सुबह लिंग खड़ा क्यों होता है और इसके फायदे क्या हैं?

सुबह लिंग खड़ा होने की स्थिति को मेडिकल भाषा में नॉक्टरल पेनाइल ट्यूमसेंस (एनपीटी) और आम अंग्रेजी भाषा में मॉर्निंग वुड कहा जाता है। यह कई पुरुषों में होने वाली एक सामान्य घटना है।

समय-समय पर, आप सुबह जागने पर अपने लिंग को खड़ा पा सकते हैं। यह युवा पुरुषों में होना सबसे आम है, हालांकि सभी उम्र के पुरुषों को एनपीटी का अनुभव हो सकता है।

बहुत से लोगों को लगता है कि सुबह का इरेक्शन उनमें यौन उत्तेजना का संकेत है। हालांकि, हमेशा ऐसा नहीं होता है। सुबह का खड़ापन आपके शरीर की कई प्राकृतिक घटनाओं में से एक की प्रतिक्रिया का परिणाम हो सकता है।

मॉर्निंग वुड का क्या कारण है?

सुबह लिंग खड़ा होने का कारण कई कारकों पर निर्भर होने की सम्भावना है।

डॉक्टरों द्वारा सुझाये गए कुछ सिद्धांत हैं जो यह समझाने में मदद करते हैं कि लोग समय-समय पर एक खड़े लिंग के साथ क्यों जागते हैं, लेकिन इनमें से कोई भी सिद्धांत ठोस, चिकित्सीय शोधों द्वारा समर्थित नहीं है।

इनमें से कुछ सिद्धांत निम्न हैं:

शारीरिक उत्तेजना

भले ही सोते समय आपकी ऑंखें बंद हों, फिर भी आपके आस-पास क्या हो रहा है, इसके बारे में आपका शरीर जानता है।

यदि आप या आपकी पार्टनर गलती से आपके जननांगों को छू लेते हैं, तो आपका लिंग खड़ा हो सकता है।

आपका शरीर सोते हुए भी उत्तेजना को महसूस करता है और प्रतिक्रिया के रूप में लिंग को खड़ा कर देता है।

हार्मोन बदलाव

सुबह के दौरान आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर अपने उच्चतम स्तर पर होता है। यह रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) स्लीप स्टेज से जागने के तुरंत बाद सबसे ज्यादा होता है।

आरईएम स्लीप स्तनधारियों और पक्षियों में होने वाली नींद का एक अनूठा चरण होता है, जिसमें आंखें विभिन्न दिशाओं में तेजी से चलती हैं। इस चरण में व्यक्ति काफी ज्यादा सपने देखता है।

अकेले हार्मोन में वृद्धि होने पर भी लिंग खड़ा हो सकता है।

जैसे-जैसे पुरुष बूढ़ा होता जाता है, आमतौर पर 40 से 50 की उम्र के बाद, तो उसके प्राकृतिक टेस्टोस्टेरोन का स्तर गिरने लगता है। जैसे-जैसे यह स्तर घटता है, एनपीटी के एपिसोड भी कम हो सकते हैं।

दिमाग का आराम करना

जागते समय, हमारा शरीर लिंग को अवांछित खड़ा होने से रोकने के लिए हार्मोन जारी करता है। लेकिन जब आप सो रहे होते हैं, तो आपका शरीर इन हार्मोनों को कम छोड़ता है।

इसे अन्य कारकों से मिलाकर देखा जाये, तो सोते समय आपके लिंग के खड़े होने की सम्भावना अधिक होती है।

हालाँकि यह स्पष्ट नहीं है कि मॉर्निंग वुड का वास्तविक कारक क्या होता है, लेकिन यह जरूर स्पष्ट है कि क्या इसका कारण नहीं बनता।

उदाहरण के लिए, पेशाब लगना सुबह लिंग खड़ा करने के लिए जिम्मेदार नहीं है। कुछ लोगों का मानना है कि सुबह का इरेक्शन उन्हें नींद के दौरान पेशाब करने से रोकता है, लेकिन यह सच नहीं है।

साथ ही, सुबह का लिंग खड़ा होना हमेशा यौन उत्तेजना का संकेत नहीं होता है। कई मामलों में, यह आपके सपने या यौन विचारों के कारण नहीं होता।

यह किसको होता है?

सभी उम्र के पुरुष मॉर्निंग वुड का अनुभव कर सकते हैं। यह किसी भी उम्र में होना स्वस्थ है और लिंग के अंदर व आसपास की रक्त वाहिकाओं और तंत्रिका तंत्र के ठीक से काम करने का संकेत होता है।

लड़कों को बचपन में ही मॉर्निंग वुड का अनुभव हो सकता है। पुरुषों में 60 और 70 की उम्र के दौरान भी मॉर्निंग वुड हो सकता है।

आपका लिंग हर रात तीन से पाँच बार खड़ा हो सकता है। सोते समय आप सपनों में क्या देखते हैं, इसका एनपीटी प्रक्रिया से कोई संबंध नहीं होता।

एनपीटी एक बार में लिंग को 30 मिनट से अधिक समय तक खड़ा बनाये रख सकता है। कुछ पुरुषों का लिंग नींद के दौरान 2 घंटे तक खड़ा बना रह सकता है।

ज्यादातर मामलों में जागने के कुछ ही मिनटों में लिंग बैठ जायेगा।

 
 
 
 

अगर आपका लिंग सुबह खड़ा होना बंद हो जाए तो इसका क्या मतलब है?

