वीर्य में खून आने के कारण, पहचान और उपचार

वीर्य में खून आने की स्थति को मेडिकल भाषा में हेमाटोस्पर्मिया (hematospermia) कहा जाता है। यह व्यक्ति के लिए एक चौंका देने वाली या चिंतादायक स्थिति हो सकती है।

वीर्य में खून आना एक असामान्य स्थिति है, और यह शायद ही कभी एक गंभीर समस्या का संकेत देती है, विशेष रूप से 40 वर्ष से कम आयु के पुरुषों में।

मुझे किन संकेतों पर ध्यान देना चाहिए?

आपके वीर्य में खून की मात्रा एक छोटी बूंद से लेकर वीर्य को पूरा लाल कर देने तक हो सकती है। आपके वीर्य में कितना खून आएगा, यह आपके रक्तस्राव के कारण पर निर्भर करेगा।

इसके अलावा आप निम्न संकेतों का भी अनुभव कर सकते हैं:

वीर्य में खून आने के संभावित कारण

वीर्य लिंग में आने से पहले कई ट्यूबों की एक श्रृंखला से होकर गुजरता है। इस मार्ग में मौजूद कोई भी रक्त वाहिका फटकर वीर्य में खून मिलने का कारण बन सकती है।

कई मामलों में, वीर्य में खून मिलने का सही कारण निर्धारित करना लगभग नामुमकिन होता है।

हालाँकि वीर्य में खून आने के अधिकांश मामले गंभीर नहीं होते हैं, खासकर यदि आपकी उम्र 40 वर्ष से कम है।

नीचे खूनी वीर्य के कुछ संभावित कारण दिए गए हैं, जिनकी आपका डॉक्टर जाँच कर सकता है:

इन्फ्लेमेशन या सूजन

वीर्य वाहिकाओं, जिन्हें सेमिनल वेसिकल्स कहा जाता है, उनमें सूजन आना या इन्फ्लेमेशन होना खूनी वीर्य का एक आम कारण है।

आपके जननांगों में मौजूद किसी भी ग्रंथि, वाहिनी, ट्यूब या अंग में सूजन आने से आपके वीर्य में खून आ सकता है। जैसे:

  • प्रोस्टेटाइटिस (प्रोस्टेट ग्रंथि की सूजन), जिससे दर्द, पेशाब की समस्या और यौन रोग हो सकते हैं।
  • एपिडीडिमाइटिस (अंडकोष के पिछले हिस्से में मौजूद एपिडीडिमिस नामक घुमावदार ट्यूब में सूजन होना, जहां शुक्राणु जमा होते हैं), यह आमतौर पर एक बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होता है, जिसमें यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) जैसे जननांग दाद, गोनोरिया या क्लैमाइडिया शामिल हैं। इसके लक्षणों में अंडकोष में सूजन, लालिमा या दर्द होना और जननांगों में एक तरफ सेंसिटिविटी बढ़ना, असामान्य रिसाव निकलना व पेशाब करते समय दर्द होना शामिल है।
  • मूत्रमार्गशोथ (मूत्रमार्ग की सूजन), जिसमें पेशाब करते समय दर्द पैदा हो सकता है, लिंग के आधार में खुजली या जलन हो सकती है, या लिंग से सामान्य रिसाव निकल सकता है।

प्रोस्टेट, वीर्य पुटिकाओं, मूत्राशय, या मूत्रमार्ग में पथरी होने से भी जलन के कारण सूजन हो सकती है।

संक्रमण

सूजन की तरह ही पुरुष जननांगों में शामिल किसी भी ग्रंथि, वाहिनी, ट्यूब या अंग में संक्रमण होने से वीर्य में खून आ सकता है।

यौन संचारित संक्रमण जैसे क्लैमाइडिया, गोनोरिया या जननांग दाद भी वीर्य में खून आने का कारण बन सकते हैं। जननांगों में होने वाला कोई भी वायरल, बैक्टीरियल या फंगल संक्रमण इस समस्या का कारण बन सकता है।

