स्त्रियों में कामोत्तेजना बढ़ाने वाली 23 प्राकृतिक दवाओं के नाम

स्त्री की कामोत्तेजना एक जटिल प्रक्रिया होती है, जो भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक कारकों के साथ-साथ हार्मोन द्वारा भी नियंत्रित होती है।

अधिकांश स्त्री योनि वर्धक उत्पादों में प्राकृतिक जड़ी-बूटियों, खनिजों और विटामिनों का संयोजन होता है, जिनमें से प्रत्येक उत्पाद महिला यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए एक अनोखे तरीके से कार्य करता है।

इन फॉर्मूलेशन में अक्सर बड़ी संख्या में सक्रिय पदार्थ होते हैं, जिनमें से प्रत्येक का एक अलग उद्देश्य होता है, जैसे योनि में रक्त प्रवाह बढ़ाना या हॉर्मोन में बदलाव करना।

यहाँ पर स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने में मदद करने वाली 23 सबसे कारगर प्राकृतिक दवाओं के नाम दिए जा रहे हैं:

1. विटामिन बी3

विटामिन बी 3, जिसे अक्सर नियासिन के रूप में जाना जाता है, विभिन्न प्रकार की शारीरिक गतिविधियों में सहायता करता है।

यह एंजाइमों को ऊर्जा में बदलने की सुविधा प्रदान करता है, जो कि जोरदार यौन गतिविधियों में शामिल होने के लिए आवश्यक होती है।

इसके अलावा, विटामिन बी3 रक्त प्रवाह में सुधार करता है, जिसके परिणामस्वरूप स्त्री को एक मजबूत ऑर्गाज्म प्राप्त होता है।

2. विटामिन डी

विटामिन डी, जिसे कभी-कभी धूपवर्धक विटामिन के रूप में जाना जाता है, हड्डी, मांसपेशियों और इम्यून सिस्टम के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। पुरुष यौन क्रिया पर इसका महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

विभिन्न शोधों के अनुसार, कम विटामिन डी के स्तर का स्त्रियों में सेक्स करने की इच्छा में कमी से सीधा संबंध होता है। क्योंकि विटामिन डी की कमी के कारण एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में कमी आ सकती है।

साथ ही, विटामिन डी आपके सामान्य मानसिक स्वास्थ्य और डिप्रेशन के जोखिम को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है, जिनके कारण यौन गतिविधियों में रुचि और सेक्स ड्राइव में कमी आ सकती है।

3. विटामिन ई

विटामिन ई एक एंटीऑक्सिडेंट है, जो स्किन के स्वास्थ्य और हार्मोनल संतुलन के लिए आवश्यक होता है।

हालाँकि, आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि इसे “सेक्स विटामिन” भी कहा जाता है, क्योंकि एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन उत्पादन में इसकी बड़ी भागीदारी होती है।

विटामिन ई यौन अंगों में रक्त के प्रवाह और ऑक्सीजन की आपूर्ति में भी सुधार करता है।

इसके अलावा, विटामिन ई अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-एजिंग गुणों के कारण उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को कम करके, स्त्री में यौन जोश और शक्ति को बनाये रखने में मदद करता है।

4. DHEA

DHEA एक हॉर्मोन होता है, जिसे हमारी एड्रेनल ग्लैंड प्राकृतिक रूप से उत्पन्न करती है। यह टेस्टोस्टेरोन जैसे अन्य हार्मोन के संश्लेषण में सहायता करता है।

DHEA का स्तर कम हो जाने पर यौन समस्याएं होने का जोखिम बढ़ जाता है।

DHEA बेहतर एथलेटिक प्रदर्शन देने और हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इसलिए DHEA की दवाओं का सेवन करके आपकी यौन क्रिया में सुधार हो सकता है।

किसी भी हार्मोनल दवा को लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें। इन्हें कभी भी बिना डॉक्टटर की सलाह के नहीं लेना चाहिए।

5. जिंक

यह कई शारीरिक गतिविधियों जैसे पाचन, चयापचय क्रिया और कोशिका विकास के लिए एक आवश्यक खनिज है।

शोधकर्ताओं ने पाया है कि जिंक की दवा स्त्रियों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाकर उनमें कामेच्छा बढ़ा सकती है।

