीमा को ऑर्गाज्म कहा जाता है, आमतौर पर इसके बाद महिला स्खलित हो जाती है।

अक्सर ऑर्गाज्म को सेक्स का अंतिम लक्ष्य माना जाता है, लेकिन ऐसा होना जरूरी नहीं है! ऑर्गाज्म तक पहुंचे बिना भी आनंददायक सेक्स करना पूरी तरह से संभव है।

स्त्रियों में ऑर्गाज्म के दौरान उनकी मांसपेशियों में ऐंठन होने लगती है, विशेष रूप से पीठ के निचले हिस्से और श्रोणि क्षेत्र में। इस स्तर पर, उनकी योनि और ज्यादा कस सकती है और यह अधिक चिकनाईयुक्त भी हो सकती है।

ऑर्गाज्म के दौरान महिला को चरम आनंद, संतुष्टि और तीव्र खुशी की भावना का अनुभव होता है।

समाधान

ऑर्गाज्म प्राप्त करने के बाद स्त्रियों में समाधान चरण शुरू होता है।

इस दौरान उनकी मांसपेशियाँ रिलैक्स होना शुरू हो जाती हैं, और ब्लड प्रेशर कम होने लगता है। उनकी क्लाइटोरिस काफी ज्यादा संवेदनशील हो जाती है, और यहाँ तक कि टच करने पर दर्द महसूस भी करा सकती है।

इसलिए इस चरण के दौरान महिला द्वारा सेक्स करना संभव नहीं होता,

इस चरण को रिकवरी पीरियड भी कहा जाता है, क्योंकि इस दौरान महिला का शरीर अपनी सामान्य स्थिति में आता है। आमतौर पर महिलाओं में यह चरण कुछ मिनट के लिए होता है।

कुछ महिलाओं को एक साथ कई ऑर्गाज्म का अनुभव भी होता है, और वह बिना रिकवरी पीरियड के भी दोबारा सेक्स कर सकती हैं। यही कारण है कि महिलायें पुरुषों के मुकाबले ज्यादा देर तक और एक बार में एक से अधिक पुरुषों के साथ सेक्स कर सकती हैं।

स्त्री का शरीर जोश के प्रति कैसी प्रतिक्रिया करता है?

जोश के प्रति स्त्री की कुछ शारीरिक प्रतिक्रियाएं निम्न हैं:

  • उनकी नाड़ी और दिल की धड़कन तेज हो जाती है, और ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है।
  • उनके जननांगों की रक्त वाहिकाएं चौड़ी होने लगती हैं और योनि में रक्त संचार बढ़ जाता है।
  • जननांगों को चिकनाई देने में मदद करने के लिए उनकी योनि गीली हो सकती है।
  • रक्त संचार बढ़ने के कारण योनी के कुछ हिस्से, जैसे कि लेबिया (योनि के होंठ) और क्लाइटोरिस, सूज जाते हैं।
  • उनकी योनि की गहराई भी बढ़ सकती है।
  • उनके स्तन भर जाते हैं, और निप्पल तनकर संवेदनशील हो जाते हैं।
 
 
 
 

जोश के प्रति स्त्री का दिमाग कैसी प्रतिक्रिया करता है?

उनका दिमाग किसी और चीज़ पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है – भले ही फिर वह वास्तव में सेक्स न कर रही हों।

ऐसा इसलिए है क्योंकि यौन उत्तेजनाएं उनके दिमाग में कुछ बदलावों को सक्रिय करती हैं, जो कुछ सेक्स-केंद्रित मस्तिष्क गतिविधि को प्रेरित करती हैं।

हालाँकि, दिमाग कैसे काम करता है इसके बारे में अभी भी बहुत कुछ है जो हम नहीं जानते हैं, जिसमें सेक्स के दौरान दिमाग के कामकाज भी शामिल हैं।

क्या महिला और पुरुष जोश में कोई अंतर है?

कामोत्तेजना के प्रति आपकी शारीरिक प्रतिक्रिया निश्चित रूप से आपके महिला या पुरुष होने पर निर्भर करेगी। लेकिन कुछ समानताएं हैं जो जोश के दौरान महिला और पुरुष दोनों में समान होती हैं।

जैसे महिला और पुरुष, दोनों में जोश के दौरान उनकी रक्त वाहिकाओं के फैलाव के कारण उनके जननांगों में रक्त संचार बढ़ जाता है। यदि आप महिला हैं, तो इसके परिणामस्वरूप आपकी क्लाइटोरिस और लेबिया सूज सकती है। यदि आप पुरुष हैं, तो यह रक्त संचार आपके लिंग को खड़ा करने का कार्य करेगा।

