हस्तमैथुन के फायदे और नुकसान

हस्तमैथुन करना काफी आम बात होती है। यह खुद को संतुष्ट करने और सेक्सुअल टेंशन को दूर करने का प्राकृतिक और सुरक्षित तरीका होता है।

इसे महिलाएँ और पुरुष दोनों करते हैं। खासतौर से किशोर अवस्था में।

हस्तमैथुन के फायदे और नुकसान


हस्तमैथुन के बारे में कई सारी भ्रांतियां मौजूद हैं, जैसे इससे शरीर पर बाल उग आते हैं, आँखों की रौशनी कम हो जाती है, वीर्य जल्दी गिरने की समस्या हो जाती है, वीर्य पतला हो जाता है, शादी के बाद बच्चा नहीं होता, शुक्राणु कम हो जाते हैं, लिंग ढीला और कमजोर हो जाता है आदि। लेकिन कई शोधों से यह साबित हुआ है कि हस्तमैथुन के कोई भी शारीरिक रूप से हानिकारक दुष्प्रभाव नहीं होते।

हालाँकि, अत्यधिक हस्तमैथुन करने से आपके सेक्सुअल रिश्तों और रोजमर्रा के जीवन पर बुरा असर जरूर पड़ सकता है। इसके अलावा, हस्तमैथुन के कोई और नुकसान नहीं होते है और यह एक सामान्य, हेल्थी और आनंद प्रदान करने वाली प्रक्रिया होती है।

हस्तमैथुन के नुकसान और फायदों को अच्छे से समझने के लिए नीचे विस्तार से जानकारी दी जा रही है।

हस्तमैथुन के नुकसान

हस्तमैथुन के कोई भी नुकसानदायक प्रभाव नहीं होते। हालाँकि, कुछ लोग हस्तमैथुन करने से अपने आप को दोषी या शर्म का अनुभव कर सकते हैं।

कुछ लोगों में लम्बे समय तक हस्तमैथुन करने के कारण कुछ दिमागी और शारीरिक समस्याएं जरूर हो सकती हैं। इनकी पूरी जानकारी हमने आगे दी है।

हस्थमैथुन के कारण खुद को दोषी समझना​

कुछ लोग अपनी सांस्कृतिक, आध्यात्मिक, या धार्मिक मान्यताओं के कारण हस्तमैथुन के प्रति दोष का नजरिया रख सकते हैं। (1)

हस्तमैथुन करना न तो गलत होता है और न ही अनैतिक, लेकिन अक्सर आपने इसके प्रति ऐसे सन्देश सुनें होंगें कि “हस्तमैथुन करना गन्दा और शर्मनाक काम होता है।”

यदि आप हस्तमैथुन के प्रति खुद को दोषी समझते हैं, तो किसी ऐसे व्यक्ति से बात करें जिससे आप इस बारे में खुल कर बात कर सकते हैं। या फिर, आप किसी सेक्सुअल हेल्थ थेरेपिस्ट या मनोवैज्ञानिक से बात कर सकते हैं जो आपको इस सोच से उभरने में काफी मदद कर सकता है।

loading...


अत्यधिक हस्तमैथुन करने की आदत पड़ना​

कुछ लोगों में अत्यधिक हस्तमैथुन करने की आदत हो सकती है। इसके कारण आप अपना ज्यादातर समय हस्तमैथुन करने और सेक्स के बारे में सोचने में बिता देते हैं। इस कारण आपको निम्न नुकसान हो सकते हैं –
  • अपने रोज के कामकाजों को पूरा न कर पाना।
  • स्कूल या ऑफिस जाने में लेट हो जाना।
  • दोस्तों या परिवार के लोगों को समय न दे पाना।
हस्तमैथुन की आदत के कारण आपके रिश्तों पर सबसे ज्यादा बुरा असर पड़ता है। अत्यधिक हस्तमैथुन करने से आपके रोजमर्रा के कामकाज और पढ़ाई आदि में बुरा असर पड़ सकता है, जिससे आपकी प्रोडक्टिविटी में कमी आ सकती है।

इससे आपके सेक्सुअल और रोमांटिक रिश्तों पर भी बुरा असर पड़ सकता है, क्योंकि आप अपने लवर को जरूरत अनुसार समय नहीं दे पाते और उनकी जरूरतों का ध्यान नहीं रख पाते।

पढ़ेंहस्तमैथुन की आदत छोड़ने तरीके

यदि आपको अत्यधिक हस्तमैथुन करने की आदत पड़ गई है, तो किसी अच्छे डॉक्टर या काउंसलर से बात करके हस्तमैथुन को कम करने की कोशिश करें।

हस्तमैथुन को कम करने के लिए साइकोथेरेपी (मनोचिकित्सा) काफी फायदेमंद होती है। साइकोथेरेपी को व्यक्ति के व्यवहार और दिमागी स्वास्थय को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए विकिपीडिया के इन दो लेखों को पढ़ें – मनोचिकित्सा और साइकोथेरेपी

हस्तमैथुन को कम करने के लिए, आप इसकी जगह अपनी रोज की दिनचर्या का कोई और काम भी कर सकते हैं। आगे, जब भी आपको हस्तमैथुन करने का मन करे तो अपने मन को किसी अन्य काम में भटकाने की कोशिश करें, जैसे राइटिंग करना, मूवी देखना, दोस्तों के साथ समय बिताना, न्यूज़ पढ़ना, टहलना, यूट्यूब पर कोई वीडियो देखना आदि।

क्या हस्तमैथुन करने से सेक्स क्षमता में कोई कमी आती है?

