वीर्य गाढ़ा करने वाली 9 दवाओं और खाद्य पदार्थों के नाम

यदि आप अपने सेक्स सुख को बढ़ाने या बच्चा पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, तो अपने वीर्य को गाढ़ा करना शायद आपकी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक होगी।

इसमें आपकी मदद करने के लिए, हमने कुछ आयुर्वेदिक दवाओं, खाद्य पदार्थों और जीवनशैली में बदलाव की एक सूची तैयार की है जो आपको अधिक वीर्य पैदा करने में मदद कर सकती है।

आप मेथी जैसी प्राकृतिक वीर्य वर्धक खाद्य पदार्थों का सेवन करके भी देख सकते हैं, जो वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं।

नीचे दिए गए प्राकृतिक उपचारों को एक साथ अपनाने से, आपको अपना वीर्य या धातु गाढ़ा करने में काफी मदद मिलेगी।

1. अपने वीर्य उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए जिंक सप्लीमेंट लें

इस खनिज पदार्थ का सीधा संबंध वीर्य की मात्रा, शुक्राणुओं की संख्या और टेस्टोस्टेरोन के स्तर से होता है (स्त्रोत)।

आपमें जिंक की कमी है या नहीं, यह जानने के लिए आप डॉक्टर से अपना ब्लड टेस्ट करवा सकते हैं।

यदि आपमें जिंक की कमी पाई जाती है, तो आप डॉक्टर की सलाह से जिंक के कैप्सूल का सेवन कर सकते हैं।

इसके अलावा, आप अपने आहार के जरिये भी जिंक प्राप्त कर सकते हैं। अखरोट, बीज (जैसे दालें, सेम आदि), सीप और चिकन में भरपूर जिंक होता है (स्त्रोत)।

इस के कई आयुर्वेदिक सप्लीमेंट बाजार में उपलब्ध हैं, जिनमें पतंजलि की दवाएं भी शामिल हैं।

2. मेथी शुक्राणुओं की संख्या में सुधार के लिए एक लोकप्रिय आयुर्वेदिक दवा है

इस आम औषधीय जड़ी बूटी से बनी दवाएं, प्रभावी रूप से आपमें कामेच्छा, पौरुष शक्ति, सेक्स प्रदर्शन, शुक्राणु स्वास्थ्य और स्पर्म गाढ़ा करने को बढ़ावा दे सकती हैं। इसे खाने से स्पर्म भी ज्यादा बनता है।

2011 में हुए एक शोध के अनुसार, जिन पुरुषों ने 6 सप्ताह तक रोजाना 600 मिलीग्राम मेथी की दवा ली, उनमें यौन गतिविधियों में वृद्धि देखी गई और साथ ही स्तंभन दोष में भी सुधार हुआ।

  • अपने आहार में मेथी की दवाएं शामिल करने के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।
  • मेथी काफी आसानी से मिल जाती है, क्योंकि इसका उपयोग खाना पकाने और हर्बल चाय बनाने में किया जाता है। हालांकि, सादा मेथी के प्रभावों का अध्ययन नहीं किया गया है। इसलिए यह संभावना कम है कि इस जड़ी बूटी को खाने या पीने से दवा की तरह ही प्रभाव हो।

3. कोएंजाइम Q10 एंटीऑक्सीडेंट की दवा वीर्य की गुणवत्ता में सुधार कर सकती है।

कोएंजाइम Q10 (Coenzyme Q10), जिसे CoQ10 के नाम से भी जाना जाता है, एक यौगिक होता है जो आपकी कोशिकाओं में ऊर्जा उत्पन्न करने में मदद करता है।

आपका शरीर स्वाभाविक रूप से CoQ10 का उत्पादन करता है, लेकिन इसका उत्पादन उम्र बढ़ने के साथ कम होता जाता है।

सौभाग्य से, आप दवाओं या खाद्य पदार्थों के माध्यम से भी CoQ10 प्राप्त कर सकते हैं।