यह रक्त प्रवाह दोनों के गाल और छाती को भी फुला सकता है।

ज्यादातर वैज्ञानिक पुरुषों और महिलाओं के दिमाग के बीच के अंतरों पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं, जिसमें सेक्स की बात भी शामिल है। लेकिन दिमागी तौर पर, पुरुष और महिलाएं अलग नहीं होते।

2012 के एक शोध में, प्रतिभागियों द्वारा कामुक वीडियो देखने के दौरान, एक fMRI मशीन के माध्यम से उनके दिमाग की हलचल को देखा गया। fMRI मशीन ने शोधकर्ताओं को यह देखने में मदद की कि उत्तेजना के दौरान लोगों का दिमाग कैसी प्रतिक्रिया देता है।

शोध के परिणाम में पाया गया कि, चूँकि यौन जोश ने पुरुषों में अमिग्डलास और थैलमी भाग को अधिक सक्रिय किया, लेकिन आमतौर पर सभी प्रतिभागियों पर इसका समान प्रभाव हुआ।

स्त्री का जोश बढ़ाने के लिए क्या कर सकते हैं?

स्त्रियों में जोश बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका होता है – लम्बे समय तक फोरप्ले करना।

इसका मतलब यह है कि आप सेक्स से पहले, स्त्री के अलग-अलग कामुक अंगों के साथ प्रयोग करके, या विभिन्न प्रकार के कामुक स्पर्शों को अपनाकर, स्त्री का जोश जगा सकते हैं।

उदाहरण के लिए, कुछ स्त्रियां अधिक कामुक महसूस करती हैं, जब आप उनके निपल्स को छूते हैं, या उनको लंबे समय तक चूमते हैं, या सेक्स टॉय का उपयोग करते हैं।

स्त्रियों में जोश बढ़ाने वाली आयुर्वेदिक दवाएं और खाद्य पदार्थ

कभी-कभी हार्मोनल असंतुलन के कारण स्त्री के जोश में कमी आ सकती है। इस स्थिति में निम्न जड़ी-बूटियाँ और खाद्य पदार्थ मददगार हो सकते हैं:

1. जिनसेंग

आपने अक्सर “पुरुषों की संभोग समस्या” को हल करने का वादा करने वाले जिनसेंग उत्पादों के विज्ञापनों के होर्डिंग देखे होंगे। लेकिन आपको यह जानकर खुशी होगी कि यह ‘महिलाओं’ के लिए भी एक चमत्कारी औषधि हो सकती है।

2019 में किए गए एक शोध के अनुसार, जिनसेंग पुरुषों और महिलाओं दोनों में यौन क्रिया में सुधार करता है और स्वाभाविक रूप से उनके जोश और सतर्कता को बढ़ाता है।

2. मेथी

फाइटोथेरेपी रिसर्च जर्नल में प्रकाशित एक शोध के निष्कर्षों ने सुझाव दिया, कि मेथी के बीज का मासिक धर्म वाली महिलाओं की यौन क्रिया पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

इसका कारण मेथी के बीज में मौजूद सैपोनिन (saponins) नामक यौगिक की उपस्थिति होता है, जो एस्ट्राडियोल (एस्ट्रोजन हॉर्मोन का एक प्रकार) को बढ़ावा देता है।

इसके फलस्वरूप, योनि में चिकनाई और रक्त प्रवाह को बढ़ावा मिलता है, जिससे महिला की उत्तेजना, सेक्स इच्छा और ऑर्गाज्म प्राप्त करने की क्षमता बढ़ती है।

3. शतावरी

यदि आपकी कामोत्तेजना में कमी आपके साथी के साथ लगाव की कमी या कोई मानसिक-स्वास्थ्य समस्या के कारण नहीं है, तो हो सकता है इसका कारण आपके शरीर में एक हार्मोनल असंतुलन हो।

इस स्थिति में शतावरी मददगार हो सकती है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन-बी6 और फोलेट होता है।

ये पोषक तत्व शरीर में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने और प्रोलैक्टिन को कम करने के लिए साबित हो चुके हैं। प्रोलैक्टिन हॉर्मोन महिलाओं में कामेच्छा को कम करता है।

4. केसर

केसर की महक दिव्य होती है और इसका असर आपकी सेक्स ड्राइव पर भी पड़ता है।

ब्रिटिश जर्नल ऑफ फार्माकोलॉजी में प्रकाशित एक शोध में पाया गया कि जिन महिलाओं ने 4 सप्ताह तक हर दिन 30 मिलीग्राम केसर का सेवन किया, उनमें यौन उत्तेजना और इच्छा में वृद्धि देखी गई।

आप केसर को दूध के साथ सेवन कर सकती हैं।

5. खजूर

खजूर जितना स्वादिष्ट होता है, उतना ही आपकी रोमांटिक लाइफ के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। कई शोधों ने खजूर के कामोत्तेजक गुणों का उल्लेख किया है।

इस सूखे फल में भरपूर एमिनो एसिड होते हैं, जो यौन सहनशक्ति और जोश बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

सर्दियों में खजूर का सेवन एक कप गर्म दूध के साथ किया जा सकता है और गर्मियों में इसे रात भर भिगो रखकर सुबह सेवन किया जा सकता है।

बस इतना ध्यान रखें कि इसको सीमित मात्रा में ही सेवन करें। आप अपनी कामोत्तेजना को बढ़ावा देने के लिए मोटापा और डायबिटीज से तो ग्रसित नहीं होना चाहेंगी, है ना?

