वीर्य को जल्दी गिरने से रोकने के उपाय

सेक्स में टाइमिंग ही सबकुछ होती है। यदि सेक्स के दौरान आपका वीर्य जल्दी गिर जाता है तो निश्चित रूप से आप खुद को और अपने पार्टनर को पूर्ण संतुष्ट नहीं कर पाते होंगें।

इस समस्या से ग्रसित ज्यादातर पुरुष उत्तेजित होने के एक मिनट के अंदर ही स्खलित हो जाते हैं। इसलिए यह समस्या काफी निराशाजनक और शर्मिंदगी प्रदान करने वाली होती है और आपके सेक्स संबंधों पर भी बुरा असर डाल सकती है।

लगभग 30-40 % पुरुषों को अपने जीवन में कभी न कभी जल्दी वीर्य पतन की समस्या का सामना करना पड़ता है।

ध्यान देने वाले तथ्य

सम्भोग के दौरान वीर्य जल्दी गिरने की समस्या से सम्बंधित कुछ प्रमुख बिंदु

  • ज्यादातर मामलों में जल्दी वीर्य स्खलन की समस्या मनोवैज्ञानिक होती है और किसी मेडिकल स्थिति के कारण यह होने की  सम्भावना काफी कम होती है। लेकिन कोई भी मनोवैज्ञानिक उपचार करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से इसकी पूरी जाँच कराना जरूरी है, क्योंकि यदि किसी हेल्थ प्रॉब्लम के कारण यह समस्या होती है तो इसके आपकी सेक्स लाइफ पर इसके लम्बे समय तक दुष्प्रभाव रह सकते हैं।
  • वीर्य को जल्दी गिरने से रोकने के कई विकल्प मौजूद हैं, जिनमें वीर्य को ज्यादा देर तक रोके रखने की प्रैक्टिस और डॉक्टर से जरूरी सलाह लेना सबसे मुख्य हैं। कुछ खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन करके और अपनी जीवनशैली में बदलाव लाकर भी वीर्य को गाड़ा बनाया जा सकता है और इसे समय से पहले गिरने से रोका जा सकता है। इसकी पूरी जानकारी हमने इस लेख में नीचे दी है।

वीर्य जल्दी गिरने के कारण

मनोवैज्ञानिक कारण

वीर्य जल्दी गिरने के ज्यादातर मामले मनोवैज्ञानिक कारणों की वजह से होते हैं। इनमें सबसे मुख्य कारण हैं –

  • सेक्स का अनुभव कम होना या न होना।
  • खुद में आत्मविश्वास की कमी।
  • सेक्स से पहले अत्यधिक उत्साहित और उत्तेजित होना।
  • रिश्ता नया होना।
  • अपने पार्टनर को संतुष्ट न कर पाने की चिंता।
  • अपने पार्टनर के प्रति आत्मीयता और घनिष्ठता में कमी होना।
  • डिप्रेशन और तनाव।

यह मनोवैज्ञानिक कारण उन पुरुषों को भी प्रभावित कर सकते हैं, जिनका वीर्य पतन पहले सामान्य होता था।

यह समस्या कुछ निम्न साइकोलॉजिकल सेक्स अनुभवों के कारण भी हो सकती है –

  • पुरुष ने बचपन से ही अपने पालनकर्ताओं के द्वारा सख्त यौन शिक्षण पाया हो।
  • सेक्स का दर्दनाक अनुभव होना।
  • जल्दी स्खलित होने की प्रैक्टिस होना, उदारहण के तौर पर किशोर अवस्था के दौरान ज्यादातर लड़के हस्तमैथुन के दौरान जल्दी स्खलित होने की कोशिश करते हैं, ताकि उन्हें कोई हस्तमैथुन करते पकड़ न ले। ऐसा बार-बार करने से उनके लिंग को जल्दी स्खलित होने की आदत हो जाती है।

मेडिकल कारण

कुछ दुर्लभ मामलों में वीर्य के जल्दी गिरने की समस्या मेडिकल कारणों की वजह से भी हो सकती है। इनमें से कुछ मुख्य मेडिकल कारण निम्न हैं –

  • मधुमेह (डायबिटीज)
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस – यह तंत्रिकाओं के कनेक्शन को प्रभावित करने वाली एक क्रोनिक बीमारी होती है जिसमें हमारे दिमाग को शरीर के अन्य अंगों के साथ ठीक से संपर्क स्थापित करने में मुश्किल होती है।
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • थाइरोइड की समस्याएं
  • बिना जानकारी के मेडिकल दवाओं का उपयोग
  • अत्यधिक शराब का सेवन

कई बार यह समस्या इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारण भी हो सकती है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन में लिंग पूरा खड़ा नहीं हो पाता और वीर्य समय से पहले ही गिर जाता है। इसलिए इरेक्टाइल डिसफंक्शन का उपचार करके भी इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

loading...

