वीर्य बचाने के फायदे, तरीका, जोखिम और बहुत कुछ

वीर्य बचाने को वीर्य प्रतिधारण भी कहा जाता है। यह वीर्य को स्खलित होने से बचाने का अभ्यास होता है।

बेशक, आप पूरी तरह से यौन गतिविधि से दूर रहकर वीर्य बचा सकते हैं। या आप सीख सकते हैं कि बिना वीर्य स्खलन के ऑर्गाज्म कैसे प्राप्त किया जाता है।

हालाँकि कुछ लोगों के लिए यह एक अजीब सनक की तरह लग सकता है, लेकिन यह अभ्यास शायद मानव जाति जितना ही पुराना है।

लोगों के पास इसे आजमाने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं, जैसे शारीरिक, भावनात्मक और और यहाँ तक कि आध्यात्मिक भी।

आगे हम आपको बताएँगे कि वीर्य प्रतिधारण के संभावित लाभ क्या हैं, यह कैसे किया जाता है, और शोध इसके पीछे के सिद्धांतों का समर्थन करते हैं या नहीं।

यह विचार आया कहाँ से?

वीर्य प्रतिधारण एक आधुनिक अवधारणा की तरह लग सकता है, लेकिन ऐसा इसलिए है क्योंकि आजकल वेबसाइटों और मंचों ने इस तरह की चीजों पर खुलकर चर्चा करना आसान बना दिया है।

वास्तव में, वीर्य बचाने का विचार काफी लम्बे समय से चला आ रहा है और वास्तव में यह कुछ प्राचीन प्रथाओं का हिस्सा भी है।

लोग वीर्य बचाने में अपनी रुचि के लिए कई तरह के कारण बताते हैं, जिसमें यह विश्वास भी शामिल है कि बार-बार वीर्य स्खलन करना आपको कमजोर करता है।

कुछ का कहना है कि वीर्य प्रतिधारण प्रजनन क्षमता, यौन आनंद या शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करता है।

बहुत से लोग मानते हैं कि वीर्य प्रतिधारण यौन ऊर्जा को जीवन के अन्य क्षेत्रों में पुनर्निर्देशित करने में मदद करता है, या यह मानसिक स्वास्थ्य और आध्यात्मिक विकास में सुधार करता है।

कुछ के लिए, खासतौर से योगियों के लिए यह आत्म-नियंत्रण का अभ्यास करने का एक हिस्सा होता है।

क्या यह ‘नोफैप’ जैसा ही है?

“नोफैप” शब्द का प्रयोग अक्सर वीर्य प्रतिधारण के संदर्भ में किया जाता है, लेकिन यह वास्तव में एक ही बात नहीं है।

नोफैप एक संगठन का नाम है, और यह उन लोगों की मदद करने के लिए जानकारी और सामुदायिक सहायता प्रदान करना है जो अत्यधिक पोर्न देखने की आदत से उबरना चाहते हैं और अपने रिश्तों को सुधारना चाहते हैं।

इसलिए, वीर्य प्रतिधारण की चर्चा में नोफैप एक हिस्सा हो सकता है, लेकिन नोफैप का फोकस व्यक्ति की पोर्न देखने की आदत को सुधारना है, न कि वीर्य बचाना।

क्या इसे किसी और नाम से भी जाना जाता है?

वीर्य प्रतिधारण के कुछ अन्य नाम निम्न हैं:

  • सहवास आरक्षण
  • वीर्य संरक्षण
  • यौन संयम

यह कुछ प्राचीन अभ्यासों का हिस्सा भी है जैसे:

  • ब्रह्मचर्य
  • तांत्रिक सेक्स
  • मैथुन
  • यौन संचारण
  • ताओ धर्म
पढ़ें -  शुक्राणुओं की संख्या कितनी होनी चाहिए?

वीर्य बचाने के कथित लाभ क्या हैं?

वीर्य प्रतिधारण का अभ्यास करने वाले लोग इसके कई तरह के लाभों के बारे में बताते हैं, जैसे:

मानसिक

  • अधिक आत्मविश्वास और आत्म-नियंत्रण
  • तनाव और डिप्रेशन में कमी
  • किसी कार्य को करने की प्रेरणा में वृद्धि
  • स्मृति, एकाग्रता और समग्र संज्ञानात्मक कार्य में वृद्धि

शारीरिक

  • अधिक जीवन शक्ति
  • मांसपेशियों के विकास में वृद्धि
  • घने बाल, गहरी आवाज
  • शुक्राणु गुणवत्ता में सुधार

आध्यात्मिक

  • ध्यान और योग में बेहतरी
  • गहरे रिश्ते
  • मजबूत जीवन शक्ति
  • बेहतर समग्र आनंद

क्या इसका समर्थन करने के लिए कोई कोई शोध हुए हैं?