 
 
 
 

क्या करें यदि आप बिल्कुल भी उत्तेजना का अनुभव नहीं करती हैं?

यदि आप सेक्स करने की इच्छा तो रखती हैं, लेकिन आपमें उत्तेजना आती ही नहीं है, तो इससे निपटना मुश्किल हो सकता है। इसका कारण आपमें कोई यौन रोग हो सकता है।

आमतौर पर कामोत्तेजना से संबंधित यौन रोग को महिला यौन रुचि/कामोत्तेजना संबंधी विकार कहा जाता है।

या हो सकता है आप अलैंगिक हों, जिसमें आपको सेक्स करने की इच्छा कम या बिल्कुल नहीं होती है। अलैंगिकता कोई विकार या स्थिति नहीं होती है, बल्कि एक पहचान होती है – किसी भी अन्य समलैंगिक पहचान की तरह।

अलैंगिक लोगों में काफी विविधतायें होती हैं। कुछ अलैंगिक लोग सेक्स करते हैं, जबकि अन्य नहीं करते हैं।

अगर आपको लगता है कि आप अलैंगिक हैं, तो इस विषय पर और ज्यादा जानकारी इकठ्ठा करें और अलैंगिक समुदाय से संपर्क करें।

महिला यौन रुचि/कामोत्तेजना संबंधी विकार क्या होता है?

महिला यौन रुचि/उत्तेजना विकार एक यौन रोग है जो महिलाओं में कम सेक्स ड्राइव का कारण बनता है। इसे मेडिकल भाषा में हाइपोएक्टिव सेक्सुअल डिजायर डिसऑर्डर (HSDD) कहा जाता था।

लक्षण/संकेत

यदि आपको HSDD है, तो आप निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं:

  • सेक्स और हस्तमैथुन में कम रुचि
  • यौन कल्पनाओं (सेक्स फेंटसी) में कम रुचि
  • सेक्स का आनंद लेने में कठिनाई
  • अपने जननांगों को उत्तेजित करने के दौरान आपमें खुशी महसूस करने में कठिनाई होना

पहचान

HSDD के लिए कोई विशिष्ट टेस्ट नहीं होता है।

इस स्थिति की पहचान करने के लिए, डॉक्टर आपके लक्षणों के बारे में सवाल पूछ सकता है। वह आपमें मौजूद किसी संभावित अंतर्निहित कारण खोजने का भी प्रयास कर सकता है।

इसमें शारीरिक कारक (उदाहरण के लिए, कोई स्वास्थ्य स्थिति या दवा) या भावनात्मक कारक (जैसे यौन शोषण का इतिहास, एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति जो उत्तेजना, नकारात्मक शरीर की छवि, या तनाव को प्रभावित करती है) शामिल हो सकते हैं।

अंतर्निहित कारण का पता लगाने के लिए आपको ब्लड टेस्ट या योनि परिक्षण करवाने की भी आवश्यकता हो सकती है। कभी-कभी, HSDD का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है।

उपचार

HSDD का उपचार इसके कारण पर निर्भर करेगा।

उदाहरण के लिए, यदि यह एक निश्चित दवा के कारण होता है, तो आपका डॉक्टर खुराक को कम कर सकता है या पूरी तरह से बदल सकता है।

एस्ट्रोजन हॉर्मोन के स्तर में कमी के कारण भी HSDD हो सकता है। यह उन महिलाओं में होना आम है जो रजोनिवृत्ति या पूर्व-रजोनिवृत्ति का अनुभव कर रही हैं। इस मामले में, डॉक्टर आपको हॉर्मोन थेरेपी दे सकता है।

यदि इसका कारण भावनात्मक है, तो किसी सेक्सोलॉजिस्ट से मिलना सबसे अच्छा विचार है। वह आपके मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करने और किसी भी पिछले आघात को दूर करने में आपकी सहायता कर सकता है।

2011 में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, मानसिक स्वास्थ्य का कामोत्तेजना पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है, और संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (cognitive behavioral therapy) जैसी चिकित्सा, उत्तेजना संबंधी विकारों के लिए एक बहुत प्रभावी उपचार हो सकती हैं।

एक काउंसलर जो सेक्स और रिश्तों में विशेषज्ञता रखता हो, आपको अपने साथी के साथ संचार स्थापित करने, सेक्स दिनचर्या बनाने और आपके लिए कारगर यौन गतिविधियों को खोजने में मदद कर सकता है।

इसके अलावा डॉक्टर द्वारा लिखी कुछ दवाएं अतिरिक्त मदद कर सकती हैं।

क्या कोई अन्य स्थितियां महिला उत्तेजना को प्रभावित करती हैं?