इसलिए, यदि आप टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए एक प्राकृतिक तरीके की तलाश कर रही हैं, तो अपने आहार में जिंक युक्त खाद्य पदार्थों जैसे अनार, एवोकाडो, बेर, अमरूद, खरबूजा, कीवी आदि को शामिल करने का प्रयास करें।

यह पुरुषों और महिलाओं दोनों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाता है, और उच्च टेस्टोस्टेरोन के स्तर वाली स्त्रियों में यौन इच्छा अधिक होती है।

इसके अलावा, यह खनिज स्त्रियों के दो मुख्य सेक्स होर्मोनों एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन, जो उनकी यौन इच्छा और कार्य के स्तर को प्रभावित करते हैं, के संतुलन में सहायता करता है।

 
 
 
 

6. मैग्नीशियम

मैग्नीशियम एक आवश्यक खनिज है जो मानव शरीर में 300 से अधिक एंजाइम प्रक्रियाओं में शामिल होता है।

रोज आवश्यक मात्रा में मैग्नीशियम प्राप्त करने से नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है और इसके परिणामस्वरूप आपको यौन क्रिया में संलग्न होने के लिए पर्याप्त ऊर्जा मिलती है।

इसके अलावा, मैग्नीशियम शरीर की तनाव प्रतिक्रिया को कम करता है और आराम को बढ़ावा देता है, जिससे आपको अच्छे मूड में आना आसान हो जाता है।

शोधों के अनुसार, सेक्स ड्राइव और इच्छा को बढ़ाने में मैग्नीशियम एक महत्वपूर्ण दवा हो सकती है।

मैग्नीशियम सेक्स हार्मोन जैसे टेस्टोस्टेरोन, एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के साथ-साथ न्यूरोट्रांसमीटर जैसे डोपामाइन और एड्रेनालाईन के उत्पादन में भी सहायता करता है, जो सेक्स करने की इच्छा को प्रभावित करते हैं।

7. ओमेगा-3 फैटी एसिड्स

ओमेगा-3 फैटी एसिड कामोत्तेजना में कमी का कारण बनने वाली चिंता और डिप्रेशन को कम करने में मदद करते हैं, जिससे आपकी इच्छा को बढ़ाया जा सकता है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड डोपामाइन के स्तर को बढ़ा सकते हैं, जो मूड में सुधार करता है और उत्तेजना को बढ़ावा दे सकता है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड पूरे शरीर में इन्फ्लेमेशन को कम करते हैं, मूड को बढ़ावा देते हैं और हार्मोन संश्लेषण को उत्तेजित करते हैं।

8. आयरन

आयरन भी स्त्री की यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए एक और महत्वपूर्ण तत्व होता है। रक्त कोशिकाओं को ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए आयरन आवश्यक होता है।

यदि आप में आयरन की कमी है, तो आप थकावट का अनुभव करेंगी, जो आपकी कामेच्छा को प्रभावित कर सकती है। नतीजतन, योनि में चिकनाहट, यौन उत्तेजना और संभोग करने की क्षमता में कमी आएगी।

9. एल-आर्जिनिन (L-arginine)

एल-आर्जिनिन एक एमिनो एसिड है, जो आपके शरीर की मांसपेशियों को बनाने और ऊतकों को बहाल करने में मदद करता है।

इसकी दवा को लेने से रक्तचाप कम करने, कामेच्छा बढ़ाने और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

मौखिम दवा के रूप में लेने से, एल-आर्जिनिन स्त्री की क्लाइटोरिस की रक्त वाहिकाओं का विस्तार कर सकता है, कामोत्तेजक क्षेत्रों में रक्त प्रवाह को बढ़ा सकता है और उनके यौन जीवन को बहाल करने में सहायता कर सकता है।

10. एल-कार्निटाइन (L-carnitine)

यह शरीर के ऊर्जा उत्पादन और लिपिड मेटाबोलिज्म के लिए एक महत्वपूर्ण एमिनो एसिड है। इसका यौन प्रणाली पर भी प्रभाव होता है। साथ ही कई प्रजनन विशेषज्ञों द्वारा भी इसका सफलतापूर्वक उपयोग किया जाता है।

