लिंग को अनचाहे और अचानक खड़ा होने से रोकने के 5 तरीके

इरेक्शन या लिंग का खड़ा होना एक सामान्य और स्वस्थ शारीरिक क्रिया होती है। हालांकि कभी-कभी लिंग अनायास ही या ऐसे समय में खड़ा हो सकता है, जब नहीं होना चाहिए।

लिंग को अवांछित खड़ा होने से रोकने और उससे बचने का तरीका जानने के लिए आगे पढ़ें, साथ ही शरीर के इस सामान्य कार्य के बारे में हम और विस्तार से जानेंगे।

लिंग को खड़ा होने से रोकने के 5 तरीके

खड़े लिंग से छुटकारा पाने का सबसे सीधा और बेस्ट तरीका होता है वीर्य स्खलन करना, लेकिन स्खलन प्राप्त करना हमेशा संभव नहीं होता, खासतौर से यदि आप किसी सामाजिक जगह पर हों तब।

ऐसी परिस्थिति में निम्नलिखित कुछ चीजें हैं जो आप अपने लिंग को खड़ा होने से रोकने में मदद के लिए कर सकते हैं। ये टिप्स आपको लिंग को खड़ा होने से पहले ही उसे रोकने में मदद कर सकती हैं।

1. अपना ध्यान भटकायें

अनचाहे इरेक्शन से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहला कार्य जो आपको करना चाहिए वो है अपने ध्यान को कहीं और केंद्रित करना।

इरेक्शन के बारे में न सोचें और उत्तेजक विचारों के बारे में सोचने से बचें।

इसके बजाय, किसी ऐसी चीज़ के बारे में सोचें जो आपको विचलित करे, जैसे कोई चुनौतीपूर्ण शब्द या गणित की समस्या।

अपने दिमाग को व्यस्त रखने से आपको अवांछित इरेक्शन को शुरू होने से रोकने में भी मदद मिल सकती है।

2. अपनी स्थिति बदलें

अपनी स्थिति बदलने से दो लाभ हो सकते हैं।

पहला, कुछ मामलों में, आपके कपड़े, या आपके चलने या बैठने का तरीका आपके लिंग को उत्तेजित कर सकता है और इरेक्शन का कारण बन सकता है। स्थिति को बदलने से उस उत्तेजना को दूर करने और इरेक्शन को रोकने में मदद मिल सकती है।

दूसरा, अपनी स्थिति को बदलने से आपको अपना इरेक्शन छिपाने में भी मदद मिल सकती है। यदि आपके पेंट में जेब है, तो अपनी जेब में हाथ डालें और धीरे से अपने लिंग की स्थिति बदलें। यह आपको अपने खड़े लिंग को दूसरों की नजर से बचाने में मदद कर सकता है।

3. मेडिटेशन

मेडिटेशन के जरिये अपने दिमाग को केंद्रित करने का अभ्यास करना, इसे अश्लील विचारों से बचाने में काफी मददगार होता है। इसमें भी आपका लक्ष्य होगा अपने इरेक्शन या उत्तेजित करने वाली किसी भी चीज़ के बारे में सोचने से बचना।

मेडिटेशन आपको कामोत्तेजक परिस्थितियों में लिंग खड़ा होने से रोकने का एक उपयोगी तरीका हो सकता है, जैसे कि मालिश के दौरान या किसी अन्य स्थिति में जो आपको आमतौर पर उत्तेजनापूर्ण लगे।

यदि आप मेडिटेशन में नए हैं, तो सामान्य रूप से सांस लें और अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें। इसे केंद्रित या एकाग्रता मेडिटेशन के रूप में जाना जाता है। ध्यान केंद्रित करने के लिए आप अपने मन में एक ही शब्द बार-बार दोहरा सकते हैं, जैसे “ॐ”।

यदि आप पाते हैं कि आपका मन अपने इरेक्शन के विचारों पर लौट रहा है, तो अपने विचारों को वापस अपनी सांसों या उस शब्द पर स्थानांतरित करें जिसे आप मानसिक रूप से दोहरा रहे हैं।

मेडिटेशन न केवल आपके मन और शरीर को आराम प्रदान करने में मदद करेगी, बल्कि यह आपको अनचाहे इरेक्शन से भी बचाएगी।