यह एक जटिल, बहुआयामी विषय है, और इसपर काफी कम शोध हुए हैं। हालांकि पर्याप्त शोध नहीं होने का मतलब यह नहीं है कि सभी दावे झूठे हैं।

इसका मतलब यह है कि विशिष्ट दावों के बारे में ठोस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए अतिरिक्त और लंबी अवधि के शोधों की आवश्यकता है।

वीर्य प्रतिधारण पर हुए कुछ शोध निम्न हैं:

  • 2018 में, शोधकर्ताओं ने वीर्य बचाने की अवधि और वीर्य की गुणवत्ता पर होने वाले इसके प्रभावों पर हुए शोधों की एक व्यवस्थित समीक्षा की। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि कुछ समय के लिए वीर्य प्रतिधारण का अभ्यास करने से वीर्य की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण सुधार आता है, लेकिन एक निश्चित अवधि के बाद वीर्य की गुणवत्ता स्थिर हो जाती है, और उसके बाद भी वीर्य प्रतिधारण करते रहने से वीर्य गुणवत्ता पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता।
  • 2007 के एक पशु शोध में, शोधकर्ताओं ने पाया कि मस्तिष्क में एण्ड्रोजन रिसेप्टर्स, जो आपके शरीर को टेस्टोस्टेरोन का उपयोग करने में मदद करते हैं, लगातार हस्तमैथुन या वीर्य स्खलन करने से कम हो सकते हैं।
  • 2003 के एक छोटे से शोध में, शोधकर्ताओं ने स्खलन और टेस्टोस्टेरोन के स्तर में परिवर्तन के बीच एक संबंध होना पाया। 28 प्रतिभागियों में ,वीर्य प्रतिधारण के सातवें दिन टेस्टोस्टेरोन का स्तर चरम पर पहुँचा पाया गया।
  • 2001 के एक छोटे से शोध में, उन प्रतिभागियों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ा हुआ पाया गया, जिन्होंने तीन सप्ताह तक हस्तमैथुन नहीं किया था।
  • पुरुष एथलीटों पर हुए 2000 के एक शोध में, शोधकर्ताओं ने पाया कि एथलीटों द्वारा प्रतियोगिता से दो घंटे पहले वीर्य स्खलन करने से उनके प्रदर्शन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा।

क्या वीर्य प्रतिधारण के कोई जोखिम हैं?

ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जो वीर्य प्रतिधारण को शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य के लिए जोखिम भरा पाता हो। इसलिए अगर आपको वीर्य बचाना अच्छा लगता है तो इसे करना जारी रखें।

वीर्य प्रतिधारण कैसे किया जाता है?

वीर्य बचाने के लिए आप सेक्स और हस्तमैथुन से परहेज कर सकते हैं, या आप बिना वीर्य स्खलन के ऑर्गाज्म प्राप्त करने का अभ्यास कर सकते हैं।

हालाँकि, वीर्य स्खलन के बिना ऑर्गाज्म प्राप्त करना सीखने के लिए आपको अपनी मांसपेशियों पर बहुत अधिक नियंत्रण की आवश्यकता होती है, इसलिए कीगल एक्सरसाइज करने की आदत डालें।

पढ़ें -  वीर्य का स्वाद कैसा होना चाहिए?

अमेरिका की मेयो क्लिनिक के अनुसार कीगल एक्सरसाइज को करने की निम्न तकनीक है:

  • सबसे पहले अपनी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों का पता लगाएं। इनका पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है, जब आप पेशाब करते हैं तो उसे बीच में रोकने का प्रयास करें। आप जिन मांसपेशियों के जरिये इसे रोकते हैं उनका अनुभव करें। यही आपकी पेल्विक फ्लोर मांसपेशियां हैं।
  • इन मांसपेशियों को तीन सेकंड के लिए कसें, और फिर तीन सेकंड के लिए ढीला छोड़ दें।
  • एक्सरसाइज के दौरान केवल अपनी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को कसने पर ध्यान दें। अपने नितंबों, जांघों और पेट की मांसपेशियों को ढीला रहने दें। इस दौरान खुलकर गहरी सांस लें।
  • मांसपेशियों पर नियंत्रण बनाने के लिए इस एक्सरसाइज को एक बार में 10 सेटों में करें, और दिन में कम से कम 3 बार दोहराएं।
  • आप इस एक्सरसाइज को लेटकर, बैठकर, खड़े हुए और चलते हुए भी कर सकते हैं।
  • चूँकि यह एक्सरसाइज शरीर के अंदर की मांसपेशियों में की जाती है, इसलिए आप इसे किसी भी सार्वजानिक जगह जैसे ऑफिस में बिना किसी की नजर में आये आसानी से कर सकते हैं।

एक बार जब आप अपनी पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों पर नियंत्रण रखना सीख जाएँ, तो सेक्स या हस्तमैथुन के दौरान वीर्य स्खलन से ठीक पहले इन मांसपेशियों के जरिये वीर्य को बाहर निकलने से रोकने का अभ्यास करें।

सेक्स या हस्तमैथुन के दौरान वीर्य को गिरने से रोकने के लिए निम्न सुझावों का पालन करें:

  • अपने जबड़ों, नितंबों और टांगों के तनाव को ढीला छोड़ दें। रिलैक्स होना सीखें और श्रोणि क्षेत्र में अतिरिक्त ऊर्जा निर्माण से बचें।
  • जैसे ही आपको ऑर्गाज्म (या वीर्य स्खलन) निकट आता नजर आये, तो एक लंबी गहरी साँसें लें। अपने शरीर को शांत करने के लिए कुछ पलों के लिए सेक्स या हस्तमैथुन करना छोड़ दें और अपने शरीर को पूरी तरह स्थिर रखने का प्रयास करें। इस दौरान अपने ध्यान को वासना से हटाकर किसी और चीज पर केंद्रित करें।

इस अभ्यास के दौरान आपको कई बार प्रतिगामी स्खलन भी हो सकता है, जिसमें वीर्य लिंग से निकलने की वजाय मूत्राशय में चला जाता है, और बाद में मूत्र के साथ बाहर निकलता है। प्रतिगामी स्खलन में वीर्य प्रतिधारण के लाभ प्राप्त नहीं होते, क्योंकि इसमें भी आपका वीर्य शरीर से बाहर निकलता है, फिर भले ही वह बाद में मूत्रमार्ग से बाहर निकले।

इसलिए आपको वीर्य को पूरी तरह से बाहर निकलने से रोकने का अभ्यास करना है।

कीगेल एक्सरसाइज और वीर्य प्रतिधारण में पूर्ण सफल होने के लिए आपको कई दिनों तक निरंतर अभ्यास करना आवश्यक है। इसलिए शुरुआती असफलताओं से भटकें नहीं और प्रयास जारी रखें।

वीर्य प्रतिधारण को अल्पकालिक रूप से करना चाहिए, या दीर्घकालिक रूप से?

यह पूरी तरह से आपकी व्यक्तिगत प्राथमिकताओं पर निर्भर करता है। इसलिए विचार करें कि आप वीर्य प्रतिधारण का अभ्यास क्यों करना चाहते हैं और इससे क्या हासिल करने की उम्मीद करते हैं।

पढ़ें -  वीर्य पतला होने के कारण, फर्टिलिटी पर प्रभाव और उपाय

अपने शुक्राणुओं की गुणवत्ता बढ़ाने और हस्तमैथुन की आदत छोड़ने के उद्देश्य के लिए यह एक अल्पकालिक अभ्यास किया जा सकता है। ब्रह्मचर्य या तांत्रिक सेक्स को अपनाने वाले लोगों के लिए यह एक दीर्घकालिक अभ्यास हो सकता है।

हस्तमैथुन के दौरान वीर्य रोकने का अभ्यास कैसे करें?

वीर्य प्रतिधारण सीखने के लिए अनुशासन और एक निश्चित मात्रा में अभ्यास की आवश्यकता होती है।

हस्तमैथुन करने से आपको कोई नुकसान नहीं होता और न ही यह आपकी शुक्राणु पैदा करने की क्षमता को प्रभावित करेगा। और यह अपनी यौन विशेषताओं और क्षमताओं को गहराई से समझने का एक बेहतर तरीका है।

हस्तमैथुन के दौरान सुनिश्चित करें कि आपके पैर और नितंब की मांसपेशियां कठोर न हों। अपनी मांसपेशियों को रिलैक्स रखने में मदद करने के लिए गहरी साँसें लें। अपने शरीर के संकेतों पर ध्यान दें और उत्तेजना के अपने स्तर को पहचानना सीखें, ताकि आपको पता लग सके कि वीर्य स्खलन और ऑर्गाज्म से पहले आपको कैसा महसूस होता है।

ऑर्गाज्म से ठीक पहले वीर्य स्खलन रोकने का अभ्यास करने की एक तकनीक निम्न है:

  • जब आप महसूस करें कि स्खलन या ऑर्गाज्म करीब आ रहा है, तो अपने लिंग के सिरे (मुठ) को कसकर दवाएं। कुछ सेकंड के लिए इस कसावट को बनाए रखें जब तक कि स्खलन की इच्छा खत्म न हो जाये। आवश्यकतानुसार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

अपनी साथी के साथ सेक्स के दौरान वीर्य रोकने का अभ्यास कैसे करें?

अपनी साथी के साथ सेक्स के दौरान ऑर्गाज्म से ठीक पहले रुकने के लिए आपका आपसी तालमेल होना आवश्यक है। इसलिए अपनी साथी के साथ इस बारे में खुलकर चर्चा करें।

चर्चा करें कि आप क्या हासिल करना चाहते हैं और वह इसमें आपकी कैसे मदद कर सकती है। उससे पूछें कि यह अभ्यास उसकी उत्तेजना को कैसे प्रभावित करेगा, और क्या वह इसमें साथ देने के लिए तैयार है या नहीं।

यदि वह आपका साथ देने के लिए तैयार है, तो आप आसानी से सेक्स के दौरान भी वीर्य प्रतिधारण का अभ्यास कर सकते हैं।

Scroll to Top