हाँ, ऐसी कई अन्य स्थितियां हैं, जो आपमें उत्तेजना संबंधी विकार पैदा कर सकती हैं या आपके यौन जोश को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं।

हार्मोनल बदलाव

रजोनिवृत्ति, गर्भावस्था, गर्भपात, जन्म और स्तनपान, यह सभी महिलाओं में बड़े हार्मोनल बदलाव का कारण बनते हैं और उनकी उत्तेजना महसूस करने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

गर्भावस्था, गर्भपात, जन्म और स्तनपान के मामले में, आमतौर पर आपकी यौन इच्छा और उत्तेजित होने की क्षमता समय के साथ वापस आ जाती है।

यदि यह लगातार बनी रहती है या यदि यह आपको परेशान कर रही है, तो डॉक्टर या थेरेपिस्ट से बात करें।

यदि रजोनिवृत्ति के कारण आपको कम या बिलकुल भी यौन इच्छा महसूस नहीं हो रही है, तो आपका डॉक्टर एस्ट्रोजन थेरेपी दे सकता है।

थायराइड विकार

चूंकि आपकी थायरॉयड ग्रंथि आपके सेक्स हार्मोनों को प्रभावित कर सकती है, इसलिए कोई भी थायरॉयड विकार आपकी उत्तेजित होने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

2013 के एक शोध, जिसमें हाइपरथायरायडिज्म, हाइपोथायरायडिज्म, हाशिमोटो थायरॉयडिटिस और नोडुलर गोइस्टर जैसी थायराइड की समस्या वाली 104 महिलाओं की जाँच की कई। शोधकर्ताओं ने उनकी तुलना बिना थायराइड की समस्या वाली महिलाओं के साथ की।

शोधकर्ताओं ने पाया कि थायरॉइड की समस्या वाली महिलाओं (46.1 प्रतिशत) में बिना थायराइड रोग वाली महिलाओं (20.7 प्रतिशत) की तुलना में यौन रोग अधिक प्रचलित थे।

2015 में किए गए एक शोध ने यौन रोग और डिप्रेशन के बीच के संबंध को देखा। इसके परिणाम में पाया गया कि हाइपोथायरायडिज्म और थायरॉयड ऑटोइम्यूनिटी, महिलाओं में डिप्रेशन और यौन रोग दोनों का कारण बन सकते हैं।

इसलिए दवाओं और स्वस्थ जीवनशैली के जरिये अपने थाइरोइड रोग को प्रतिबंधित करने से, आपमें कामोत्तेजना बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

मानसिक स्वास्थ्य विकार

डिप्रेशन और तनाव जैसे मनोदशा संबंधी विकार, महिलाओं में कम कामेच्छा के साथ-साथ अन्य यौन विकारों का कारण बन सकते हैं।

2009 में जर्नल ऑफ क्लिनिकल साइकियाट्री में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, यौन रोग से पीड़ित लगभग 40 प्रतिशत महिलाएं डिप्रेशन का भी अनुभव करती हैं।

मानसिक तनाव और आघात के कारण व्यक्ति में कई मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, जिसमें यौन जोश में कमी भी शामिल है।

डायबिटीज

डायबिटीज विभिन्न प्रकार के महिला यौन रोगों का कारण बन सकती है।

2013 में शोधों की एक समीक्षा में पाया गया कि डायबिटीज से पीड़ित महिलाओं में डायबिटीज के बिना वाली महिलाओं के मुकाबले यौन रोग होने की सम्भावना ज्यादा होती है और उनकी कामोत्तेजना में कमी आती है।

क्या मुझे डॉक्टर से मिलना चाहिए?

यदि आपको लगता है कि आप किसी भी प्रकार के यौन रोग का अनुभव कर रही हैं, तो डॉक्टर या सेक्सोलॉजिस्ट से बात करना एक अच्छा विचार है – खासकर यदि यह आपके रिश्तों को प्रभावित कर रहा हो तो।

याद रखें , हालाँकि स्त्रियों में यौन रोग और कामोत्तेजना में कमी एक कठिन और निराशाजनक स्थिति हो सकती है, लेकिन इसका उपचार संभव है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.