वीर्य को जल्दी गिरने से रोकने के प्राकृतिक उपचार

95 प्रतिशत मामलों में यह समस्या मनोवैज्ञानिक होती है और कुछ व्यवहारिक तकनीकों को अपनाकर ठीक हो सकती है।

रोको और शुरू करो तकनीक

जैसा कि हमने ऊपर बताया था, किशोर अवस्था में अत्यधिक हस्तमैथुन करने से और उसमें जल्दी स्खलित होने की प्रैक्टिस करने से आगे चलकर सेक्स के दौरान भी लिंग जल्दी स्खलित होने लगता है। इसलिए इस समस्या को ठीक करने का सबसे अच्छा तरीका होता है उत्तेजना के दौरान वीर्य को लम्बे समय तक रोके रखने का अभ्यास करना।

अभ्यास करने का तरीका – सबसे पहले अपना लिंग खड़ा कर लें और हस्तमैथुन करना शुरू कर दें। इसके लिए आप अपने पार्टनर की भी मदद ले सकते हैं। जब आप स्खलित होने वाले हों तो रुक जाएँ और 30 सेकंड के लिए वीर्य को अंदर रोके रखने की कोशिश करें। शुरुआत में आपको ऐसा करने में थोड़ी परेशानी हो सकती है और आप असफल भी हो सकते हैं, क्योंकि स्खलन की चरम सीमा को रोकना अत्यधिक मुश्किल होता है। लेकिन बार-बार प्रैक्टिस करने से आपको जरूर फायदा मिलेगा। आप इस तकनीक को सेक्स के दौरान भी प्रैक्टिस कर सकते हैं।

रुको और दबाब डालो तकनीक

इस तकनीक में भी ऊपर की तकनीक की तरह ही स्खलन के समय वीर्य को अंदर रोके रखने की कोशिश करनी होती है। लेकिन इसमें आपको स्खलन के समय अपने लिंग के सिरे को उँगलियों से पकड़कर दबाब डालना होता है।

अभ्यास करने का तरीका – हस्तमैथुन या सेक्स करने के दौरान जब आप स्खलित होने वाले हों तो अपने लिंग के सिरे को पकड़ लें और वीर्य को रोके रखने की कोशिश करें।

इन तकनीकों की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें – सेक्स टाइम बढ़ाने वाली तकनीक

पेल्विक मांशपेशियों की एक्सरसाइज

पेल्विक मांशपेशियों की एक्सरसाइज

पेल्विक मांसपेशियां मूत्राशय के नीचे मौजूद होती हैं और मूत्रमार्ग और गुदा मार्ग से जुड़ी हुई होती हैं। इनका मुख्य काम पेशाब और शौच लगने के समय उन्हें अंदर रोके रखना होता है। सेक्स के दौरान यह मांसपेशियां वीर्य को भी प्रोस्टेट ग्लैंड में रोके रखने में मदद करती हैं। इसलिए इन्हें मजबूत बनाकर भी वीर्य के स्खलित होने के समय को लम्बा खींचा जा सकता है।

2014 में थेराप्यूटिक एडवांसेज इन यूरोलॉजी में हुए एक शोध में यह पाया गया कि पेल्विक फ्लोर मसल्स की एक्सरसाइज के जरिये पुरुष अपने वीर्य स्खलन के रिफ्लेक्स को कंट्रोल कर सकते हैं और उसे लम्बे समय तक रोके रख सकते हैं।

