पुरुषों के लिए केगेल एक्सरसाइज के फायदे और करने का तरीका

आपने शायद महिलाओं के लिए केगेल एक्सरसाइज के फायदों बारे में सुना होगा – लेकिन क्या यह पुरुषों के लिए भी फायदेमंद होती है?

कुछ शोध बताते हैं कि पेल्विक फ्लोर मांशपेशियों को मजबूत करने वाली यह एक्सरसाइज, पुरुषों में प्रोस्टेट सर्जरी के बाद मूत्राशय पर नियंत्रण बहाल करने में मदद कर सकती हैं।

कुछ पुरुषों के लिए, यह नामर्दी का इलाज करने, शीघ्रपतन को रोकने और वीर्य जल्दी गिरने से रोकने में भी मदद कर सकती है। इसके अलावा यह कामेच्छा और ऑर्गाज्म की तीव्रता बढ़ाने में भी मददगार होती है।

केगेल एक्सरसाइज के विभिन्न प्रकारों, करने के तरीकों और लाभों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ते रहें:

केगेल एक्सरसाइज क्या है?

केगेल एक्सरसाइज को पेल्विक फ्लोर मसल्स की एक्सरसाइज भी कहा जाता है। यह आपकी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को लक्षित करती है, जिन्हें प्यूबोकॉसीगल या पीसी मांसपेशियों के रूप में भी जाना जाता है।

पुरुषों और महिलाओं दोनों में पीसी मांसपेशियां होती हैं। यह आपके पेल्विक अंगों जैसे मूत्रमार्ग, मूत्राशय, आंत आदि के कामकाजों में सहायता प्रदान करती हैं। यह आपके अंगों को ठीक रखने, मूत्राशय पर अच्छे से नियंत्रण रखने और यौन क्रिया को बढ़ावा देने में मदद करती हैं।

समय के साथ पीसी मांसपेशियों का क्या होता है?

जब आप जवान होते हैं, तो आपकी पीसी मांसपेशियां आमतौर पर तनी हुई और मजबूत होती हैं।

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, वह कमजोर और ढीली हो सकती हैं।

प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी, मूत्राशय या आंत समस्याओं, गर्भावस्था या बच्चे के जन्म, या अन्य कारकों के परिणामस्वरूप भी पीसी मांसपेशियां बहुत कमजोर या ढीली हो सकती हैं।

इससे आपके यौन अंगों के कामकाज और मूत्राशय के नियंत्रण पर नकारात्मक प्रभाव पढ़ सकता है।

लेकिन जिस तरह आप नियमित वर्कआउट के जरिए अपने हाथ या पैर की मांसपेशियों को मजबूत कर सकते हैं, उसी तरह आप केगेल एक्सरसाइज से अपनी पीसी मांसपेशियों को भी मजबूत कर सकते हैं।

पुरुषों को केगेल एक्सरसाइज कैसे मदद कर सकती है?

पुरुषों के लिए केगेल एक्सरसाइज के लाभों के बारे में काफी कम शोध किये गए हैं। लेकिन इनके निष्कर्ष आशाजनक रहे हैं।

उदाहरण के लिए, 2014 में हुई एक शोध समीक्षा से पता चलता है कि केगेल एक्सरसाइज प्रोस्टेट सर्जरी के बाद पुरुषों में होने वाले जननांग तनाव से राहत देने में मदद कर सकती है। यह अतिसक्रिय मूत्राशय को राहत देने और कुछ पुरुषों में यौन क्रिया में सुधार करने में भी मदद कर सकती है।

क्या केगेल एक्सरसाइज आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बना सकती है?