2013 में स्पेन में हुए एक शोध के अनुसार, कोएंजाइम Q10 लेने से वीर्य की गुणवत्ता और स्पर्म की मात्रा में काफी वृद्धि होती है।

तो अपना वीर्य गाढ़ा करने के लिए, इस प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट की खुराक लेने के बारे में विचार करें।

4. अश्वगंधा वीर्य की कमी का इलाज करता है

अश्वगंधा का उपयोग पुराने समय से ही एक औषधीय जड़ी बूटी के रूप में किया जाता आ रहा है, खासतौर तनाव कम करने के लिए।

शोधों ने यह भी सुझाव दिया है कि, जब अश्वगंधा को 90 दिनों के लिए कैप्सूल के रूप में लिया जाता है, तो यह पुरुष प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है, टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ा सकता है और वीर्य की मात्रा में सुधार कर सकता है।

पतंजलि का दिव्य अश्वगंधा चूर्ण धातु को बढ़ाने में काफी फायदेमंद होता है।

5. डी-एसपारटिक एसिड (D-AA) के कैप्सूल लें

D-AA एक प्रकार का एमिनो एसिड होता है, और शोधों से पता चलता है कि D-AA का स्तर बांझ पुरुषों की तुलना में उपजाऊ पुरुषों में काफी अधिक होता है।

शोध के परिणाम में यह भी निष्कर्ष निकाला गया कि 3 महीने तक D-AA की खुराक लेने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ सकता है।

D-AA के कैप्सूल किसी भी मेडिकल स्टोर या ऑनलाइन स्टोर पर आसानी से उपलब्ध होते हैं।

  • अपने आहार में डी-एसपारटिक एसिड सप्लीमेंट शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।
  • डी-एसपारटिक को एल-एसपारटिक एसिड न समझें, जो कई प्रोटीनों में पाया जाने वाला एक अधिक सामान्य एमिनो एसिड है।
 
 
 
 

6. अपने आहार में अधिक एमिनो एसिड शामिल करें।

एमिनो एसिड, जो मीट, फलों और सब्जियों में पाए जा सकते हैं, वीर्य का गाढ़ापन बढ़ाने और शुक्राणुओं को एक दूसरे से चिपकने से बचाने में फायदेमंद माने जाते हैं। यह शुक्राणुओं की गतिशीलता भी बढ़ा सकते हैं।

एमिनो एसिड जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं, वह निम्न हैं:

  • एल-कार्निटाइन (L-Carnitine), जो लाल मांस और दूध में पाया जा सकता है (स्त्रोत)।
  • एल-आर्जिनिन (L-Arginine), जो मछली, मुर्गी, लाल मांस और साबुत अनाज में पाया जा सकता है (स्त्रोत)।
  • यदि आप अपने आहार में स्वाभाविक रूप से पर्याप्त एमिनो एसिड प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, तो आप एल-कार्निटाइन और एल-आर्जिनिन दोनों के कैप्सूल ले सकते हैं।

7. अपनी दैनिक कैल्शियम और विटामिन डी की मात्रा को बढ़ाएँ

आपमें इन पोषक तत्वों की कमी है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए डॉक्टर से जाँच करवाएं।

इनकी कमी वीर्य और शुक्राणु के उत्पादन में बाधा खड़ी कर सकती है।

आप इन दोनों के ही कैप्सूल ले सकते हैं, या धूप में महत्वपूर्ण समय बिताकर शरीर को अतिरिक्त विटामिन डी संश्लेषित करने में मदद कर सकते हैं, और दही, मलाई निकाला हुआ दूध व सैल्मन मछली के सेवन से कैल्शियम का स्तर बढ़ा सकते हैं।

यदि आप धूप में अधिक समय बिताते हैं, तो हानिकारक किरणों और संभावित मेलेनोमा से होने वाले नुकसान को रोकने के लिए सनस्क्रीन क्रीम लगाएं।

