क्या वर्कआउट से पहले हस्तमैथुन करने से आपके परफॉरमेंस पर असर पड़ता है?

कुछ एथलीटों और बॉडी बिल्डरों का मानना है कि हस्तमैथुन का उनके एथलेटिक परफॉरमेंस पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जबकि अन्य का मानना है कि इससे उन्हें बढ़त मिलती है।

आखिर में, किसी भी तरह के निष्कर्ष को साबित करने वाला कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। क्योंकि कोई ठोस निष्कर्ष निकालने के लिए उपलब्ध शोध बहुत सीमित है।

लेकिन यौन गतिविधि, हार्मोन के स्तर और मूड के बीच संबंध होता है यह साबित हो चुका है। आपका मूड अन्य गतिविधियों – जैसे जिम में वजन उठाना – को कैसे प्रभावित करता है, यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है।

एथलेटिक परफॉरमेंस में हस्तमैथुन और हार्मोन क्या भूमिका निभा सकते हैं और शोधकर्ताओं ने अब तक क्या पाया है, इसके बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहें।

लोगों को क्यों लगता है कि एक्सरसाइज से पहले सेक्स या मास्टरबेशन करना हानिकारक होता है?

यह सर्वविदित तथ्य है कि टेस्टोस्टेरोन आपकी मांसपेशियों में प्रोटीन के संश्लेषण में मदद करके उनके निर्माण में मदद करता है। टेस्टोस्टेरोन ग्रोथ हार्मोन के स्तर को भी बढ़ाता है, जो आपके शरीर द्वारा एक्सरसाइज की प्रतिक्रिया के रूप में भी जारी किया जाता है। यानी बॉडी बिल्डिंग में ग्रोथ हॉर्मोन भी महत्वपूर्ण होता है।

सेक्स और हस्तमैथुन के दौरान टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है और फिर स्खलन के बाद फिर से गिर जाता है, इसलिए आश्चर्य की बात नहीं है कि लोगों को यह लगता है कि एक्सरसाइज से पहले हस्तमैथुन करना उनकी कसरत के परिणाम को प्रभावित कर सकता है।

लेकिन एक्सरसाइज की बात तो छोड़ दें, टेस्टोस्टेरोन का यह उतार-चढ़ाव किसी भी गतिविधि पर ध्यान देने योग्य प्रभाव के लिए पर्याप्त नहीं है। स्खलन होने के कुछ ही मिनटों के भीतर आपके टेस्टोस्टेरोन का स्तर सामान्य हो जाता है।

तो क्या हस्तमैथुन से परहेज करने से भी मेरी कसरत में कोई सुधार नहीं होगा?

नहीं। यह साबित करने के लिए कोई चिकित्सीय सबूत नहीं है कि हस्तमैथुन से दूर रहने से आपकी एक्सरसाइज में सुधार होगा।

हालांकि शोध से यह जरूर पता चलता है कि कई दिनों तक हस्तमैथुन (या स्खलन) से परहेज करने से आपके टेस्टोस्टेरोन के सामान्य स्तर में हल्की वृद्धि होती है, लेकिन इस वृद्धि को एक्सरसाइज में लाभ या हानि से जोड़ने वाला कोई नैदानिक ​​प्रमाण नहीं है।

पढ़ें -  मर्दाना ताकत बढ़ाने वाले 7 आयुर्वेदिक कैप्सूल

हस्तमैथुन से परहेज करने से और नियमित वर्कआउट करने से आपको कुछ हद तक फायदा मिलने की संभावना है, लेकिन कुल मिलाकर, अपनी मांसपेशियों के आकार में उल्लेखनीय वृद्धि देखने की उम्मीद न रखें।

क्या इसकी कोई संभावना है कि हस्तमैथुन मेरी कसरत में सुधार करे?