केगेल व्यायाम से महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए यौन लाभ हो सकते हैं।

इंटरनेशनल यूरोगिनेकोलॉजी जर्नल के वैज्ञानिकों के अनुसार, कई शोधों ने महिलाओं में बेहतर यौन क्रिया के लिए पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों की एक्सरसाइज को फायदेमंद पाया है।

2015 में अमेरिका में हुए एक शोध से पता चलता है कि केगेल एक्सइरसीसे पुरुषों में नामर्दी के इलाज में भी मदद कर सकती है।

विशेष रूप से, यह क्रोनिक पेल्विक दर्द वाले पुरुषों में स्तंभन दोष, स्खलन नियंत्रण और संभोग तीव्रता में सुधार करने में मदद कर सकती है।

 
 
 
 

केगेल एक्सरसाइज कैसे करें?

पुरुष और महिला दोनों मूल रूप से एक ही तरह से केगेल एक्सरसाइज कर सकते हैं।

पहला कदम है आपको अपनी पीसी मांसपेशियों को खोजना। आप पेशाब करते समय इन मांसपेशियों की पहचान कर सकते हैं।

बस बीच-बीच में पेशाब रोकें। पेशाब को रोकने के लिए आप जिन मांसपेशियों का उपयोग करते हैं, वही आपके पीसी मांसपेशियां हैं।

यह वही मांसपेशियां हैं जिनका उपयोग करके आप गैस पास करने या मल त्यागने से रोकते हैं।

जब आप इन मांसपेशियों को सिकोड़ते हैं, तो आपके अंडकोष ऊपर की ओर उठा जाते हैं।

एक बार जब आप अपनी पीसी मांसपेशियों का पता लगा लेते हैं, तो इन्हें मजबूत बनाने का अभ्यास कर सकते हैं।

सबसे पहले इन मांसपेशियों को सिकोड़ें और 5 से 20 सेकंड के लिए होल्ड करें। फिर इन्हें ढीला छोड़ दें।

आप इस सरल एक्सरसाइज को लगातार 10 से 20 बार कर सकते हैं और दिन में तीन से चार बार दोहरा सकते हैं।

समय के साथ-साथ मांसपेशियों को सिकोड़ने के समय और संख्या को बढ़ाते जाएँ।

हालाँकि यह एक्सरसाइज काफी सरल होती है, लेकिन इसका फायदा नजर आने में समय लगता है। नियमित रूप से इसे करने से, समय के साथ आपकी पीसी की मांसपेशियां मजबूत होती जाएँगी।

अपनी एक्सरसाइज में विविधता जोड़ें

आप इस बुनियादी एक्सरसाइज पर विविधताएं भी आजमा सकते हैं।

उदाहरण के लिए, लगातार कई बार तेजी से अपनी पीसी मांसपेशियों को सिकोड़ें और छोड़ें। या उन्हें बहुत धीरे-धीरे सिकोड़ने का अभ्यास करें।

आप केगेल एक्सरसाइज करने की पोजीशन को भी बदलकर देख सकते हैं, जैसे खड़े होकर, बैठकर, लेटकर या उखरू बैठकर अभ्यास करना।

लेकिन जब आप केगेल एक्सरसाइज कर रहे हों, तो कोशिश करें कि अपनी अन्य मांसपेशियों, जैसे कि आपके पेट, कूल्हों या जांघों को कसने की कोशिश न करें।

न ही अपनी सांस रोकें। इसके बजाय, सामान्य रूप से सांस लेते हुए अपने शरीर के बाकी हिस्सों को स्थिर और शिथिल रखें।

ऐसी एक्सरसाइज जिसमें कोई मेहनत नहीं लगती

केगेल एक्सरसाइज में कोई जोखिम नहीं होता, कहीं भी करना आसान होता है, और इसे करने के लिए कोई मेहनत नहीं लगती।

इसलिए इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करना काफी आसान है। चाहे आप अपने ऑफिस में बैठे हों, लिफ्ट या लाइन में खड़े हों या लेटकर आराम कर रहे हैं, इसे बिना किसी की नजर में आये कर सकते हैं।

अंत में, इस एक्सरसाइज को नियमित करने से आपको बेहतर मूत्र नियंत्रण प्राप्त करने में मदद मिल सकती है, आपके जननांगों के कार्य में सुधार हो सकता है और सेक्स के दौरान शीघ्रपतन को रोका जा सकता है।