  • आपको कैल्शियम और विटामिन डी के कैप्सूल लेने की जरूरत है या नहीं, इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। इनका डोज एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न-भिन्न हो सकता है।

8. हर दिन कुछ फलों और सब्जियों का सेवन करें

कच्चे फलों और सब्जियों में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो आपके वीर्य उत्पादन में काफी मदद कर सकते हैं।

प्रति दिन कोई न कोई कच्चे फल और सब्जी खाने की योजना बनायें। आप अपने भोजन के साथ सलाद के रूप में भी इन्हें खा सकते हैं। या इनकी मात्रा और ज्यादा बढ़ाने के लिए सुबह फलों और सब्जियों का नाश्ता कर सकते हैं।

  • शेक या स्मूदी आपके दिन भर के आहार में ढेर सारे फलों और सब्जियों को जोड़ने का एक शानदार तरीका है। साग, जामुन, एक केला, और कुछ बादाम दूध का मिश्रण आजमाकर देखें। ब्लेंड करें और आनंद लें।
  • सलाद भी यह सुनिश्चित करने का एक आसान तरीका है कि आपको पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट मिल रहे हैं या नहीं। केला, सेब, और ब्रोकली के मिश्रण को लेमन विनिगेट के साथ मिलाकर देखें। यह स्वादिष्ट होता है और आपके लिए अच्छा होगा।

9. तले भुने और अत्यधिक वसा वाले खाद्य पदार्थों से बचें

तले भुने और अत्यधिक वसा वाले खाद्य पदार्थ आमतौर पर सोडियम और कोलेस्ट्रॉल में उच्च होते हैं। 2017 में ईरान में हुए एक शोध के अनुसार, तले भुने भोजन में मौजूद संतृप्त वसा वीर्य की मात्रा को कम करता है। जबकि स्वस्थ वसा वाले खाद्य पदार्थ इसे बढ़ाने और गाढ़ा करने में मदद कर सकते हैं।

  • मांस, बेकन और सॉसेज जैसी वस्तुओं से परहेज करें। इसके बजाय चिकन ब्रेस्ट या पोर्क कटलेट खाएं।
  • एवोकाडो, नट बटर और जैतून के तेल जैसे स्वस्थ वसा वाले खाद्य पदार्थों का ज्यादा सेवन करें।

अन्य टिप्स

ढीले-ढाले अंडरवियर पहनें

सुनिश्चित करें कि आपके अंडकोष आपके शरीर से ज्यादा न दबें।

वीर्य और शुक्राणुओं के उत्पादन के लिए, हमारे शरीर से कम तापमान की आवश्यकता होती है। यही कारण है कि हमारे अंडकोष शरीर से बाहर की तरफ होते हैं, ताकि यह ठंडे बने रहें।

शरीर से दबने के कारण आपके अंडकोष लंबे समय तक काफी गर्म बने रह सकते हैं, जिससे शुक्राणु उत्पादन में बाधा उत्पन्न हो सकती है।

तंग-फिटिंग अंडरवियर के साथ ऐसा हो सकता है, इसलिए ढीले अंडरवियर पहनें और अपने अंडकोष को कुछ सांस लेने की जगह दें। सुनिश्चित करें कि वे अच्छे और ढीले हों।

सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें

यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) पुरुषों में बांझपन और वीर्य की कमी का कारण बन सकते हैं, इसलिए यदि आप यौन रूप से सक्रिय हैं, खासतौर से एक से अधिक महिलाओं के साथ, तो सावधानी बरतें।

एसटीआई फैलने के जोखिम को कम करने के लिए कंडोम पहनें। आप जिन महिलाओं के साथ संबंध रखते हैं, उनमें एसटीआई हैं या नहीं इसकी जानकारी रखना भी अच्छा है।

 
 
 
 

गर्म पानी से न नहाएं

हालाँकि गर्म पानी से नहाने से व्यक्ति को रिलैक्स फील होता है, लेकिन वीर्य के उत्पादन के लिए यह गर्मी नुकसानदायक हो सकती है।