हमारे शरीर को कुछ एल-कार्निटाइन प्रोटीन से प्राप्त होता है, और जब हमें इसकी इसकी अतिरिक्त आवश्यकता होती है तो हमारा शरीर इसे भी बनाता है। हालांकि, शोधकर्ताओं का कहना है कि समय के साथ इसका और अन्य जैव रसायनों का उत्पादन करने की हमारी क्षमता कम हो जाती है।

एल-कार्निटाइन के कैप्सूल के जरिये इसकी पूर्ति की जा सकती है। यह कम कामोत्तेजना वाली स्त्रियों के लिए सबसे अच्छा होता है।

11. अश्वगंधा

यौन इच्छा पर इसके शक्तिशाली प्रभाव के कारण, इसे लंबे समय से प्राकृतिक यौन उत्तेजक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है।

शोध के अनुसार, अश्वगंधा का उपयोग करने वाली स्त्रियों और पुरुषों में कामेच्छा, चिकनाहट और संतोष को बढ़ावा मिलता है।

अश्वगंधा एक सुरक्षित और प्रभावी विटामिन है, जिसका पारंपरिक चिकित्सा और आयुर्वेद में उपयोग का एक लंबा इतिहास है।

हालाँकि, आपके द्वारा ली जा रही अन्य दवाओं के साथ परस्पर क्रिया करने की इसकी प्रवृत्ति को देखते हुए, अश्वगंधा का उपयोग शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करना बेहतर होगा।

12. ‘सोलो’ फूल

‘सोलो’ फूल का असली नाम रोडिओला है और यह लद्दाख में पाया जाता है।

यदि आपमें अधिवृक्क थकावट (adrenal exhaustion) और घबराहट के लक्षण हैं या आप आमतौर पर सुस्त महसूस करती हैं, तो ‘सोलो’ फूल मददगार हो सकता है।

यह चमत्कारी पौधा “सुख प्रदान करने वाले रसायन” सेरोटोनिन और डोपामाइन की कमी को रोकने में हमारी एड्रेनालाईन ग्रंथियों की सहायता करता है, जिससे हम खुश और ऊर्जावान बने रहते हैं।

‘सोलो’ फूल जल्दी काम करता है, इसलिए यदि आप सेक्स करने की योजना बना रही हैं, तो एक या दो घंटे पहले इसे लें।

13. माका रूट

माका पौधे के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। हजारों वर्षों से, लोगों ने प्रजनन क्षमता और यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए इस पौधे की जड़ों का उपयोग किया है।

यह आपके मूड में सुधार कर सकता है और सेक्स में अधिक ऊर्जा दे सकता है।

14. डोंग क्वाई

डोंग क्वाई को फीमेल जिनसेंग भी कहा जाता है। यह पूर्वी एशिया में पाया जाने वाला पौधा है और बाजार में कैप्सूल व पाउडर के रूप में उपलब्ध होता है।

डोंग क्वाई एक सुगंधित जड़ी बूटी है, जो मासिक धर्म के दर्द, रक्त प्रवाह, रजोनिवृत्ति के लक्षणों और हार्मोन संतुलन में मदद कर सकती है।

 
 
 
 

15. गिंको बाइलोबा

इस पौधे में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो इन्फ्लेमेशन को कम करने, रक्त संचार को बढ़ाने और यौन इच्छा को बढ़ाने में मदद करते हैं।

चीन के गिंको पेड़ की पत्तियों से प्राप्त इस जड़ी बूटी को डिप्रेशन की दवाओं के दुष्प्रभाव के कारण होने वाले यौन रोग के इलाज में फायदेमंद माना जाता है।

16. गोखरू

गोखरू एक भूमध्यसागरीय पौधा है, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों में एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ा सकता है।

हजारो सालों से, गोखरू की जड़ और फल का उपयोग भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा और पारंपरिक चीनी चिकित्सा में औषधीय रूप से किया जाता रहा है।

लोगों ने पारंपरिक रूप से इस पौधे का उपयोग कई संभावित लाभों के लिए किया है, जिसमें कामेच्छा बढ़ाना, मूत्र प्रणाली को स्वस्थ रखना और पानी वाली सूजन को कम करना शामिल है।