सीमित हस्तमैथुन करने से सेक्स की क्षमता पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता। यहाँ तक कि, इसे करने से सेक्स में फायदा ही होता है।

अमेरिका की एक अकादमी में हुए शोध के अनुसार महिलाओं में सेक्स इच्छा, संवेदनशीलता और उत्तेजना में कमी को ठीक करने के लिए हस्तमैथुन काफी फायदेमंद होता है। (2)

2009 में हुए दो शोधों में यह पाया गया कि पुरुष और महिलाएँ यदि हस्तमैथुन करने के दौरान वाइब्रेटर (vibrator) का इस्तेमाल करें तो उनकी कामोत्तेजना और सेक्सुअल फंक्शन में बढ़ोतरी है (3, 4)। महिलाओं ने बताया कि इससे उनकी योनि में लुब्रिकेशन और संवेदनशीलता बढ़ी। वहीँ पुरुषों ने बताया कि इससे उनका लिंग अपनी क्षमता अनुसार पूरा खड़ा हुआ और पूर्ण संतुष्टि मिलने में काफी मदद मिली (5)।

पुरुषों में हस्तमैथुन के दौरान गलत तरीके से अपने लिंग को पकड़ने से, जैसे उसे अत्यधिक कसकर पकड़ने से या टेड़ा पकड़ने से. उसकी संवेदनशीलता में कमी आ सकती है। (6)

इसलिए कई सेक्सुअल हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि यदि हस्तमैथुन करने से कारण आपके लिंग में संवेदनशीलता में कमी आई है तो उसे ठीक करने के लिए अपने हस्तमैथुन करने के तरीके को बदलें। आप हस्तमैथुन के दौरान निम्न स्टेप्स कर सकते हैं।
  • किसी अच्छे लुब्रीकेंट का इस्तेमाल करें।
  • लिंग को अधिक कसकर न पकड़ें और न ही कठोरता से हस्तमैथुन करें।
  • लिंग को हमेशा सीधा पकड़ें और धीरे-धीरे हस्तमैथुन करें।

हस्तमैथुन करने के फायदे

हस्तमैथुन एक हेल्थी सेक्सुअल एक्टिविटी होती है। आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थय के लिए इसके कई फायदे होते हैं।

हस्तमैथुन के फायदों के बारे में कोई ज्यादा शोध तो उपलब्ध नहीं हैं। लेकिन सेक्स करने के फायदों पर कई शोध हुए हैं (7, 8, 9)। आप सेक्स करें या हस्तमैथुन, दोनों में लगभग समान स्वास्थ्य लाभ होते हैं। क्योंकि दोनों ही क्रियाओं में आप पहले उत्तेजित होते हैं और फिर स्खलित होकर संतुष्ट हो जाते हैं।

शोधों से यह बात सामने आई है कि सेक्स उत्तेजना (फिर चाहे वो हस्तमैथुन से हुई हो है या पार्टनर के साथ सेक्स करने से) से आपको निम्न फायदे होते हैं –
  • तनाव कम होता है
  • अच्छी नींद आती है
  • मूड ठीक होता है
  • शरीर रिलैक्स होता है और सुख का अनुभव होता है
  • ऐंठन ठीक होती है
  • सेक्स करने की इच्छा पूरी होती है
कपल्स अपनी अलग-अलग इच्छाओं को पूरा करने के लिए और प्रेगनेंसी को रोकने के लिए एक-दूसरे को हस्तमैथुन भी करा सकते हैं।

हस्तमैथुन करने से यौन रूप से संक्रामित संक्रमण (एसटीडी) होने की सम्भावना भी नहीं होती।

हस्तमैथुन प्रोस्टेट कैंसर की सम्भावना को कम करता है​

कुछ शोधों से यह बात सामने आई है कि हस्तमैथुन या सेक्स के जरिये नियमित स्खलित होने से प्रोस्टेट कैंसर होने की सम्भावना कम हो जाती है। हालाँकि, अभी तक डॉक्टर्स को ऐसा होने का सही कारण नहीं पता चला है।

2016 में हुए एक शोध में यह पाया गया कि जो पुरुष महीने में कम से कम 21 बार स्खलित होते हैं उनमें प्रोस्टेट कैंसर होने की सम्भावना 20 प्रतिशत तक कम हो जाती है (10)। 2003 में हुए शोध में भी इसी तरह के परिणाम पाए गए थे (11)।

हालाँकि, हस्तमैथुन एडवांस्ड प्रोस्टेट कैंसर से बचाता हो इसका कोई ठोस सबूत मौजूद नहीं है।

loading...


गर्भावस्था के दौरान हस्तमैथुन​

गर्भावस्था के दौरान हॉर्मोंस में बदलाव आने के कारण कुछ महिलाओं की सेक्स इच्छा बढ़ सकती है। ऐसे में, सेक्स टेंशन को दूर करने के लिए हस्तमैथुन सबसे सुरक्षित तरीका होता है।

साथ ही, यह कुछ गर्भावस्था के लक्षण जैसे पीठ दर्द, मांसपेशिओं में ऐंठन आदि की समस्या को भी दूर कर सकता है।
 
Top