शायद! अमेरिका के सेक्स टॉय मार्केटर एडम एंड ईव के द्वारा किये गए एक शोध में तीन सप्ताह तक 21 पुरुष और महिला एथलीटों की यौन गतिविधि पर नज़र रखी गई। इसमें पार्टनर के साथ सेक्स या खुद से हस्तमैथुन शामिल था। शोध में पाया गया कि ऑर्गाज्म के दौरान निकलने वाले हार्मोन के कई ऐसे फायदे होते हैं जो एथलेटिक प्रदर्शन पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।

ऑर्गाज्म और स्खलन के दौरान निकलने वाले हार्मोन और उनके प्रभावों की जानकारी निम्न है:

  • डोपामाइन: यह एक न्यूरोट्रांसमीटर हॉर्मोन है जो भावनाओं, खुशी और दर्द को प्रभावित करने वाले हॉर्मोनों की रिहाई को नियंत्रित करता है। यह आपकी निर्णय लेने की प्रक्रिया और प्रेरणा में भी मदद करता है।
  • नोरेपाइनफ्राइन: यह रसायन उत्तेजना और सतर्कता को बढ़ाता है। यह हड्डियों की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को भी बढ़ाता है और ऊर्जा भंडार से शुगर की रिहाई को ट्रिगर करता है।
  • ऑक्सीटोसिन: यह हार्मोन आशावाद, विश्वास और आत्म-सम्मान की भावनाओं को प्रेरित करता है और आपको दूसरों के साथ बंधने में मदद करता है। यह शरीर में इन्फ्लेमेशन को भी कम करता है।
  • प्रोलैक्टिन: आपके शरीर को यौन संतुष्टि प्रदान करने के साथ-साथ, यह रसायन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी नियंत्रित करता है और आपके मेटाबोलिज्म में मदद करता है।
  • सेरोटोनिन: इसे “फील गुड” रसायन भी कहा जाता है, क्योंकि यह आपके मूड को बेहतर बनाता है। यह कुछ प्रकार की कोशिकाओं की वृद्धि में भी मदद करता है।
  • वैसोप्रेसिन: यह हार्मोन आपके शरीर में पानी को संतुलित करता है और स्मृति व स्पष्टता में सुधार करता है।

ये सभी हॉर्मोन संयुक्त रूप से आपको बेहतर महसूस कराने और अच्छे से एक्सरसाइज करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

शोध में यह भी देखा गया कि इन रसायनों के संयोजन ने 24 घंटे तक एक विशिष्ट दर्द पैदा करने वाले ट्रांसमीटर की रिहाई को रोका। इसलिए यह किसी भी मांसपेशी में दर्द या जलन को कम कर सकते हैं।

पढ़ें -  हस्तमैथुन छोड़ने के 8 बेस्ट तरीके

निष्कर्ष

ऊपर बताये गए तथ्यों से यही पता चलता है कि – एक्सरसाइज से पहले हस्तमैथुन करने से आपको फायदा होगा या नहीं, यह आपकी धारणा पर निर्भर करता है। क्योंकि एक्सरसाइज में अच्छे परिणाम पाने के लिए आपको प्रेरणा की आवश्यकता होती है, इसलिए यदि यह प्रेरणा आपको हस्तमैथुन करने से मिले या फिर परहेज करने से मिले, दोनों में ही फायदा है।

ऊपर बताये गए शोध के परिणाम में भी यह देखा गया कि जिन एथलीटों का मानना था कि यौन गतिविधि का उनके प्रदर्शन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, उनमें बेहतर परिणाम दिखने की संभावना अधिक थी, और इसके विपरीत जिनको इससे नकारात्मक प्रभाव का संदेह था उनमें नकारात्मक परिणाम की संभावना अधिक थी।

इसलिए यदि आपको लगता है कि वर्कआउट से पहले हस्तमैथुन करने से आपके परफॉरमेंस पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, तो संभावना है कि ऐसा हो। दूसरी तरफ, अगर आपको लगता है कि हस्तमैथुन किसी तरह से आपकी कसरत में बाधा डालता है, तो शायद इसके नकारात्मक प्रभाव होने की संभावना है।

इसलिए वह करें जो आपके लिए सबसे अच्छा है और आपको प्रेरणा देने में मदद करता है। एक्सरसाइज में अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए प्रेरणा की सबसे अधिक आवश्यकता होती है।

Scroll to Top