रुका हुआ पीरियड वापिस लाने के 8 तरीके और दवाएं

एक महिला का पीरियड उसके मासिक चक्र का एक प्राकृतिक हिस्सा होता है। पीरियड्स के दिनों की संख्या एक महिला से दूसरी महिला में व्यापक रूप से भिन्न हो सकती है। ज्यादातर महिलाओं को दो से सात दिनों तक ब्लीडिंग होती है। मासिक धर्म से पहले के लक्षण (PMS) आमतौर पर अवधि शुरू होने से 5 से 11 दिन पहले दिखाई देने लगते हैं।

आमतौर पर पीरियड्स के लक्षणों, प्रवाह और अवधि में कभी-कभार उतार-चढ़ाव आना चिंता का विषय नहीं होता है।

आहार, व्यायाम और तनाव सभी आपके शरीर के हार्मोन संतुलन को नियंत्रित करने वाली ग्रंथियों को प्रभावित कर सकते हैं, जो बदले में आपके मासिक धर्म को प्रभावित करते हैं।

जीवनशैली में बदलाव, दवाओं और अन्य उपचारों के माध्यम से, पीरियड्स की उतार-चढ़ाव वाली अवधि को वापिस सामान्य स्थिति में लाने के लिए आगे पढ़ते रहें:

अपने आहार की जांच करें

बहुत कम भोजन करना या पोषक तत्वों का सही मिश्रण न मिलना आपके हाइपोथैलेमस, पिट्यूटरी और अधिवृक्क ग्रंथियों पर दबाव डाल सकता है।

ये ग्रंथियां आपके शरीर के हार्मोन संतुलन को नियंत्रित करती हैं, जो आपके पीरियड्स को भी प्रभावित कर सकती हैं।

सही पोषण प्राप्त करने के लिए आपको किन चीजों से परहेज करना चाहिए और अपने आहार में क्या शामिल करना चाहिए, इनकी जानकारी निम्न है:

कम कार्बोहायड्रेट वाले भोजन से परहेज करें

पर्याप्त कार्बोहायड्रेट नहीं मिलने से पीरियड में अनियमितता या रूकावट आ सकती है।

कम कार्बोहायड्रेट वाला आहार शरीर में थायराइड के कामकाज को बाधित कर सकता है और लेप्टिन के स्तर को कम कर सकता है। लेप्टिन वसा कोशिकाओं द्वारा निर्मित होता है और प्रजनन हार्मोन को नियमित करने में मदद करता है।

यदि आप रोज 2000 कैलोरी आहार का सेवन करती हैं, तो विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार आपको प्रति दिन 225 से 325 ग्राम कार्बोहायड्रेट प्राप्त करना चाहिए। इसका मतलब है कि आपको अपने कुल दैनिक कैलोरी सेवन का लगभग 45 से 65 प्रतिशत हिस्सा कार्बोहाइड्रेट से प्राप्त करना चाहिए।

उच्च फाइबर आहार को कहें न

फाइबर निम्न हॉर्मोन की सांद्रता को कम सकता है:

  • प्रोजेस्टेरोन
  • एस्ट्रोजन
  • ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन
  • फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन

ये हार्मोन शरीर की प्रजनन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। नतीजतन, बहुत अधिक फाइबर खाने से ओव्यूलेशन प्रभावित हो सकता है, और मासिक धर्म देर से हो सकता है या यह रुक भी सकता है।

लेकिन सभी शोध इस विचार का समर्थन नहीं करते हैं। कुछ शोधों में ओव्यूलेशन और मासिक धर्म पर फाइबर का कोई प्रभाव नहीं पाया गया है।

विशेषज्ञ प्रतिदिन 25 से 30 ग्राम फाइबर लेने की सलाह देते हैं।

पर्याप्त मात्रा में वसा लेना सुनिश्चित करें

पर्याप्त मात्रा में वसा का सेवन करने से हार्मोन के स्तर और ओव्यूलेशन को समर्थन मिल सकता है। पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA) सबसे ज्यादा फायदेमंद होती हैं।

PUFA के सामान्य स्त्रोत निम्न हैं:

  • सैल्मन फिश
  • वनस्पति तेल
  • अखरोट
  • अलसी के बीज

अमेरिका की क्लीवलैंड क्लिनिक की सलाह के अनुसार आपको अपनी दैनिक कैलोरी का 20 से 35 प्रतिशत हिस्सा वसा से लेना चाहिए। इनमें से लगभग 5 से 10 प्रतिशत कैलोरी विशेष रूप से PUFA से आनी चाहिए।

सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त फोलेट मिल रहा है

फोलेट को मासिक धर्म चक्र की दूसरी आधी अवधि में नियमित ओव्यूलेशन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए फायदेमंद माना जाता है। यह प्रजनन क्षमता का समर्थन भी कर सकता है।

विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार इसका रोज का सामान्य डोज 400 माइक्रोग्राम है। आपका डॉक्टर आपके स्वास्थ्य इतिहास के आधार पर 800 माइक्रोग्राम या इससे अधिक का डोज लेने का सुझाव दे सकता है।

अनानास और पपीते का आनंद लें

कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि अनानास और पपीता पीरियड्स को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

  • पपीते में कैरोटीन नामक पोषक तत्व होता है, जो एस्ट्रोजन के स्तर में मदद करता है। यह उष्णकटिबंधीय फल गर्भाशय के सिकुड़ने-खुलने की प्रक्रिया में भी मदद कर सकता है।
  • अनानस में ब्रोमेलैन नामक एंजाइम होता है, जो रक्त प्रवाह और लाल व सफेद रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद कर सकता है।

इन दोनों ही खाद्य पदार्थों को बिना किसी चिंता के अपने आहार में शामिल करना फायदेमंद हो सकता है।

 
 
 
 

आयुर्वेदिक दवाएं

कुछ आयुर्वेद द्वारा सुझाई गई दवाएं आपके हार्मोन के स्तर का समर्थन करके या पोषण संबंधी कमियों को दूर करके ,मासिक धर्म की नियमितता को बढ़ावा दे सकती हैं।

हालाँकि आपको कोई भी दवा लेने से पहले हमेशा एक डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

इनमें से ज्यादातर आयुर्वेदिक दवाएं सप्लीमेंट के रूप में किसी भी मेडिकल स्टोर से या ऑनलाइन बिना किसी डॉक्टर के पर्चे के खरीदी जा सकती हैं।

इनमें से कुछ दवाएं आपके द्वारा पहले से ली जा रही अन्य दवाओं या सप्लीमेंट के साथ प्रतिक्रिया कर सकती हैं। इसके अलावा, यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं, तो कुछ दवाएं लेना सुरक्षित नहीं होगा।

इनोसिटोल (Inositol)

इनोसिटोल एक विटामिन बी जैसा पदार्थ है, जो स्वाभाविक रूप से आपके शरीर में पाया जाता है। यह मांस, खट्टे फल और बीजों सहित विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में भी होता है।

इनोसिटोल आपके शरीर में इंसुलिन हॉर्मोन के उपयोग की प्रक्रिया में शामिल होता है। यह अन्य हॉर्मोन को भी प्रभावित करता है, जिसमें फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन भी है। इसलिए यह आपके अंडाशय के कार्य के लिए महत्वपूर्ण होता है, और अनियमित पीरियड्स में सुधार कर सकता है।

इनोसिटोल के कैप्सूल लेने से, बांझपन का उपचार प्राप्त करने वाली महिलाओं में ओव्यूलेशन और गर्भावस्था दर में भी सुधार हो सकता है।

इनोसिटोल बाजार में आयुर्वेदिक सप्लीमेंट के रूप में उपलब्ध होता है, जिन्हें किसी भी मेडिकल स्टोर से या ऑनलाइन खरीदा जा सकता है।

दालचीनी

दालचीनी आपके शरीर में इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, जिसका अन्य हार्मोन और मासिक धर्म चक्र पर प्रभाव पड़ सकता है।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम वाली महिलाओं में, जिनमें अक्सर उच्च इंसुलिन का स्तर और अनियमित पीरियड्स होते हैं, दालचीनी पीरियड्स को सामान्य बनाने में मदद कर सकती है।

दालचीनी के कैप्सूल उन मासिक धर्म के दर्द को कम करने में भी मददगार हो सकते हैं।

आमतौर पर दालचीनी का रोज का डोज 500 मिलीग्राम के कैप्सूल दिन में तीन बार लेना होता है।

