वीर्य देर से स्खलित होने के कारण, अन्य लक्षण और इलाज

वीर्य देर से स्खलित होने की स्थिति को विलंबित स्खलन (DE) कहा जाता है। यह एक सामान्य चिकित्सा स्थिति है। इसे अक्सर “बिगड़ा हुआ स्खलन” भी कहा जाता है, और यह स्थिति तब होती है जब किसी पुरुष को वीर्य स्खलन के लिए लम्बे समय तक यौन रूप से उत्तेजित रहने की आवश्यकता होती है। कुछ मामलों में तो व्यक्ति का वीर्य स्खलन होता ही नहीं है।

अधिकांश पुरुषों को समय-समय पर विलंबित स्खलन का अनुभव होता रहता है, लेकिन कुछ पुरुषों के लिए यह एक आजीवन समस्या हो सकती है।

हालांकि इस स्थिति में आपको कोई गंभीर चिकित्सा जोखिम नहीं होता, लेकिन इसके कारण आपमें तनाव पैदा हो सकता है और आपके यौन जीवन और व्यक्तिगत संबंधों में समस्याएं पैदा हो सकती हैं। हालांकि, इसका उपचार संभव है।

विलंबित स्खलन के लक्षण क्या हैं?

विलंबित स्खलन तब होता है जब एक पुरुष को स्खलन तक पहुंचने के लिए 30 मिनट से अधिक समय तक यौन उत्तेजित रहने की आवश्यकता होती है। स्खलन उसे कहते हैं जब लिंग से वीर्य निकलता है। इस समस्या से ग्रसित कुछ पुरुष केवल हाथों से या मौखिक उत्तेजना के जरिये ही स्खलित हो सकते हैं, जबकि कुछ बिलकुल भी स्खलन करने में सक्षम नहीं होते।

एक आजीवन विलंबित स्खलन की समस्या, उस समस्या से बहुत अलग होती है जो बाद में जीवन में विकसित होती है। कुछ पुरुषों में यह समस्या सामान्यीकृत होती है, यानी हर एक सेक्स या हस्तमैथुन के दौरान उन्हें विलंबित स्खलन का अनुभव होता है।

अन्य पुरुषों के लिए, यह केवल कुछ सेक्स पार्टनरों के साथ या कुछ विशेष परिस्थितियों में होता है, जिसे “स्थितिजन्य विलंबित स्खलन” के रूप में जाना जाता है।

कुछ दुर्लभ मामलों में, विलंबित स्खलन दिल की बीमारी या डायबिटीज जैसी बिगड़ती स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है।

विलंबित स्खलन के कारण क्या हैं?

विलंबित स्खलन के कई संभावित कारण हो सकते हैं, जिनमें मनोवैज्ञानिक चिंताएँ, पुरानी स्वास्थ्य स्थितियाँ और दवाओं के प्रति प्रतिक्रियाएँ शामिल हैं।

विलंबित स्खलन के मनोवैज्ञानिक कारक एक दर्दनाक अनुभव के कारण हो सकते हैं। साथ ही, सांस्कृतिक या धार्मिक प्रथाएं सेक्स को एक नकारात्मक अर्थ दे सकती हैं जिससे व्यक्ति में इसके प्रति हीन भावना विकसित हो सकती है। इसके अलावा चिंता और डिप्रेशन दोनों ही यौन इच्छा को दबा सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप विलंबित स्खलन हो सकता है।

रिश्ते का तनाव, खराब संचार और गुस्सा इस समस्या को और ज्यादा बदतर बना सकते हैं।

अपनी सेक्स फेंटसी की तुलना में अपनी पार्टनर के साथ वास्तविकता में निराशा हासिल होने पर भी विलंबित स्खलन हो सकता है। अक्सर, इस स्थिति वाले पुरुष हस्तमैथुन के दौरान तो स्खलन कर पाते हैं, लेकिन अपनी पार्टनर के साथ नहीं।