सुबह अपने लिंग को खड़ा पाना, इसमें स्वस्थ रक्त प्रभाव और तंत्रिका आपूर्ति का सूचक होता है। इससे यह भी संकेत मिलता है कि आप इरेक्शन प्राप्त करने और बनाए रखने में शारीरिक रूप से सक्षम हैं।

यदि आप अचानक एनपीटी का अनुभव करना बंद कर देते हैं या नोटिस करते हैं कि आप अब एक खड़े लिंग के साथ नहीं जाग रहे हैं, तो यह आपमें एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या का प्रारंभिक संकेत हो सकता है।

आमतौर पर यह शारीरिक स्तम्भन दोष का संकेत होता है। आपके शरीर में कुछ ऐसा हो सकता है जो लिंग के उचित कामकाज के लिए जरूरी पर्याप्त रक्त या तंत्रिका आपूर्ति को रोक रहा हो।

आपको स्तम्भन दोष अनुभव करने की संभावना अधिक है यदि आपको:

  • मोटापा है
  • हाई ब्लड प्रेशर है
  • हाई कोलेस्ट्रॉल है
  • डायबिटीज है
  • डिप्रेशन और तनाव है

कुछ विकलांग लोगों को भी स्तम्भन दोष का अनुभव होने की अधिक संभावना हो सकती है।

कुछ मेडिकल दवाएं, खासतौर से दर्द निवारक और कुछ अवसादरोधी दवाएं भी मॉर्निंग वुड अनुभव करने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। दर्द निवारक और कुछ अवसादरोधी दवाएं एनपीटी को रोक सकती हैं।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपमें मॉर्निंग वुड होना कम होता जाता है। लेकिन यदि आप युवा हैं और आपको सुबह का इरेक्शन नहीं हो रहा है या यदि आपका इरेक्शन अचानक बंद हो गया है, तो डॉक्टर से संपर्क करें।

डॉक्टर से कब मिलें?

निम्न दो स्थितियों में आपको डॉक्टर से संपर्क करने के बारे में सोचना चाहिए:

1. आपको मॉर्निंग वुड होना अचानक बंद हो जाता है

यदि आप अक्सर मॉर्निंग वुड का अनुभव करते हैं लेकिन अब इसका अनुभव नहीं कर रहे हैं या लिंग ढीला रहता है, तो आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

हालांकि उम्र के साथ मॉर्निंग वुड के एपिसोड कम होते जाना स्वाभाविक है, लेकिन इसकी आवृत्ति में अचानक गिरावट एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या का संकेत हो सकता है।

2. आपको दर्दनाक इरेक्शन का अनुभव होता है

अधिकांश मामलों में सुबह उठने के 30 मिनट के भीतर लिंग बैठ जायेगा। यदि आपका लिंग जागने के एक घंटे से अधिक समय तक खड़ा रहता है या यदि वह दर्दनाक हो जाता है, तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

जब मॉर्निंग वुड की बात आती है तो कितना “बहुत अधिक” और “बहुत कम” होता है, यह बता पाना कठिन है। कुछ लोगों को हर दिन मॉर्निंग वुड का अनुभव होता है। कुछ इसे सप्ताह में एक बार से भी कम अनुभव करते हैं।

अपने वार्षिक शारीरिक परिक्षण के दौरान, अपने डॉक्टर से बात करें कि आप कितनी बार सुबह के इरेक्शन का अनुभव कर रहे हैं। यदि आप इसे पर्याप्त रूप से अनुभव नहीं कर रहे हैं, तो आपका डॉक्टर किसी अंतर्निहित कारक का निदान करने में मदद कर सकता है।

निष्कर्ष

सुबह लिंग खड़ा होना बहुत आम है। यह लिंग में स्वस्थ रक्त संचार और तंत्रिका आपूर्ति का संकेत होता है।

अधिकांश युवा पुरुषों को हफ्ते में कई बार सुबह लिंग के खड़े होने का अनुभव होगा। जैसे-जैसे पुरुष बड़े होते हैं, वे इसे कम बार अनुभव करने लगते हैं।

यदि आप अचानक मॉर्निंग वुड का अनुभव करना बंद कर देते हैं, तो यह एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या का प्रारंभिक संकेत हो सकता है।

ध्यान दें कि आप कितनी बार मॉर्निंग वुड का अनुभव करते हैं। अगर यह अचानक रुक जाता है, तो डॉक्टर से बात करें।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.