हल्दी

हल्दी की जड़ में करक्यूमिन नामक पदार्थ होता है, जो इन्फ्लेमेशन को कम करने और मूड में सुधार करने सहित कई लाभकारी स्वास्थ्य प्रभावों के लिए फायदेमंद पाया गया गया है।

2015 में हुए एक शोध अनुसार, करक्यूमिन युक्त सप्लीमेंट लेने से लड़कियों में पीरियड्स से पहले होने वाले दर्द और अन्य लक्षणों में राहत मिलती है।

हल्दी के एस्ट्रोजन हार्मोन पर भी समान प्रभाव हो सकते हैं। इसका मतलब है कि यह आपके मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में भी मदद कर सकती है।

करक्यूमिन का विशिष्ट डोज 100 मिलीग्राम से 500 मिलीग्राम प्रतिदिन दो बार लेना होता है।

आप करक्यूमिन के कैप्सूल को ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

इवनिंग प्रिमरोज ऑयल

इवनिंग प्रिमरोज ऑयल उत्तर अमेरिका में पाए जाने वाले एक पीले रंग के फूल से तैयार किया जाता है।

इसमें गामा-लिनोलेनिक एसिड (GLA) नामक ओमेगा-6 फैटी एसिड पाई जाती है, जो महिलाओं में पीरियड्स के इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद करती है।

इवनिंग प्रिमरोज़ तेल का उपयोग महिलाओं की कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के निवारण के लिए किया जाता है, जिसमें गर्म चकत्ते, स्तन दर्द और पीरियड्स का दर्द शामिल हैं।

कुछ पुराने शोधों से पता चलता है कि ईवनिंग प्रिमरोज़ तेल पीरियड्स से पहले होने वाले लक्षणों को कम कर सकता है।

आमतौर पर ईवनिंग प्रिमरोज़ तेल का 3 से 6 ग्राम दैनिक डोज का उपयोग किया जाता है।

ईवनिंग प्रिमरोज़ तेल खरीदें

अरंडी का तेल

अरंडी के तेल को आयुर्वेद में “आर्तवजनक” के नाम में जाना जाता है, जिसका मतलब है कि यह मासिक धर्म के प्रवाह को उत्तेजित कर सकता है।

जानवरों में हुए एक शोध से पता चलता है कि अरंडी का तेल मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है। यह इन्फ्लेमेशन को भी कम कर सकता है, जिससे मासिक धर्म के दर्द और ऐंठन में सुधार हो सकता है।

अरंडी के तेल का सेवन नहीं किया जाता, बल्कि इसे शरीर के बाहर से ही इस्तेमाल किया जाता है। इसे इस्तेमाल करने का तरीका निम्न है:

  • एक साफ कपड़े को अरंडी के तेल में भिगो लें, और फिर अतिरिक्त तेल को निचोड़ लें।
  • अब इस भीगे कपड़े को अपने पेट पर रखें।
  • फिर इसे पॉलीथिन से ढक दें।
  • अब इस पॉलीथिन से ढके कपड़े के ऊपर हीटिंग पैड या गर्म पानी की बोतल रखें।
  • अब 45 से 60 मिनट के लिए एक जगह पर बैठकर या लेटकर आराम करें।
  • इस उपचार को तीन दिन के लिए रोज करें। या जरूरत पड़ने पर ज्यादा दिनों के लिए करें।

चेस्टबेरी (Chasteberry)

चेस्टबेरी महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है, खासकर पीरियड्स के लक्षणों को कम करने के लिए।

चेस्टबेरी प्रोलैक्टिन को कम करने और शरीर में प्रोजेस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकती है। जब ये दो हार्मोन संतुलन में हों तो मासिक चक्र अधिक नियमितता से चलता है।

शोधों से पता चलता है कि यह उदास मनोदशा, स्तन दर्द और द्रव प्रतिधारण सहित पीरियड्स के कई लक्षणों को कम करती है।

यदि आप चेस्टबेरी का उपयोग करने जा रही हैं, तो उत्पाद लेबल को बारीकी से पढ़ें और उत्पाद के डोज का ठीक से पालन करें। इसका सबसे अच्छा डोज इस बात पर निर्भर करता है कि उत्पाद कैसे तैयार किया जाता है।