एक्सरसाइज करने का तरीका

  • सर्व प्रथम आपको यह जानना जरूरी है कि आपकी पेल्विक मसल्स होती कहाँ है। जब भी आपको पेशाब लगती है तो जिस मांसपेशी के जरिये आप इसे अंदर रोके रखते हैं उसका अनुभव करें। यही आपकी पेल्विक मसल है।
  • अब जमीन पर चटाई बिछाकर सीधे लेट जाएँ। फिर अपनी पेल्विक मांसपेशी को 3 सेकंड के लिए सिकोड़ें या कॉन्ट्रैक्ट करें और फिर 3 सेकंड के लिए ढीला छोड़ दें। इस प्रक्रिया को कम से कम 10 बार लगातार करें। इस एक्सरसाइज को रोजाना दिन में 3 बार करें।
  • दिन प्रतिदिन जैसे-जैसे आपकी मांसपेशी मजबूत होने लगे वैसे-वैसे इसे सिकोड़ने की समय सीमा को बढ़ाते जाएँ। साथ ही, इस एक्सरसाइज को रोज नई-नई पोजीशन जैसे खड़े होकर, चलते समय, बैठे हुए या शौच करते हुए प्रैक्टिस करें।
  • एक्सरसाइज के बीच-बीच में लम्बी और गहरी साँस लेते रहें।

जिंक सप्लीमेंट

जिंक सिर्फ रोग प्रतिरोधक शक्ति और सेल ग्रोथ के लिए ही जरूरी नहीं होता बल्कि टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को ठीक करके कामोत्तेजना और ऊर्जा बढ़ाने में भी मदद करता है। शोधकर्ताओं ने एक शोध के जरिये यह पता लगाया है कि पुरुषों में सेक्स क्षमता की कमी और शीघ्रपतन की समस्या का सबसे मुख्य कारण शरीर में जिंक की कमी होता है। इसलिए रोज 11 मिलीग्राम जिंक की मात्रा लेने से जल्दी वीर्य पतन की समस्या से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

2009 में चूहों पर हुए शोध में यह पाया गया कि जिंक के सप्लीमेंट्स टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकते हैं, जिससे सेक्स सम्बन्धी समस्याएं जैसे जल्दी वीर्य स्खलन आदि में लाभ मिलता है।

ध्यान रखें – जिंक के सप्लीमेंट्स का सेवन सिर्फ अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही करें। इसका अत्यधिक सेवन करने से उल्टी, दस्त, जी मचलना, गुर्दे और पेट की क्षति और स्वाद में मेटल की अधिकता की समस्या हो सकती है।

आयुर्वेदिक हर्बल दवा

आयुर्वेद भारत की एक लोकप्रिय पारंपरिक उपचार प्रणाली है। आयुर्वेद में उपचार के लिए हजारों जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है और यह लगभग हर बीमारी में लाभकरी होते हैं। कुछ आयुर्वेदिक दवाएं जैसे कौंच के बीज, कामिनी विद्रावण रस और यौवनामृत वटी वीर्य पतन को लम्बे समय तक रोके रखने में काफी लाभकारी होते हैं। यह दवाएं कैप्सूल या टेबलेट के रूप में बाजार में उपलब्ध होती हैं। इनको रोज सुबह-शाम एक-एक कैप्सूल गर्म पानी के साथ सेवन करें। आयुर्वेदिक दवाओं को इरेक्टाइल डिसफंक्शन दूर करने में भी काफी लाभकारी माना जाता है

2017 में सेक्सुअल मेडिसिन में हुए एक शोध में जल्दी वीर्य स्खलन से पीड़ित पुरुषों को नियमित आयुर्वेदिक दवाओं के सप्लीमेंट्स दिए गए और इसके फलस्वरूप उनके सेक्स समय में धीरे-धीरे परन्तुं काफी महत्वपूर्ण वृद्धि पाई गई।

चीनी हर्बल मेडिसिन

आयुर्वेदिक की तरह ही कुछ चीनी हर्बल मेडिसिन्स खासतौर से Yimusake टेबलेट्स और Qilin पिल्स भी शरीर की ऊर्जा, सेक्स पावर और स्टैमिना को बढ़ाकर शीघ्रपतन को रोकने में मदद करती हैं। ऊपर की स्टडी में चीनी हर्बल मेडिसिन्स के ऊपर भी शोध किया गया और इनको वीर्यपात के समय को लगभग दो मिनट तक बढ़ाने में लाभकारी पाया गया।

मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें

जिंक के साथ-साथ मैग्नीशियम भी जल्दी वीर्य स्खलन की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। एक शोध के अनुसार वीर्य के उत्पादन के लिए मैग्नीशियम काफी जरूरी पदार्थ होता है। इसलिए यह वीर्य को गाड़ा करने में और इसकी क्वालिटी बढ़ाने में काफी मदद करता है।

अपने भोजन में मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें। सबसे मुख्य मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ निम्न हैं –