17. जिनसेंग

इस प्राचीन पौधे में कामोत्तेजक गुण होना माना जाता है। शोधों (शोध 1, शोध 2) ने जिनसेंग और कामेच्छा व मैथुन संबंधी प्रदर्शन के बीच एक लाभकारी संबंध का खुलासा किया है, और इन लाभों को मानवों पर सत्यापित भी किया गया है।

हालाँकि जिनसेंग की सही किस्म और डोज का सेवन करना महत्वपूर्ण है। कोरिआई जिनसेंग को कामोत्तेजना बढ़ाने में सबसे अधिक लाभकारी पाया गया है, और यह बाजार में पाउडर, अर्क और कैप्सूल के रूप में उपलब्ध होता है।

18. दमियाना

दामियाना (टर्नेरा डिफ्यूसा) जननांगों को गर्म करने के लिए एक प्रसिद्ध हर्बल कामोद्दीपक है।

शोधों के अनुसार, यह यौन इच्छा और समग्र आनंद को बढ़ाता है। आश्चर्यजनक रूप से, रजोनिवृत्ति स्त्रियों को इसकी दवा से सबसे अधिक लाभ होता है।

19. ओकोटिलो (ocotillo)

ओकोटिलो अमेरिका में पाया जाने वाला एक झाड़ी वाला पौधा होता है।

जड़ी-बूटी विशेषज्ञ इस झाड़ी की छाल का उपयोग करते हैं। शोध के अनुसार, यह पेल्विक एरिया से लसीका के प्रवाह को बढ़ाता है।

यह विशेष रूप से तब फायदेमंद होता है, जब पेल्विक एरिया में काफी ज्यादा रुकावटें होती हैं, जैसे कि अंडाशय पुटिका, गर्भाशय फाइब्रॉएड, एंडोमेट्रोसिस, और बार-बार होने वाला मूत्रमार्ग संक्रमण।

ओकोटिलो महिला प्रजनन प्रणाली के माध्यम से लसीका और “ऊर्जा” का परिवहन करके कामेच्छा बढ़ाने में मदद कर सकता है।

20. शतावरी

शतावरी स्त्रियों में कामेच्छा बढ़ाने वाली सबसे अच्छी आयुर्वेदिक दवा है, खासतौर से लगातार कम कामेच्छा से ग्रसित स्त्रियों के लिए।

16वीं शताब्दी से, इसका उपयोग महिला यौन स्वास्थ्य में सुधार के लिए किया जाता आ रहा है।

आयुर्वेद में इसका उपयोग महिलाओं की कई यौन संबंधी चिंताओं के लिए किया जाता है, जिसमें कामेच्छा सुधार, तनाव से संबंधित यौन कठिनाइयों में कमी, गर्भधारण सहायता, गर्भपात की रोकथाम और स्तन कैंसर की रोकथाम शामिल हैं।

21. सफेद मूसली

यह एक दुर्लभ पौधा है, जिसका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता रहा है।

यह स्त्रियों की यौन क्रिया को बढ़ाता है और इसके कई अतिरिक्त अनुप्रयोग भी हैं।

यह दुनिया भर में स्वास्थ्य टॉनिक और कामोत्तेजक पदार्थ के रूप में लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है। यह व्यापक रूप से एक सेक्स टॉनिक और महिलाओं के लिए वियाग्रा के विकल्प के रूप में उपयोग किया जाता है।

22. कौंच बीज

इस पौधे के बीज को भी आमतौर पर कामोद्दीपक के रूप में उपयोग किया जाता है।

इस बीज को यौन सहनशक्ति को बढ़ावा देने, सेक्स इच्छा में सुधार करने और सेक्स स्टैमिना बढाने की क्षमता के लिए जाना जाता है।

23. ब्राह्मी

आयुर्वेदिक चिकित्सा में ब्राह्मी का उपयोग मस्तिष्क, मन और शरीर के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है।

ब्राह्मी में मूड-सुधारक गुण होते हैं और यह तनाव कम करने में अच्छी तरह से काम करती है। यह आपके मन और शरीर को तनावपूर्ण स्थितियों के अनुकूल बनाने में मदद करके, एक एडाप्टोजेन की तरह काम करती है।