नागदौन (Mugwort)

नागदौन मनुष्यों द्वारा उगाये गए सबसे शुरुआती पौधों में से एक है।

प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथ इसे पीरियड्स के टॉनिक के रूप में वर्णित करते हैं, और बताते हैं कि यह रुके या देर से शुरू हुए पीरियड्स को ठीक करने में मददगार होता है। महिलाओं द्वारा इसका उपयोग आज भी जारी है।

यदि आपके गर्भवती होने की संभावना है, तो नागदौन का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें।

नागदौन का सेवन अक्सर चाय या पूरक कैप्सूल के रूप में किया जाता है, लेकिन इसके आदर्श डोज को निर्धारित करने के लिए कोई शोध नहीं हुए हैं।

स्वस्थ वजन बनाए रखें

आपके शरीर का वजन आपके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है। कुछ शोधों के अनुसार, यदि आपका वजन अधिक है, तो आपको मासिक धर्म में दर्द होने की संभावना भी अधिक होती है।

2017 के एक शोध में पाया गया कि यदि आप अधिक वजन से ग्रसित हैं, तो आपमें अनियमित पीरियड्स और बांझपन होने की अधिक संभावना हो सकती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि अधिक वजन होने से महिलाओं का एचपीए अक्ष प्रभावित हो सकता है, जो शरीर के हार्मोन को नियंत्रित करता है।

वजन में बदलाव होने से भी अनियमित मासिक धर्म हो सकता है। अपने वजन घटाने या बढ़ाने के दौरान, आपको मासिक धर्म में बदलाव दिखाई दे सकते हैं।

इसलिए नियमित पीरियड्स को बनाए रखने का सबसे अच्छा तरीका होता है – एक स्थिर और स्वस्थ वजन को बनाये रखना।

 
 
 
 

नियमित व्यायाम करें

नियमित व्यायाम करने से दर्दनाक माहवारी और ऐंठन से बचे रहने में मदद मिलती है।

पीरियड्स के बुरे लक्षणों को कम करने के लिए, प्रति दिन लगभग 30 मिनट एरोबिक व्यायाम करने का लक्ष्य रखें, जैसे चलना, दौड़ना, साइकिल चलाना या तैरना।

लेकिन यह भी ध्यान रखें कि तीव्र व्यायाम आपके मासिक धर्म को रोककर या विलंबित करके आपके पीरियड्स को भी प्रभावित कर सकता है। इसलिए हल्के व्यायाम पर ज्यादा ध्यान दें।

सोने की अच्छी आदतें अपनाएं

मासिक धर्म की समस्याएं, विशेष रूप से दर्द व ऐंठन, कई महिलाओं के लिए सोने में परेशानी पैदा कर सकती हैं, जो पीरियड्स के लक्षणों को और खराब कर सकती हैं।

आप अच्छी नींद की आदतों का अभ्यास करके नींद की समस्याओं से निपटने में मदद कर सकती हैं। नींद में सुधार करने में मदद के लिए ये कदम उठाएं:

  • रोज लगभग एक ही समय पर सोएं और जागें।
  • दिन में झपकी लेने की आदत को त्यागें।
  • बिस्तर में टीवी या मोबाइल न देखें और न ही किताब पढ़ें।
  • दोपहर के बाद और रात को सोने से पहले कैफीन (चाय कॉफी आदि) का सेवन करने से बचें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें, लेकिन इसे दोपहर 2 बजे से पहले करने का प्रयास करें।

तनाव को कम करें

वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि हमारे शरीर की एड्रेनल ग्लैंड तनाव के जवाब में कोर्टिसोल और प्रोजेस्टेरोन का स्राव करती हैं। हालाँकि प्रोजेस्टेरोन अस्थायी रूप से तनाव या चिंता को कम कर सकता है, लेकिन यह आपके सामान्य मासिक धर्म चक्र को भी रोक सकता है।

ध्यान, गहरी सांस लेने और अन्य प्राकृतिक तरीकों के जरिये अपने तनाव को कम करने से आपको बेहतर महसूस करने और अपने पीरियड्स को वापिस पटरी पर लाने में मदद मिल सकती है।