बाधा

यदि स्खलन वाहिनी जैसी नलिकाएं अवरुद्ध हो जाती हैं, तो आसपास की रक्त वाहिकाएं फैलकर टूट सकती हैं। इसी प्रकार यदि आपकी प्रोस्टेट ग्लैंड सामान्य से बड़ी है, तो यह आपके मूत्रमार्ग पर दबाव डाल सकती है, जिससे खूनी वीर्य हो सकता है।

ट्यूमर

प्रोस्टेट, अंडकोष, एपिडीडिमिस, या वीर्य पुटिकाओं में छोटा या घातक ट्यूमर आपके वीर्य में खून आने का कारण बन सकता है।

संवहनी असामान्यताएं

पुरुष जननांग वाहिनियों में होने वाली कोई भी असामान्यता, जैसे कि संवहनी अल्सर, आपके वीर्य में देखे गए खून की व्याख्या कर सकती है।

अन्य कारक

आपके पूरे शरीर को प्रभावित करने वाली स्थितियां भी आपके वीर्य में खून आने का कारण बन सकती हैं। इनमें हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) और हीमोफिलिया (विकार जो रक्तस्राव को आसान और अत्यधिक बना देता है) शामिल हैं। अन्य संभावनाओं में ल्यूकेमिया (ब्लड कैंसर) और दीर्घकालिक जिगर की बीमारी भी शामिल है।

आघात/चिकित्सा प्रक्रियाएं

शारीरिक आघात, जैसे खेल खेलते समय आपके अंडकोष में चोट लगना, आपके वीर्य में खून का कारण बन सकता है। आघात रक्त वाहिकाओं के फटने और रिसने का कारण बन सकता है, और यह रक्त आपके वीर्य में मिल सकता है।

एक चिकित्सा प्रक्रिया जैसे प्रोस्टेट की जाँच या बायोप्सी या पुरुष नसबंदी भी आपके वीर्य में रक्त का कारण बन सकती है।

 
 
 
 

डॉक्टर से कब मिलें

सामान्य तौर पर, यदि आपके परिवार में कैंसर या यौन संचारित रोग होने का कोई पारिवारिक इतिहास है, तो अपने वीर्य में खून आने पर आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

यदि आपकी उम्र 40 वर्ष से ज्यादा है

40 वर्ष और उससे अधिक उम्र के पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर जैसी बीमारियों के विकसित होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए इस उम्र के व्यक्तियों को जब भी अपने वीर्य में खून दिखे तो उनको अपने डॉक्टर को बताना चाहिए। डॉक्टर जल्द से जल्द रक्त आने के कारण की जांच करेगा।

यदि आपकी उम्र 40 से कम है

यदि आपकी उम्र 40 वर्ष से कम है और आपमें खूनी वीर्य के अलावा कोई अन्य लक्षण नहीं है, तो कुछ दिन प्रतीक्षा करें और देखें कि समस्या अपने आप ठीक हो जाती है या नहीं।

यदि कुछ दिनों बाद भी आपका वीर्य लगातार खूनी बना रहता है या यदि आप दर्द या बुखार जैसे अतिरिक्त लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर खून के स्रोत को निर्धारित करने के लिए प्रोस्टेट टेस्ट या आपके वीर्य और मूत्र का विश्लेषण कर सकता है।

समस्या की पहचान

जब आप अपने डॉक्टर के पास जाते हैं, तो वह सबसे पहले वीर्य में खून आने के कारण का पता लगाएगा। इसके लिए वह निम्न जाँचें कर सकता है:

  • शारीरिक जाँच: डॉक्टर आपमें अन्य लक्षणों का पता लगाने के लिए शारीरिक जाँच कर सकता है, जिसमें अंडकोषों में सूजन, लालिमा या संक्रमणों के अन्य दिखाई देने योग्य लक्षणों की जाँच करना शामिल है।
  • यौन संचारित संक्रमण टेस्ट: कई यौन संचारित संक्रमण भी खूनी वीर्य का कारण बन सकते हैं, इसलिए आपका डॉक्टर इनकी भी जाँच कर सकता है, जिसमें ब्लड टेस्ट भी शामिल है।
  • मूत्र-विश्लेषण: यह आपके मूत्र में बैक्टीरियल संक्रमण या अन्य असामान्यताओं का पता लगाने में मदद कर सकता है।
  • पीएसए टेस्ट: इसमें प्रोस्टेट-निर्मित एंटीजन का परिक्षण किया जाता है, जिससे प्रोस्टेट के स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने में मदद मिलती है।
  • स्क्रीनिंग टेस्ट, जैसे अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन और एमआरआई, जो वीर्य वाहिकाओं में रुकावटों का पता लगाने में मदद कर सकते हैं।
  • ट्रांसरेक्टल अल्ट्रासाउंड, जो प्रोस्टेट के आसपास ट्यूमर और अन्य असामान्यताओं को देखने के लिए ट्रांसड्यूसर पेन का उपयोग करता है।

40 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों को आगे के मूल्यांकन के लिए मूत्र रोग विशेषज्ञ (यूरोलोगिस्ट) के पास जाने की सलाह दी जा सकती है। 40 वर्ष से कम उम्र के लोगों में यदि उपचार के बावजूद लक्षण जारी रहते हैं, तो उनको भी मूत्र रोग विशेषज्ञ से मिलने की आवश्यकता हो सकती है।

खूनी वीर्य का उपचार

आपके वीर्य में रक्त के कारण के आधार पर, आप घर पर इसका इलाज करने में सक्षम हो सकते हैं। यदि किसी अंतर्निहित कारण के लिए चिकित्सा उपचार की आवश्यकता है, तो डॉक्टर आपके लिए सही उपचार का निर्धारण करने में मदद कर सकता है।

घर पर उपचार

यदि किसी आघात के परिणामस्वरूप आपके वीर्य में खून आ रहा है, तो बस आराम करने और अपने शरीर को ठीक होने का समय देने से आपको मदद मिल सकती है। अगर आपकी कमर में भी सूजन है, तो आप उस जगह पर एक बार में 10 से 20 मिनट के लिए बर्फ लगा सकते हैं, लेकिन इससे ज्यादा समय के लिए न लगाएं।

वीर्य में खून आने के अधिकांश मामले अपने आप ठीक हो जाते हैं। हालाँकि अपने लक्षणों पर नजर रखें और वे खराब हो जाते हैं या एक महीने से अधिक समय तक बने रहते हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

मेडिकल उपचार

यदि आपके खूनी वीर्य का कारण संक्रमण है, तो आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक्स लिखेगा। यदि इसका कारण सिर्फ सूजन है तो एंटी-इंफ्लामेटरी दवाएं मददगार हो सकती हैं।

यदि आपके जननांग पथ में रुकावट के कारण खूनी वीर्य होता है, तो आपको सर्जरी करवानी पढ़ सकती है। उदाहरण के लिए सर्जरी के जरिये मूत्राशय की पथरी या ट्यूमर को हटाना, जो मूत्रपथ में बाधा डाल रहे हैं।

यदि कैंसर आपके वीर्य में खून पैदा कर रहा है, तो आपका डॉक्टर शायद आपको एक कैंसर विशेषज्ञ (ऑन्कोलॉजिस्ट) के पास जाने की सलाह देगा।

निष्कर्ष

हालाँकि अपने वीर्य में खून देखना किसी भी व्यक्ति को चौंका सकता है और चिंता का कारण बन सकता है, लेकिन अधिकतर मामलों में यह किसी गंभीर स्थिति का लक्षण नहीं होता है।

यदि आप लगातार या बार-बार खूनी वीर्य का अनुभव करते हैं, तो एक अच्छे मूत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाएँ। यह विशेष चिकित्सक आपके वीर्य में रक्त के किसी भी गंभीर अंतर्निहित कारणों का इलाज करने में मदद कर सकता है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.