अपने तनाव के स्तर को कम करें

वीर्य उत्पादन में सहायता के लिए आवश्यक हार्मोन में तनाव हस्तक्षेप कर सकता है।

अपने वीर्य को गाढ़ा बनाने की कोशिश के बारे में तनाव होना पूरी तरह से सामान्य है, लेकिन यह आपकी मुश्किल को और ज्यादा बड़ा सकता है, इसलिए थोड़ा शांत होने के तरीके खोजने की कोशिश करें।

  • तनाव कम करने के लिए आप जो सबसे अच्छी चीजें कर सकते हैं, उनमें से एक है पर्याप्त नींद लेना। हर रात 7-9 घंटे सोने का लक्ष्य रखें।
  • योग, ध्यान, या टहलने जैसी गतिविधियों को अपनाकर देखें।
  • दोस्तों के साथ समय बिताएं, टहलने जाएं या कोई मजेदार शो देखें। हंसी आपके तनाव को कम करने के लिए अच्छी है।

स्वस्थ वजन बनाए रखें

बहुत अधिक मोटा या पतला होना हार्मोनल संतुलन को प्रभावित कर सकता है।

आपके शरीर में बहुत अधिक एस्ट्रोजन या बहुत कम टेस्टोस्टेरोन का स्तर, आपके वीर्य के उत्पादन और गाढ़ेपन पर नकारात्मक प्रभाव डालेगा।

स्वस्थ वजन को बनाये रखने के लिए, नियमित व्यायाम करें और स्वस्थ आहार व प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

धूम्रपान छोड़ें और शराब पीना कम करें

जीवनशैली की कुछ आदतें, जो आपके शरीर और प्रतिरक्षा प्रणाली पर दबाव डालती हैं, आपके वीर्य उत्पादन पर भी प्रभाव डाल सकती हैं।

खासतौर से धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन।

  • रोज 2 पैक से ज्यादा शराब का सेवन न करें।
  • अगर आपको धूम्रपान छोड़ने में मदद की जरूरत है, तो अपने डॉक्टर से कुछ विकल्पों के बारे में पूछें जो आपके लिए काम कर सकते हैं। धूम्रपान के निकासी लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए आजकल बाजार में निकोटिन टेबलेट्स उपलब्ध हैं।

सेक्स के दौरान लुब्रीकेंट के इस्तेमाल से बचें

भले ही यह आनंद बढ़ा सकते हैं, लेकिन लुब्रीकेंट वीर्य में कमी आने का कारण भी बन सकते हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि 2013 के एक शोध के अनुसार लुब्रीकेंट जैसे लार, लोशन, आदि शुक्राणु की गति में हस्तक्षेप कर सकते हैं। इसलिए बच्चा पैदा करने की कोशिश करते समय इनका उपयोग करने से बचना सबसे ज्यादा जरूरी है।

  • यदि आपको चिकनाई की आवश्यकता है, तो वनस्पति तेल, मूंगफली का तेल, या प्रीसीड जैसे चिकनाई देने वाले पदार्थों का उपयोग करने का प्रयास करें, जो आपके शुक्राणु को नुकसान नहीं पहुँचाते।

जहरीले रसायनों और रेडिएशन के संपर्क में आने से बचें

जहरीले रसायन और रेडिएशन वीर्य उत्पादन को स्थायी नुकसान पहुंचा सकते हैं। यदि आप नियमित रूप से जहरीले रसायनों के साथ काम करते हैं, तो सुरक्षात्मक आवरण (दस्ताने, मास्क, आदि) पहनना सुनिश्चित करें ताकि रसायन आपकी स्किन के सम्पर्क में न आये।

उन क्षेत्रों में जाने से बचें जहाँ बहुत अधिक रेडिएशन उत्पन्न होता है। किसी भी मेडिकल इलाज में रेडिएशन थेरेपी तभी करवाएं, जब इसे करवाना बहुत ज्यादा जरूरी हो।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.