डार्क चॉकलेट

यह जितनी स्वादिष्ट होती है, उतनी ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद भी होती है। इसमें अत्यधिक मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है। 30 ग्राम डार्क चॉकलेट में लगभग 70 मिलीग्राम मैग्नीशियम पाया जाता है। यह आपकी रोज की मैग्नीशियम की जरूरत की 16 प्रतिशत मात्रा होती है। साथ ही, इसमें फायदेमंद एंटीऑक्सिडेंट्स भी होते हैं जो शरीर के सेल्स को डैमेज करने वाले फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालते हैं। डार्क चॉकलेट खासतौर से हृदय के लिए बहुत फायदेमंद होती है, क्योंकि यह रक्त वाहिकाओं की अंदर की लाइनिंग को प्रोटेक्ट करती है और उनमें किसी भी प्रकार की रुकावट जमने से रोकती है।

एवोकाडो

यह पौष्टिक आहार भी मैग्नीशियम का अच्छा स्त्रोत होता है। एक मध्यम आकार के एवोकाडो में लगभग 55 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है, जो आपकी रोज की जरूरत का 15 प्रतिशत है। साथ ही, एवोकाडो इन्फ्लामेशन से लड़ता है, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है और आपके पेट को लम्बे समय तक भरा हुआ रखता है।

बादाम और पिस्ता

नूट्रिशनिस्ट के अनुसार 50 ग्राम पिस्ता बादाम में लगभग 140 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है, जो आपकी रोज की जरूरत का 35 प्रतिशत हिस्सा है। साथ ही, इनमें फाइबर और मोनोसैचुरेटेड फैट्स भी भरपूर होते हैं जो ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करने के साथ-साथ वीर्य को गाड़ा करने में भी मदद करते हैं।

फलियां

विभिन्न प्रकार के फलियों वाले पौधे खासतौर से मसूर, सेम, चने, मटर और सोयाबीन मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं। उदहारण के लिए एक कप काली सेम की सब्जी में 120 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है जो आपकी रोज की जरूरत का लगभग 30 प्रतिशत है। साथ ही, शाकाहारियों में फलियां ही प्रोटीन का सबसे बड़ा स्त्रोत होती हैं।

सोया पनीर

इसे सोयाबीन के दूध को जमाकर बनाया जाता है। इसकी 100 ग्राम मात्रा में 53 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है। साथ ही, यह शरीर को प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, मैंगनीज और सेलेनियम भी प्रदान करता है। कुछ शोधों के जरिये यह बात भी सामने आई है कि सोया पनीर रक्त वाहिकाओं की लाइनिंग को प्रोटेक्ट करता है और पेट के कैंसर से बचाता है।

loading...

कद्दू के बीज

सभी प्रकार के बीज वीर्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इनमें से कद्दू के बीज सबसे ज्यादा फायदेमंद होते हैं क्योंकि इनमें अत्यधिक मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है। इसलिए यदि आप सम्भोग के समय जल्दी वीर्य गिरने की समस्या से परेशान हैं तो कद्दू के बीजों का नियमित सेवन करें।

साबुत अनाज

विभिन्न प्रकार के साबुत अनाज जैसे जौ, गेहूँ, जई आदि भी पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, खासतौर से मैग्नीशियम से। इनके साथ-साथ इनमें विटामिन बी, सेलेनियम, मैंगनीज और फाइबर भी पाया जाता है। हाल ही में हुए कुछ शोधों में यह बात सामने आई है कि साबुत अनाज हृदय को स्वस्थ रखने में भी काफी लाभकारी होते हैं।

फैटी फिश

कुछ फैटी फिश जैसे सैल्मन, मैकेरल (mackerel) और हैलबट मछली में अत्यधिक मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है। साथ ही, इसमें पोटैशियम, सेलेनियम, विटामिन बी और अन्य जरूरी पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

केला

केला अपनी अत्यधिक पोटैशियम की मात्रा के कारण काफी प्रचलित है, जो ब्लड प्रेशर को कम करता है और दिल की बीमारी होने की सम्भावना को कम करता है। लेकीन आपको शायद ही यह पता हो कि केला में मैग्नीशियम भी पाया जाता है। एक बड़े केला में लगभग 37 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है, जो आपकी रोज की मैग्नीशियम जरूरत का लगभग 9 प्रतिशत हिस्सा होता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां

हरी पत्तेदार सब्जियां स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभकारी होती हैं, और कई मैग्नीशियम से भी भरपूर होती हैं। सेक्स के समय वीर्य को जल्दी झड़ने से रोकने के लिए और इसे गाड़ा बनाने के लिए निम्न हरी सब्जियां ज्यादा फायदेमंद होती हैं – गोभी, पालक, हरा कोलार्ड, हरी शलजम और सरसों का साग। उदाहरण के लिए एक कप पालक की सब्जी में 157 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है, जो आपकी रोज की जरूरत का 39 प्रतिशत है। इसके अलावा हरी सब्जियां कुछ जरूरी पोषक तत्व जैसे विटामिन ए, बी, सी, के, आयरन और मैंगनीज का भी अच्छा स्त्रोत होती हैं।

सेक्स के लिए फायदेमंद सभी खाद्य पदार्थों की जानकारी के लिए पढ़ें – सेक्स पावर बढ़ाने वाले फूड्स

टोपिकल अनेस्थेटिक क्रीम

टोपिकल अनेस्थेटिक क्रीम्स में स्किन को हल्का सुन्न करने वाला पदार्थ (नम्बिंग एजेंट) होता है जो सेक्स के दौरान लिंग में संवेदनशीलता को कम करता है और वीर्य को लम्बे समय तक रोके रखने में मदद करता है। अच्छे रिजल्ट पाने के लिए आपको इस क्रीम को अपने लिंग पर सेक्स करने से 10 से 15 मिनट पहले लगाना है।

2017 में सेक्सुअल मेडिसिन में हुए एक शोध ने इस बात को साबित किया है कि टोपिकल क्रीम्स वीर्य स्खलन के समय को कुछ मिनट आगे बढ़ाने में मदद करती हैं। हालाँकि अनेस्थेटिक क्रीम्स के इस्तेमाल से आपको अपने लिंग में हल्की जलन, हल्का दर्द, कामोत्तेजना में कमी और अस्थाई रूप से संवेदनशीलता में कमी आ सकती है।

लिडोकेन स्प्रे

ट्रॉपिकल क्रीम्स की तरह ही लिडोकेन स्प्रे भी लिंग की सेंसिटिविटी को कम करके वीर्य को जल्दी गिरने से रोकता है। अच्छे रिजल्ट पाने के लिए इस स्प्रै को सेक्स के 10 से 15 पहले इस्तेमाल करें।

नोट – इन ट्रॉपिकल दवाओं या स्प्रे का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से उचित सलाह जरूर लें। क्योंकि इनके कई साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं।

सवेदनशीलता को कम करने के अन्य तरीकों को जानने के लिए पढ़ें – सेक्स टाइम बढ़ाने वाले प्रोडक्ट्स और दवाएं

चरम सीमा को कंट्रोल करने वाले कंडोम

कुछ कंडोम भी आपके लिंग की सेंसिटिविटी को कम करके वीर्य को जल्दी स्खलित होने से रोक सकते हैं। यह कंडोम मुख्य रूप से थोड़े मोटे होते हैं और इनमें स्किन को हल्का सुन्न करने वाले पदार्थ भी मौजूद होते हैं। किसी भी मेडिकल स्टोर पर यह कंडोम आसानी से उपलब्ध होते हैं।

उदारहण के लिए डुरेक्स कंपनी के एक्सटेंडेड प्लीजर कंडोम में बेंजोकाइन (benzocaine) नामक केमिकल कंपाउंड होता है जो लिंग की सेंसिटिविटी को कम करके शीघ्रपतन को ठीक करने में मदद करता है।

सेक्स के एक घंटे पहले हस्तमैथुन करें

सेक्स से एक या दो घंटे पहले हस्तमैथुन करने से भी संभोग के दौरान वीर्य स्खलन को लम्बा खींचा जा सकता है। ऐसा करने से लिंग की जल्दी चरमसीमा प्राप्त करने की जरूरत कम हो जाती है।

इसके आलावा आप हस्तमैथुन के दौरान स्खलन को लम्बे समय तक रोके रखने की प्रैक्टिस भी कर सकते हैं।

संभोग से पहले फोरप्ले करें

शोधकर्ताओं के अनुसार एक स्वस्थ व्यक्ति का संभोग 4 से 13 मिनट के बीच का होता है। इसलिए पूर्ण संतुष्टि प्राप्त करने के लिए संभोग से पहले फोरप्ले जैसे किसिंग, ओरल सेक्स, ओर्गास्म (orgasm) आदि काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.