मेडिटेशन में महारत हासिल करने के लिए नियमित अभ्यास की आवश्यकता होती है, इसलिए यदि आप चाहते हैं कि यह अनचाहे इरेक्शन से छुटकारा पाने के लिए आपका सबसे अच्छा तरीका हो, तो पूरे दिन नियमित रूप से मेडिटेशन का अभ्यास करने पर विचार करें।

शुरुआत में रोज सुबह और शाम कुछ मिनट के लिए ध्यान लगाने की कोशिश करें। आजकल मोबाइल में कई मेडिटेशन ऐप भी उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग आप ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास करने के लिए कर सकते हैं।

 
 
 
 

4. शांत हो जाएँ और प्रतीक्षा करें

कुछ पुरुषों के लिए, लिंग के अपने आप बैठ जाने की प्रतीक्षा करना सबसे सरल उपाय हो सकता है।

यदि संभव हो, तो बैठ जाएँ, अपनी श्वास को धीमा करें, और घबराएं नहीं।

यदि आपके पास जैकेट या लंबी शर्ट है, तो आप इसका उपयोग करके अपने इरेक्शन को कवर कर सकते हैं ताकि यह अन्य लोगों को दिखाई न दे। आप अपनी गोद में लैपटॉप रखकर भी इसे छिपा सकते हैं।

याद रखें लिंग का अचानक खड़ा होना इस बात का भी संकेत है कि आपके जननांग स्वस्थ हैं और ठीक से काम कर रहे हैं।

5. ठंडा स्नान करें

यदि संभव हो, तो ठंडे पानी से स्नान करने से मदद मिल सकती है।

बेशक, अगर किसी मीटिंग में या डेट पर बाहर जाते समय आपको इरेक्शन होता है, तो तुरंत स्नान करना शायद संभव न हो। लेकिन बाथरूम में जाकर सिर्फ ठंडे पानी से अपने लिंग को धोने से भी मदद मिल सकती है।

बस ध्यान रखें, कुछ पुरुषों के लिए, उनके शरीर के खिलाफ ठंडे पानी की सनसनी भी उत्तेजना बढ़ा सकती है, जिससे परिणाम उल्टा हो सकता है। इसलिए आपको इस विधि का सावधानी से उपयोग करना चाहिए।

डॉक्टर से कब मिलें?

यदि आपका इरेक्शन चार घंटे से अधिक समय तक बना रहता है, तो तुरंत अपने नजदीकी इमरजेंसी केंद्र में जाएँ।

इस स्थिति को प्रियपिज्म (priapism) के रूप में जाना जाता है। प्रियपिज्म में लिंग में रक्त फंस जाता है, और इसके कारण लिंग के ऊतकों को नुकसान पहुँच सकता है। समय पर इलाज न कराने पर व्यक्ति को स्थाई रूप से स्तंभन दोष (नामर्दी) और लिंग खड़ा न होने की समस्या हो सकती है।

खड़े लिंग में दर्द होना भी प्रियपिज्म होने का संकेत हो सकता है।

निष्कर्ष

इरेक्शन पुरुषों में होने वाली एक सामान्य और स्वस्थ प्रक्रिया होती है। यह प्रक्रिया जन्म से पहले गर्भ में ही होना शुरू हो जाती है।

हालाँकि इसपर ध्यान तब जाता है, जब लड़का यौवनावस्था में पहुंच जाता है और उसका लिंग वयस्क की तरह लम्बा-मोटा होने लगता है।

40 से 45 वर्ष की उम्र के बीच, आप अपने इरेक्शन की आवृत्ति में गिरावट को नोटिस करना शुरू कर सकते हैं, या आपको इरेक्शन तक पहुंचना अधिक कठिन हो सकता है।

अगर आपको अपने जननांगों के कार्य में कोई आकस्मिक बदलाव नजर आता है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

यदि आपका लिंग चार घंटों से अधिक समय तक खड़ा रहता है, तब तो तुरंत अस्पताल जाकर इमरजेंसी वार्ड में भर्ती हों, क्योंकि यह प्रियपिज्म का संकेत हो सकता है, जिसका जल्दी इलाज न करवाने पर आपके जननांगों को स्थाई नुकसान पहुँच सकता है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.