एक शोध के अनुसार, जो महिलाएं सप्ताह में 5 दिन रोज 35 मिनट के लिए योग का अभ्यास करती थीं, उनके पीरियड्स की अनियमितता, दर्द और पेट सम्बन्धी समस्याओं में सुधार देखा गया।

एक्यूपंक्चर का प्रयोग करके देखें

एक्यूपंक्चर में शरीर के विभिन्न ऊर्जा बिंदुओं पर बहुत पतली सुइयां चुभोई जाती हैं। पारंपरिक चीनी चिकित्सा के अनुसार, एक्यूपंक्चर शरीर में ऊर्जा के प्रवाह को संतुलित कर सकता है। यह पीरियड्स को नियंत्रित करने और दर्दनाक माहवारी के लक्षणों में सुधार करने में भी मदद कर सकता है।

कुछ शोधों से पता चलता है कि एक्यूपंक्चर महिलाओं में फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन के स्तर को कम कर सकता है और जिन महिलाओं का पीरियड रुक गया है उसे फिर से खोलने में मदद कर सकता है।

हॉर्मोन वाली गर्भनिरोधक दवाएं लें

रुके हुए पीरियड्स को दोबारा शुरू करने के लिए अक्सर हार्मोन वाली गर्भनिरोधक दवाएं भी दी जाती हैं।

बाजार में कई प्रकार की हार्मोनल गर्भनिरोधक दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन इन सभी का काम हार्मोन के स्तर को स्थिर करना होता है।

यह पीरियड्स को भी नियंत्रित कर सकती हैं और गंभीर ऐंठन या दर्द जैसे लक्षणों से राहत प्रदान कर सकती हैं। कुछ दवाएं तो आपके मासिक धर्म की अवधि को पूरी तरह समाप्त कर सकती हैं।

आपके लिए सबसे अच्छी कारगर दवा चुनने के लिए डॉक्टर की मदद लें। आपको इन दवाओं के कुछ दुष्प्रभाव अनुभव हो सकते हैं, जिनमें मतली, वजन बढ़ना या सिरदर्द शामिल हैं।

यदि आप धूम्रपान करती हैं, तो इस बारे में अपने डॉक्टर को जरूर बताएं। यह आपमें रक्त के थक्के बनने का जोखिम बढ़ा सकता है।

क्या अनियमित पीरियड्स आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं?

हालांकि कभी-कभार अनियमित पीरियड होना आम बात है, लेकिन यदि यह बार-बार आपमें होता है तो आपका प्रेग्नेंट होना मुश्किल हो सकता है।

गर्भधारण करने के लिए सबसे जरूरी होता है ओवुलेशन के पहले और दौरान सेक्स करना, जो आपकी सबसे उपजाऊ अवधि होती है। मासिक धर्म का रुक जाना या अनियमित होना, आपमें यह निर्धारित करना मुश्किल बनाता है कि आप कब ओवुलेट करेंगी।

कुछ मामलों में, पीरियड्स का रुकना किसी अन्य अंतर्निहित समस्या का संकेत हो सकता है, जो प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है, जैसे कि पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (POC) या अंडाशय के कार्य में कमी।

यदि आपके पीरियड्स अनियमित हैं और आप गर्भधारण करना चाह रही हैं, तो किसी अच्छी स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलें।

डॉक्टर या स्त्री रोग विशेषज्ञ से कब मिलें?

हालाँकि कभी-कभार आपके पीरियड्स में बदलाव आना तनाव या अन्य जीवनशैली कारकों के कारण हो सकता है, लेकिन यदि लगातार यह अनियमितता बनी रहती है तो यह आपमें एक अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है।

डॉक्टर या एक स्त्री रोग विशेष्य से मिलें यदि:

  • आपको तीन महीने से पीरियड्स नहीं आये हैं
  • यदि आपको हर 21 दिनों में एक से ज्यादा बार पीरियड्स आते हैं
  • आपका पीरियड एक बार में एक सप्ताह से अधिक समय तक चलता है
  • यदि आपकी योनि से सामान्य से अधिक अधिक और तेजी से पानी निकलता है
  • आपके रक्त के थक्के सामान्य से बड़े निकलते हैं

डॉक्टर आपमें मौजूद अंतर्निहित कारणों का पता लगाने और बेहतर उपचार विकल्प निर्धारित करने में मदद करेगा।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.