कुछ दवाओं में मौजूद केमिकल भी स्खलन में शामिल तंत्रिकाओं को प्रभावित कर सकते हैं। इस मामले में व्यक्ति किसी भी स्थिति में स्खलित नहीं हो पाता। इन दवाओं में निम्न शामिल हैं:

  • एंटीडिप्रेसेंट दवाएं, जैसे फ्लुक्सोटाइन (fluoxetine)
  • एंटीसाइकोटिक दवाएं, जैसे थियोरिडाज़ीन (thioridazine)
  • हाई ब्लड प्रेशर की दवाएं, जैसे प्रोप्रानोलोल (propranolol)
  • मूत्रवर्धक दवाएं
  • शराब

सर्जरी या आघात भी विलंबित स्खलन का कारण बन सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हो सकते हैं:

  • आपकी रीढ़ की हड्डी या जननांगों के आसपास की तंत्रिकाओं में क्षति पहुँचना
  • कुछ प्रोस्टेट सर्जरी जो तंत्रिका क्षति का कारण बनती हैं
  • दिल की बीमारी जो जननांगों में ब्लड प्रेशर को प्रभावित कर सकती है
  • संक्रमण, विशेष रूप से प्रोस्टेट या मूत्र संक्रमण
  • न्यूरोपैथी या स्ट्रोक
  • थाइरोइड हॉर्मोन का स्तर कम होना
  • टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना
  • जन्मजात दोष जो स्खलन प्रक्रिया को बाधित करते हों

एक अस्थायी स्खलन की समस्या व्यक्ति में चिंता और डिप्रेशन का कारण बन सकती है। इसके परिणामस्वरूप समस्या पैदा करने वाले कारक के हल हो जाने पर भी व्यक्ति में दोबारा विलंबित स्खलन हो सकता है।

 
 
 
 

विलंबित स्खलन की पहचान कैसे की जाती है?

एक प्रारंभिक पहचान करने के लिए डॉक्टर आपका एक शारीरिक परिक्षण करेगा और आपके द्वारा अनुभव हो रहे लक्षणों के बारे में पूछेगा। यदि डॉक्टर को आपमें मौजूद किसी पुरानी अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या का संदेह होता है, तो वह अतिरिक्त टेस्ट करवाने की सलाह दे सकता है। इन टेस्ट में ब्लड टेस्ट और यूरिन टेस्ट शामिल हैं।

ये टेस्ट संक्रमण, हार्मोनल असंतुलन, और बहुत कुछ चीजों की जाँच करेंगे।

साथ ही, वाइब्रेटर के प्रति आपके लिंग की प्रतिक्रिया का परीक्षण करने से पता चल सकता है कि समस्या मनोवैज्ञानिक है या शारीरिक।

विलंबित स्खलन के लिए कौन से उपचार उपलब्ध हैं?

विलंबित स्खलन का उपचार इसके अंतर्निहित कारण पर निर्भर करेगा। यदि आपको जन्म से ही यह समस्या है या आपने कभी-भी स्खलन प्राप्त नहीं किया है, तो एक मूत्र रोग विशेषज्ञ आपकी जाँच के जरिये किसी संभावित जन्मजात दोष की मौजूदगी का पता लगाएगा।

यदि आपको अभी-अभी अचानक से विलंबित स्खलन होने लगा है तो डॉक्टर सबसे पहले आपके द्वारा ली जा रही किसी दवा के दोषी होने की जाँच करेगा। यदि कोई दवा कारक होती है, तो डॉक्टर आपकी दवाओं के समायोजन में बदलाव करेगा है और बाद में लक्षणों में आने वाले बदलावों की निगरानी रखने की सलाह देगा।

कुछ दवाओं के जरिये भी विलंबित स्खलन ठीक करने में मदद मिल सकती है, लेकिन यह सभी दवाएं किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के लिए बनाई गई हैं और किसी को भी विलंबित स्खलन के लिए विशेष रूप से अनुमोदित नहीं किया गया है। अमेरिका की मायो क्लिनिक के अनुसार, निम्न दवाएं विलंबित स्खलन में मददगार हो सकती हैं:

  • साइप्रोहेप्टाडीन (cyproheptadine), जो कि एक एलर्जी की दवा है
  • अमेंटडीन (amantadine), जो पार्किंसंस रोग के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा है
  • बस्परोन (busperone), जो एक चिंता रोधी दवा है

कम टेस्टोस्टेरोन का स्तर भी विलंबित स्खलन में योगदान कर सकता है, इसलिए टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने वाले तरीके अपनाकर आपको फायदा मिल सकता है।

यदि आप नशीली दवाओं या शराब का सेवन करते हैं, तो इनसे छुटकारा पाने से भी आपको मदद मिल सकती है। किसी अच्छे नशा मुक्ति केंद्र से संपर्क करने पर आपको बेहतर मदद मिल सकती है।

डिप्रेशन, चिंता, और डर के कारण ट्रिगर होने वाले विलंबित स्खलन में मनोवैज्ञानिक परामर्श मददगार हो सकता है।

यौन रोग के अंतर्निहित कारण को ठीक करने में सेक्स थेरेपी भी उपयोगी हो सकती है। आप इस प्रकार की चिकित्सा में अकेले या अपनी पार्टनर के साथ भाग ले सकते हैं।

आमतौर पर मानसिक या शारीरिक कारणों का इलाज करके विलंबित स्खलन ठीक हो जाता है। अक्सर विलंबित स्खलन की जाँच करवाने पर आपमें एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या का पता चल जाता है। एक बार इस समस्या का इलाज हो जाने पर, विलंबित स्खलन अक्सर ठीक हो जाता है।

यही बात एक दवा के अंतर्निहित कारण होने पर भी सही है। हालांकि, अपने डॉक्टर से सलाह लिए बिना कोई भी दवा लेना बंद न करें।

विलंबित स्खलन होने पर आपमें कौन-कौन सी जटिलताएं पैदा हो सकती हैं?

विलंबित स्खलन किसी भी व्यक्ति में विफलता और नकारात्मकता की भावनाएं पैदा करने के साथ-साथ उनके आत्म-सम्मान में कमी भी ला सकता है। इस स्थिति का अनुभव कर रहे पुरुष अक्सर निराशा और असफलता के डर से सेक्स सम्बन्ध बनाने से बचने की कोशिश करते हैं।

अन्य जटिलतायें निम्न हो सकती हैं:

  • यौन सुख में कमी आना
  • सेक्स के प्रति चिंता और तनाव होना
  • बच्चा पैदा करने में असमर्थ होना, या पुरुष बाँझपन का शिकार होना
  • कामेच्छा में कमी आना
  • तनाव और चिंता से पीड़ित होना

विलंबित स्खलन आपके रिश्तों में भी टकराव का कारण बन सकता है, जो अक्सर दोनों पार्टनरों की गलतफहमियों से उपजा होता है।

उदाहरण के लिए, आपकी पार्टनर को लग सकता है कि आप उसकी ओर आकर्षित नहीं हैं। आप स्खलन प्राप्त करना चाहते हैं, लेकिन ऐसा करने में शारीरिक या मानसिक रूप से असमर्थ होने के कारण निराशा और शर्मिंदगी महसूस कर सकते हैं।

उपचार या मनोवैज्ञानिक परामर्श इन समस्याओं को हल करने में मदद कर सकता है। साथ ही, अपनी पार्टनर के साथ खुलकर और ईमानदारी से चर्चा करने से अक्सर एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलती है।

निष्कर्ष

विलंबित स्खलन होने के कई कारण हो सकते हैं। लेकिन कारण चाहे जो भी हो, इसका इलाज संभव है। इसके बारे में अपनी पार्टनर और डॉक्टर को बताने में संकोच न करें। यह पुरुषों में होने वाली एक आम समस्या है, जिसका इलाज संभव है।

डॉक्टर से खुलकर बात करने से आप इस समस्या को हल करने के लिए आवश्यक मनोवैज्ञानिक और शारीरिक मदद प्राप्त कर सकते हैं और बेहतर यौन जीवन का आनंद ले सकते हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.